आज सीएम करेंगे बिहार म्यूजियम का उद्घाटन

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
पटना. पटना में बनने वाले अंतरराष्ट्रीय स्तर के संग्रहालय ‘ बिहार संग्रहालय ’ का उद्घाटन शुक्रवार को होगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसका उद्घाटन करेंगे. साढ़े 13 एकड़ में बने बिहार संग्रहालय पर 498.49 करोड़ खर्च हुए है. बिहार संग्रहालय का निर्माण कार्य अप्रैल, 2013 में शुरू हुआ था. इसका निर्माण कनाडा के कंसल्टेंट लॉर्ड कल्चरल रिसोर्सेज व जापान के आर्किटेक्ट मॉकी एंड एसोसिएट की देखरेख में एलएंडटी ने किया है. आयकर गोलंबर के पास बन रहे नियोजन भवन का उद्घाटन 11 अगस्त को होगा.
छह माह में पूरा हो जायेगा बिहार संग्राहालय का निर्माण कार्य
कला एवं संस्कृति विभाग के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह ने कहा है कि छह माह के अंदर बिहार संग्रहालय का निर्माण कार्य पूरा हो जायेगा. उन्होंने कहा कि 2009 में कैबिनेट की बैठक में अंतरराष्ट्रीय स्तर के संग्रहालय निर्माण का निर्णय लिया था. इसके निर्माण में अंतरराष्ट्रीय स्तर के कंसल्टेंट का सहयोग लिया गया. निर्माण का काम एल एंड टी कंपनी ने किया है. निर्माण कार्य में हुए खर्च और विशेषता की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि फिलहाल चाइल्ड गैलरी और इतिहास दीर्घा के निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है. सिंह ने बताया कि इसका उद्घाटन पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री करेंगे.

बिहार संग्रहालय के निर्माण के अवधारणा के बारे में उन्होंने कहा कि मकसद यह है कि सभी उम्र और सभी प्रकार के लोगों को इतिहास और अपने विरासत के बारे में जानकारी हो. हाल के दिनों में संग्रहालय निर्माण पर हाइकोर्ट की टिप्पणी पर कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार करते हुए उन्होंने कहा कि बच्चे लर्निग वीथ प्लेयींग (खेल खेल में विरासत की जानकारी प्राप्त करना) के तर्ज पर अपनी विरासत के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे. उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि सिर्फ बिहार संग्रहालय के लिए हम चिंतित नहीं है बल्कि राज्य के अन्य संग्रहालय और ऐतिहासिक धरोहर को भी समृद्ध कर रहे हैं.पटना, गया और दरभंगा के संग्रहालय को विकसित करने के लिए एक माह के अंदर कार्य शुरू कर दिया जायेगा.

बच्चे बनेंगे मगध सम्राट
संग्रहालय के निदेशक डा जयप्रकाश सिंह ने कहा कि बच्चों के लिए इतिहास और विरासत की जानकारी लिए टच स्क्रीन के माध्यम से किसी महान सम्राट के बारे में जानकारी मिलेगा. एक बटन दबाने के साथ ही कुछ प्रश्न पूछे जायेंगे और कहा जायेगा कि मगध के सम्राट बनने के लिए प्रश्न का जवाब दें. बच्चे से इतिहास के बारे में प्रश्न पूछा जायेगा. सही जवाब देने पर बच्च को कहा जायेगा कि आप मगध सम्राट बन गये.

संग्रहालय में प्रवेश शुल्क होगा 50 रुपये
निदेशक डा सिंह ने कहा कि संग्रहालय में 25 हजार ऐतिहासिक सामग्री देखा जा सकता है. इसके लिए फिलहाल तीन क्यूरेटर की नियुक्ति की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि प्रवेश शुल्क के रूप में 50 रुपये लिया जायेगा. छात्रों के लिए शुल्क 25 रुपये तय किया गया है.
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें