निरीक्षण में अनुपस्थित पाये गये कई कर्मियों के वेतन कटे

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बिहारशरीफ : सिविल सर्जन डॉ राम सिंह ने मंगलवार को जिले के राजगीर अनुमंडलीय अस्पताल समेत चार अस्पतालों की औचक जांच की. इस दौरान विभिन्न अस्पतालों के कई स्वास्थ्य कर्मी बिना सूचना के ड्यूटी से गायब मिले.

गायब स्वास्थ्यकर्मियों से जवाब- तलब करते हुए अनुपस्थित अवधि के वेतन पर रोक लगा दी. स्पष्टीकरण का जवाब संबंधित कर्मचारियों को शीघ्र देने को कहा गया है. साथ ही समय पर अस्पताल में उपस्थित होकर ड्यूटी करने का सख्त निर्देश दिया है.
प्रकाश पर्व के मद्देनजर की गयी चिकित्सा व्यवस्था का जायजा लिया
सीएस डॉ सिंह ने बताया कि राजगीर अनुमंडलीय अस्पताल की जांच के दौरान प्रकाश पर्व के मद्देनजर की गयी चिकित्सा व्यवस्था का जायजा लिया. इस दौरान उन्होंने अस्पताल के उपाधीक्षक को इस संबंध में कई दिशा- निर्देश दिये.
जिन जगहों पर तैनात होनेवाली मेडिकल टीम के बारे में भी जानकारी हासिल की. साथ संबंधित स्थल का भी मुआयना किया. उन्होंने कहा कि मेडिकल टीम पर पैनी नजर रखेंगे. राजगीर में तीन दिवसीय प्रकाश पर्व 27 दिसंबर से शुरू होनेवाला है. इसके मद्देनजर अस्पताल की चिकित्सा व्यवस्था को और भी सुदृढ़ बनायी गयी है.
उपाधीक्षक को निर्देश दिया गया कि टीम को चौबीसों घंटे चिकित्सीय सुविधाओं से लैस रखेंगे. सिविल सर्जन डॉ सिंह ने बताया कि सिलाव पीएचसी के तहत संचालित सिथौरा अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का भी औचक जांच की गयी. इस दौरान वहां निरीक्षण के वक्त डॉक्टर मौजूद नहीं पाये गये, लेकिन फोन करने पर चिकित्सा पदाधिकारी अस्पताल में उपस्थित हो गये.
कर्मियों की उपस्थिति पंजी की जांच में एएनएम राधिका कुमारी, शोभा कुमारी व उषा कुमारी बिना सूचना के ड्यूटी से गायब थीं. उन्होंने बताया कि अनुपस्थित कर्मियों से जवाब-तलब करते हुए अनुपस्थित अवधि के वेतन पर रोक लगा दी गयी है.
उन्होंने बताया कि उक्त चिकित्सा पदाधिकारी के बारे में पता चला कि सिथौरा के अलावा करियन्ना व सिलाव पीएचसी में ड्यूटी करते हैं. इस मामले में सिलाव पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से जानकारी ली जायेगी. उन्होंने बताया कि एक चिकित्सक से एक ही जगह काम लिया जायेगा.
अमीरगंज एपीएचसी की सफाई व्यवस्था दुरुस्त नहीं पायी गयी
सिविल सर्जन डॉ सिंह ने बताया कि राजगीर के अमीरगंज एपीएचसी की भी जांच की गयी. निरीक्षण के दौरान दो चिकित्सा पदाधिकारी व कई कर्मी भी मौजूद थे. उन्होंने बताया कि अस्पताल के विभिन्न वार्डों, कक्षों का निरीक्षण भी किया गया.
इस दौरान अस्पताल की सफाई व्यवस्था दुरुस्त नहीं पायी गयी. इस मामले को सीएस ने गंभीरता से लिया. उन्होंने सफाई की लचर व्यवस्था के मामले में आउटसोर्सिंग कर्मी के वेतन पर रोक लगा दी.
साथ ही अस्पताल की सफाई व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने का निर्देश दिया. इसी तरह सीएस ने एपीएचसी करियन्ना की भी जांच की. जांच के दौरान कर्मी उपस्थित पाये गये. उन्होंने बताया कि संबंधित पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि डॉक्टरों से लेकर कर्मियों तक की उपस्थिति हर दिन ससमय सुनिश्चित कराएं.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें