24.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

बिना पंखा के रैन बसेरा में रह रहे हैं लोग

जिले का एक बार फिर तापमान बढ़ने से लोग बेहाल है. ऐसे में शहरी बेघरों के लिए बनाए गए रैन बसेरा में रहना दूभर हो रहा है. दीनदयाल अंत्योदय योजनाएं राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन द्वारा संचालित दो रैन बसेरा है. पिछले एक साल से मांग के बाद भी नगर परिषद की तरफ से बसेरों में लगे पंखे को नहीं बनवाया गया.

संवाददाता, सीवान. जिले का एक बार फिर तापमान बढ़ने से लोग बेहाल है. ऐसे में शहरी बेघरों के लिए बनाए गए रैन बसेरा में रहना दूभर हो रहा है. दीनदयाल अंत्योदय योजनाएं राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन द्वारा संचालित दो रैन बसेरा है. पिछले एक साल से मांग के बाद भी नगर परिषद की तरफ से बसेरों में लगे पंखे को नहीं बनवाया गया. ऐसे में यहां रुकने वाले लोगों को गर्मी से परेशान होना पड़ रहा है. प्रभात खबर टीम ने एसपी आवास के समीप रैन बसेरा का पड़ताल किया तो पता चला कि यहां पिछले साल से रैन बसेरा के सभी पंखे खराब है. जिसको बदलने या बनवाने मांग की गई थी लेकिन अब तक एक भी सही नहीं हो पाया है. वही रैन बसेरा में ठहरनेे वाले लोगो के लिए भोजन की बात करें तो रैन बसेरा में सारा सामान तो है लेकिन गैस चूल्हा के अभाव में भोजन नही बनता है .इस रैन बसेरा में तकरीबन 20 बेड है.जिसको लेकर नगर परिषद को लगातार पत्र भेजे जा रहे हैं, लेकिन अभी तक कोई व्यवस्था नहीं की गई है. केयर टेकर अमृता शर्मा ने बताया की गर्मियों में लोगो को काफी परेशानी हो रही हैं. इस रैन बसेरा में प्रति दिन 18 से 20 लोग ठहरते हैं. शहर के ललित बस स्टैंड में 50 बेड वाला रैन बसेरा संचालित है.इस रैन बसेरा में भी में बिजली का संकट है. प्री पेड मीटर लगाये गये हैं, पर रिचार्ज न होने से आपूर्ति बाधित हो गया है. जिसके कारण लोग गर्मी में अपना रात बिताते हैं. गर्मियों में इससे रुकने वालों को काफी परेशानी होती है. ललित बस स्टैंड स्थित रैन बसेरा का प्रबंधक सोनाली कुमारी ने बताया की यहां गर्मियों में रोजाना 30 -35 लोग रात्रि में ठहरते हैं. लेकिन बिजली की काफी संकट हैं. दिसंबर से नहीं मिला वेतन रैन बसेरा के कर्मियों ने अपनी दर्द बयां करते हुए कहा की हमलोग प्रतिदिन अपना काम करते है.समय का ध्यान रखते हुए रैन बसेरा की कमियों को दूर करने में लगे रहते हैं. लेकिन बीते छह महीने से अब तक वेतन भुगतान नहीं होने के कारण अब हमलोग भुखमरी के कगार पर हैं.कई बार इसको लेकर मांग की गई है लेकिन अबतक नही हुआ. 30 रुपये में मिलता है भोजन बताते चलें की ललित बस स्टैंड में ठहरने वाले लोगो को भोजन की व्यवस्था है.जो खुद ही रैन बसेरा के कर्मी बनाते हैं. जिसमें रोटी ,दाल और सब्जी मात्र 30 रूपये में परोसा जाता है. लेकिन दोनों रैन बसेरा के रात्रि प्रहरी फरार हो जाते हैं. नगर परिषद इओ अरविंद कुमार सिंह ने बताया की इसकी जानकारी नहीं है. जो भी कमियां है उसे दूर कर लिया जायेगा.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें