कन्हैया की प्रेस वार्ता में जब महिला ने पूछना चाहा सवाल, फिर...

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : एनआरसी, एनपीआर, सीएए विरोधी संघर्ष मोर्चा के बैनर तले शनिवार कोबिहारकी राजधानी पटना में जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार की प्रेस वार्ता के दौरानएक महिलाद्वारा हंगामा किये जाने की खबर है. जानकारी के मुताबिक, प्रेस वार्ता के दौरान महिला ने कन्हैया कुमार से सवाल पूछना चाहा,तो उसे चुप करा दिया गया कि प्रेस वार्ता है. इसको लेकर महिला हंगामा करने लगी. काफी समझाने के बाद भी वह बोलती रही. बाद में मोर्चा के सदस्य महिला को साइड में ले गये और उसे चुप करा दिया.

27 को पटना के गांधी मैदान में होगी ऐतिहासिक महारैली : कन्हैया

प्रेस वार्ता के दौरान जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार कहा कि जन-गण-मन यात्रा राजनीतिक यात्रा नहीं थी. हम देशभर में कहीं भी कट्टरपंथियों के समर्थन में नहीं है. देश हमारा है. हम सिर्फ इस काले कानून के विरोध में यात्रा की है, जिसके आक्रोश में देशभर में प्रदर्शन हो रहे है. उन्होंने कहा कि यात्रा के बाद 27 को गांधी मैदान में ऐतिहासिक महारैली होगी. इसमें पांच लाख से अधिक लोग आयेंगे.

कन्हैया बोले, मुझे कुर्सी नहीं, देश से प्यार है

कन्हैया कुमार से जब पत्रकारों ने पूछा कि आपको प्रशांत किशोर की तरफ से मिलने का निमंत्रण आया है, तो उन्होंने कहा कि मुझे कुर्सी नहीं देश से प्यार है. एनडीए को छोड़ कर कर सभी पार्टियों के साथ है. लेकिन, प्रशांत किशोर ने हमें मिलने का कोई आमंत्रण नहीं दिया है. अगर बिहार के विकास और संविधान बचाने के मुद्दे पर सब मिलकर लड़े, तो बहुत बेहतर होगा. मौके पर शकील अहमद, निवेदिता झा थी.

यात्रा के दौरान 9 जिलों में मुझ पर हुआ हमला

कन्हैया ने कहा कि 26 फरवरी तक पटना जिला में कार्यक्रम करेंगे. यात्रा में नौ जिलों में हम पर हमला हुआ है. लेकिन, बाकी जिलों में शांतिपूर्वक रहा. रोजगार नहीं है और गांव में युवा नहीं है. यात्रा के दौरान मालूम हुआ कि सभी युवा कहीं ना कहीं रोजगार के लिए गये है.

PM पर निशाना

कन्हैया ने कहा कि प्रधानमंत्री दिल्ली में लिट्टी-चोखा खाये हैं. लेकिन, मुझे पूरा भरोसा है कि वह बिहार को धोखा देंगे. देश के लोगों को रोजगार, शिखा और स्वास्थ्य सुविधा चाहिए. एनआरसी, सीएए और एनपीआर के विरोध में बिहार सरकार है, तो उन्हें विधानसभा के सत्र में इसे पारित करना चाहिए, ताकि जनता को भी भरोसा हो सके.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें