1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. muzaffarpur
  5. viral fever in child symptoms cases more than 200 in muzaffarpur hospital baccho me bukhar skt

Bihar News: बिहार में वायरल बुखार का प्रकोप बढ़ा, मुजफ्फरपुर में इलाज के लिए आये 200 से अधिक बच्चे, 120 भर्ती

मुजफ्फरपुर जिले में वायरल बुखार प्रकोप बढ़ता जा रहा है. अब बच्चे भी इसकी चपेट में आ रहे हैं. शनिवार को एसकेएमसीएच के पीकू वार्ड में 85, केजरीवाल अस्पताल में 30 और सदर अस्पताल में पांच बच्चों को भर्ती कर इलाज चल रहा है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बिहार में वायरल बुखार का प्रकोप बढ़ा
बिहार में वायरल बुखार का प्रकोप बढ़ा
prabhat khabar

मुजफ्फरपुर जिले में वायरल बुखार प्रकोप बढ़ता जा रहा है. अब बच्चे भी इसकी चपेट में आ रहे हैं. शनिवार को एसकेएमसीएच के पीकू वार्ड में 85, केजरीवाल अस्पताल में 30 और सदर अस्पताल में पांच बच्चों को भर्ती कर इलाज चल रहा है.

हर दिन अलग-अलग अस्पतालों के ओपीडी में 200 से अधिक बच्चे वायरल सहित अन्य बीमारी से पीड़ित होकर सरकारी अस्पताल में पहुंच रहे हैं. एसकेएमसीएच के शिशु रोग विशेषज्ञ का कहना है कि बच्चों में जो अभी वायरल बुखार हो रहा है, वह सामान्य वायरल इंफेक्शन नहीं है. बच्चों में अचानक हाई फीवर होकर सर्दी, जुकाम हो रहे हैं.

डॉक्टरों का कहना है कि चार से पांच दिन की दवा लेने के बाद उनकी सेहत में सुधार हो रहा है. इन बच्चों की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आ रही है. एसकेएमसीएच के पीकू में बुखार से पीड़ित रोज 10-15 बच्चे भर्ती किये जा रहे हैं. यह संख्या सामान्य दिनों की अपेक्षा 20-30 प्रतिशत अधिक है. केजरीवाल अस्पताल में 75 से 80, सदर अस्पताल में 50 से 60 और एसकेएमसीएच में 90 से 100 बीमार बच्चे आ रहे हैं.

अभी तक वायरल बुखार के जो मामले आ रहे थे, ये उससे अलग है. बच्चों में अचानक हाई फीवर क्यों आ रहा है, इसकी जांच की जा रही है. यूपी में भी ऐसी बीमारी से बच्चे पीड़ित हो रहे हैं. अधिकतर परिजन नजदीकी अस्पताल व क्लीनिक से दवा ले रहे हैं. इससे बच्चों के वायरल फीवर का सही आकलन नहीं हो पा रहा है.

डॉ गोपाल शंकर सहनी, शिशु रोग विशेषज्ञ, एसकेएमसीएच

बीमार बच्चों में ये हैं लक्षण

-तेज बुखार, जुकाम के साथ बुखार, नाक का बहना और दस्त

ये सावधानी बरतें

-बुखार आये तो पैरासिटामॉल के अलावा कोई दवा न दें

-लिक्विड डाइट लेते रहें

-छोटे बच्चों को मां का दूध पिलाते रहें

-पानी की कमी नहीं होने दें

-बुखार दो-तीन दिन में नहीं उतरे, तो डॉक्टर से परामर्श लें

POSTED BY: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें