1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. eid 2022 ajan to patna mahavir temple and jama masjid management has no problem with bhajan kirtan ksl

Eid 2022: अजान के समय लाउडस्पीकर बंद करता है पटना महावीर मंदिर, जामा मस्जिद रखता है रामभक्तों का ख्याल

देश में चल रहे लाउडस्पीकर विवाद के बीच ईद के मौके पर महावीर मंदिर प्रबंधन ने कहा है कि अजान से कोई परेशानी नहीं है. जामा मस्जिद ने कहा है कि मंदिर के भजन-कीर्तन से कोई दिक्कत नहीं है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Eid 2022:  महावीर मंदिर के अध्यक्ष किशोर कुणाल और जामा मस्जिद के अध्यक्ष फैसल इमाम.
Eid 2022: महावीर मंदिर के अध्यक्ष किशोर कुणाल और जामा मस्जिद के अध्यक्ष फैसल इमाम.
ANI

Eid 2022: देश में चल रहे लाउडस्पीकर विवाद के बीच ईद के मौके पर राजधानी पटना के प्रसिद्ध महावीर मंदिर और करीब 50 मीटर की दूरी पर स्थित जामा मस्जिद भाईचारे का संदेश पेश करते हुए मिसाल पेश करते रहे हैं. इस संबंध में मंदिर और मस्जिद दोनों के प्रबंधनों ने एक-दूसरे के धर्मों के सम्मान की बात कही है.

पटना के महावीर मंदिर के अध्यक्ष किशोर कुणाल ने कहा है कि पटना में एक मस्जिद 50 मीटर की दूरी पर स्थित एक मंदिर अजान के दौरान अपने लाउडस्पीकर बंद कर देता है, जबकि मस्जिद एक-दूसरे के प्रति श्रद्धा के प्रतीक के रूप में मंदिर के भक्तों की देखभाल करती है.

वहीं, पटना रेलवे स्टेशन के पास स्थित जामा मस्जिद के अध्यक्ष फैसल इमाम ने कहा है कि हमने रामनवमी पर मंदिर में आनेवाले भक्तों को शरबत की पेशकश की. क्योंकि, वे मस्जिद के सामने कतार में थे. मंदिर में लाउडस्पीकर पूरे दिन भजन-कीर्तन बजाते हैं, लेकिन अजान के दौरान सम्मान के प्रतीक के रूप में बंद कर दिये जाते हैं. सौहार्द की भावना है.

पटना के महावीर मंदिर के अध्यक्ष किशोर कुणाल ने कहा कि ना तो हमें अजान से कोई दिक्कत है और ना ही उन्हें भजन-कीर्तन से कोई दिक्कत है. हम आपस में भाईचारा बनाये रखते हैं. साथ ही अक्सर एक-दूसरे की मदद करते हैं.

मालूम हो कि इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी शनिवार को पूर्णिया में बिहार के मस्जिदों में लाउडस्पीकर पर पाबंदी लगाये जाने के पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा था कि यह फिजुल की बात है. बिहार में हमलोग किसी भी धर्म के मामले में हस्तक्षेप नहीं करते हैं. सभी को अपना धर्म मानने का पूरा अधिकार है. बिहार में ये सब चलने वाला नहीं है, धर्म के मामले में कोई हस्तक्षेप बर्दास्त नहीं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें