1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. saharsa
  5. doctors were not in the subdivision hospital the death of the patient the uproar of the outrage

अनुमंडलीय अस्पताल में नहीं थे डॉक्टर , मरीज की मौत पर आक्रोशितों का हंगामा

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date

सहरसा: गुरुवार को सिमरी बख़्तियारपुर अंतर्गत अनुमंडलीय अस्पताल में एक सर्पदंश की शिकार मरीज की मौत के बाद इलाज में डॉक्टरों द्वारा लापरवाही बरतने का आरोप लगा मरीज के परिजनों ने अस्पताल में जम कर हंगामा किया और तोड़फोड़ की. मिली जानकारी के अनुसार सिमरी बख्तियारपुर अंतर्गत सिमरी पंचायत के द्वारिका टोला वार्ड संख्या 14 निवासी स्व मो जलील की पुत्री 35 वर्षीया जशीमा खातून गुरुवार को सिमरी के बहियार में घास काटने गयी थी. घास लेकर घर पहुंचने के बाद अचानक तबीयत खराब होने लगी. जिसके बाद आनन फानन में परिजनों द्वारा महिला को सिमरी बख़्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल लाया.

अस्पताल पहुंचने के बाद जब महिला के परिजनों ने चिकित्सकों की खोज शुरू की तो चिकित्सक नदारद दिखे. काफी देर बाद बाद चिकित्सक पहुंचे तो मरीज को देखते ही उसे मृत घोषित कर दिया. जिसके बाद परिजन आक्रोशित हो गये. इसके बाद परिजनों ने डॉक्टर की लेट लतीफी को महिला की मौत का जिम्मेवार बताया. परिजनों ने बताया कि अस्पताल लाने पर महिला जीवित थी. लेकिन डॉक्टरों के उपलब्ध ना रहने के कारण महिला की मौत हो गयी. वहीं महिला की मौत के बाद ग्रामीणों ने शव को अस्पताल के बरामदे पर रख दिया. घटना की सूचना पर राजद के प्रखंड अध्यक्ष हैलाल असरफ, जाप नेता पुनपुन यादव ने अस्पताल पहुंच परिजनों से बात की. जिसके बाद शव के पास बैठ कर जाप नेता पुनपुन यादव ने प्रदर्शन किया और अस्पताल प्रशासन के खिलाफ जम कर नारेबाजी की.

प्रदर्शनकारी मौत के जिम्मेवार पर कार्रवाई और मुआवजा देने की मांग कर रहे थे. इस दौरान अस्पताल उपाधीक्षक डॉ एनके सिन्हा के पर कार्रवाई की मांग की गयी. जाप नेता पुनपुन यादव ने बताया कि अस्पताल की लापरवाही से महिला की मौत हो गयी. अस्पताल के डॉक्टर यदि सजग रहकर इलाज करते तो आज महिला जिंदा रहती. वहीं घटना की सूचना पर बख़्तियारपुर पुलिस के एएसआई जितेंद्र पांडेय ने दल बल के साथ पहुंच कर आक्रोशित लोगों को शांत कराया. इधर घटना पर अस्पताल उपाधीक्षक डॉ एनके सिन्हा ने बताया कि मरीज की मौत अस्पताल आने से पहले ही हो गयी थी. अस्पताल पर लगाया गया आरोप सरासर बेबुनियाद है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें