पटना में पकड़ा गया दाऊद और छाेटा राजन का गुर्गा रहा एजाज लकड़ावाला

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना/मुंबई : अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम व छोटा राजन के खास गुर्गे रहे एजाज युसूफ लकड़ावाला को जक्कनपुर थाने के मीठापुर बस स्टैंड के पास से बुधवार की सुबह गिरफ्तार किया गया. उसकी योजना यहां से बेंगलुरु होते हुए मुंबई भागने की थी.

इसके लिए वह ट्रेन पकड़ने पटना जंक्शन जानेवाला था, तभी बिहार पुलिस और राज्य एटीएस की मदद से उसे मुंबई पुलिस (क्राइम ब्रांच) की टीम ने पकड़ लिया और अपने साथ ले गयी. उसके पास से 10 हजार नेपाली करेंसी और ढाई हजार भारतीय रुपये मिले हैं.
इन दिनों उसने अपना ठिकाना कनाडा में बना रखा था. उससे शुरुआती पूछताछ में यह पता चला कि वह नेपाल की राजधानी काठमांडो से पहले मोतिहारी पहुंचा. फिर बस से पटना के मीठापुर बस स्टैंड पहुंचा. उसने बस स्टैंड के पास के एक होटल में कुछ घंटों के लिए सिर्फ फ्रेश होने के नाम पर कमरा लिया था.
इसके बाद उसने जैसे ही सीधे पटना जंक्शन जाने की कोशिश की, पुलिस ने उसे पकड़ लिया. इसके बाद दोपहर डेढ़ बजे की फ्लाइट से मुंबई पुलिस की चार सदस्यीय टीम उसे लेकर मुंबई चली गयी. बताया जा रहा है कि मोतिहारी में वह एक सामान्य से होटल में गलत नाम और पता बताकर एक दिन के लिए रुका भी था.
पूरा हुलिया बदल रखा था एजाज ने
एजाज ने नेपाल पहुंचने से पहले अपना पूरा हुलिया ही बदल लिया था. लेकिन, खुफिया इनपुट के आधार पर काठमांडो से मोतिहारी पहुंचते ही आइबी ने उसकी हर गतिविधि पर लगातार नजर बनायी रखी. इसके बाद इस पूरे ऑपरेशन को अंजाम दिया गया.
मुंबई पुलिस ले गयी अपने साथ, कोर्ट ने 21 जनवरी तक भेजा हिरासत में
पटना से बेंगलुरु होते हुए मुंबई भागने की थी तैयारी
मोबाइल फोन में मिला छोटा शकील का नंबर
दाऊद ओर छोटा राजन से अलग होकर बनाया अपना गैंग
मुंबई पुलिस ने बताया कि एजाज लकड़ावाला पहले दाऊद इब्राहिम के साथ था, लेकिन 1993 में मुंबई में हुए बम धमाकों के बाद छोटा राजन के अलग होने पर वह उसके साथ चला गया. वर्ष 2008 में वह छोटा राजन से भी अलग हो गया और अपना अलग गैंग बना लिया. हालांकि, कथित रूप से अलग गैंग बनाने के बाद भी वह छोटा राजन के संपर्क में बना रहा.
जब छोटा राजन के साथ बैंकॉक में अपना ठिकाना बनाया था, तब उस पर गोली चली थी, जिसमें वह बुरी तरह से घायल हो गया. इसके बाद उसने अपना ठिकाना बदल कर कनाडा में बना लिया था. वर्तमान में वह वहीं से अपने पूरे गैंग को ऑपरेट करता था. वह मुख्य रूप से बिल्डरों से वसूली करता था.
पटना के एक व्यक्ति से की थी बात
सूत्रों के अनुसार, इस दौरान उसने मोतिहारी में दो और पटना में किसी एक व्यक्ति से बात भी की थी. फिलहाल इन लोगों की पहचान की जा रही है. जल्द ही इन लोगों से भी पूछताछ की जा सकती है. गिरफ्तारी के बाद जब उसके स्मार्ट फोन की जांच की गयी, तो दाऊद इब्राहिम के सबसे खास गुर्गे छोटा शकील का मोबाइल नंबर मिला है.
नेपाल से पटना पहुंचने तक उसकी लगातार इस नंबर पर बात भी हो रही थी. उसके सभी कॉल डिटेल को निकाला जा रहा है, जिसके बाद कई बड़े खुलासे हो सकते हैं. छोटा शकील भारत में मोस्टवांटेड अपराधी घोषित है.
27 मामले हैं दर्ज
एजाज को पटना से मुंबई लाने के बाद मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 21 जनवरी तक पुलिस हिरासत में भेजा गया. एजाज पर करीब 27 आपराधिक मामले दर्ज हैं. इनमें 'मकोका' का भी मामला है. उसके खिलाफ पुलिस को करीब 80 शिकायतें मिली हैं.
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें