29.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

गर्मी से पांच लोगों की मौत, सैकड़ों बीमार

भीषण गर्मी से पूरा जिला का त्राहिमाम कर रहा है. गुरुवार को जिले में भीषण गर्मी के कारण पांच लोगों की मौत हो गई.

जहानाबाद.

भीषण गर्मी से पूरा जिला का त्राहिमाम कर रहा है. गुरुवार को जिले में भीषण गर्मी के कारण पांच लोगों की मौत हो गई. आधिकारिक रूप से चार मौत की पुष्टि की गयी है. गुरुवार की सुबह गया जिले के अलीपुर थाना अंतर्गत चैता गांव निवासी श्याम सुंदर पांडेय की मौत हो गयी. श्यामसुंदर पांडेय पिकअप चलाते थे और वह पिकअप पर कच्चा नारियल यानी डॉभ लेकर जहानाबाद बाजार समिति स्थित फल मंडी में आए थे. पिकअप से उतरकर वह मंदिर प्रांगण में बैठे और लोगों से पानी मांगा इसके बाद में गिर गए और उनकी मौत हो गयी. पुलिस ने सबको अपने कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. सदर अस्पताल में इलाज कराने आए गर्मी से बेहोश एक व्यक्ति की गुरुवार की शाम मौत हो गई. मृतक मखदुमपुर प्रखंड के पाल्या गांव का दुलारचंद मांझी है जो घर से निकला था और गिरकर बेहोश हो गया. उसके बाद उसके नाक मुंह से खून आने लगा. इलाज के लिए मखदूमर रेफर अस्पताल लाया गया जहां से उसे सदर अस्पताल भेज दिया गया. सदर अस्पताल में ही उसकी मौत हो गयी. उसे इलाज के लिए बेड भी नहीं मिला था वह स्टेशन पर ही पड़ा था. उसके परिजन सदर अस्पताल के चिकित्सक पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं. उनका कहना है कि कोई देखने नहीं आया केवल पुर्जा पर सुई दवाई लिख दिया गया. सुई पड़ी लेकिन उसके बाद मौत हो गयी. उसी समय नदौल निवासी अरुण कुमार की मौत हो गयी. उनके पुत्र ने बताया कि वह अचानक गिर पड़े इसके बाद उन्हें उठाकर इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया लेकिन यहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया. मखदुमपुर के एक अन्य व्यक्ति ओमप्रकाश गुप्ता की मौत पीएमसीएच ले जाने के दौरान हो गई. उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया था जहां प्राथमिक उपचार के बाद डॉक्टरों ने पीएमसीएच रेफर कर दिया किंतु रास्ते में ही उसकी मौत हो गयी. इधर रतनी प्रखंड के कस्बा गांव में शंकर शर्मा की मौत लू और बुखार लगने के कारण हो गयी. सुबह में तबीयत खराब हुई और वह गिर गए बुखार आया इलाज हुआ किंतु शाम में उनकी मौत हो गयी. इधर सादर अस्पताल में भीषण गर्मी से बेहोश और बीमार होकर आने वाले मरीजों का तांता लगा है. हाल यह है कि मरीज को इलाज के लिए बेड नहीं मिल रहे हैं. कोई अपने मरीज को लेकर इधर दौड़ रहा है तो कोई अपने मरीज को लेकर उधर दौड़ रहा है. ऐसा लग रहा है कि एक बार फिर कोरोना जैसी स्थिति सामने आ गई है. अस्पताल की इमरजेंसी में इलाज के लिए एक ही डॉ उदय शंकर मौजूद थे. उनका कहना है कि हर सेकंड एक मरीज आ रहा है जिसमें हाई फिवर, हाई और लो वीपी लूज मोशन और बेहोशी जैसी शिकायत लेकर आ रहे हैं. बेड की कमी है। भीषण गर्मी का शिकार होकर जहानाबाद में चुनाव ड्यूटी करने आए सिक्किम के करीब 8 जवान बीमार हो गए. इनमें मधु गुरंग, सोनम, पूर्णे, लीनस लेपच, नीमा तेजिंग, सुरेश राम और ढकुमार शामिल हैं. इनका इलाज सदर अस्पताल में कराया गया है. वहीं पुलिस लाइन से एक महिला जमादार सहित छह बीमार लोगों का भी सदर अस्पताल में इलाज हुआ है. यह सभी भूषण गर्मी के कारण या तो बेहोश हुए हैं या फीवर और लूज मोशन तथा हा या लो बीपी के शिकार हुए हैं. इनमें माया कुमारी, रोहित गुप्ता, उपेंद्र राय, लक्ष्मीकांत, विनोद चौधरी और मनीष कुमार शामिल हैं. आरपीएफ के भी दो जवान भीषण गर्मी के कारण बीमार हो गए. आदिव और दीपक कुमार नामक जवानों का इलाज सदर अस्पताल में कराया गया. भीषण गर्मी के कारण एक शिक्षिका भी बेहोश हो गयी. उत्क्रमित मध्य विद्यालय सरथुआ की शिक्षिका पूनम कुमारी को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया. भीषण गर्मी को लेकर मौसम विभाग द्वारा सूबे में जारी अलर्ट में जहानाबाद जिले को रेड जोन में रखा गया है यानी जहानाबाद जिला उन जिलों में शामिल है जहां भीषण गर्मी के बाद सबसे अधिक तापमान और हीट वेव का सामना करना पड़ रहा है. रेड जोन में अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेंटीग्रेड से लेकर 48 डिग्री सेंटीग्रेड या इससे भी अधिक हो सकता है. गुरुवार को जहानाबाद जिले में अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेंटीग्रेड रिपोर्ट किया गया है. वहीं न्यूनतम तापमान भी 31 डिग्री सेंटीग्रेड पर रहा है.

मंगलवार और बुधवार को भी जिले का तापमान 45 डिग्री सेंटीग्रेड से अधिक ही था. मौसम विभाग के अनुसार बिहार में फिलहाल गर्मी से राहत दिखती नजर नहीं आ रही है. मौसम विभाग ने आगामी 8 जून तक कमोबेश इसी तरह का मौसम रहने का अनुमान लगाया है जिसके कारण बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर तमाम सरकारी और प्राइवेट स्कूल तथा कोचिंग संस्थानों को आगामी 8 जून तक के लिए बंद कर दिया गया है, इसके बावजूद सरकारी स्कूल के शिक्षकों को स्कूल जाना पड़ रहा है.

गर्मी ने एक बार फिर सारे रिकॉर्ड तोड़ डाले :

जिले का अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेंटीग्रेड के पर जा पहुंचा है. अधिकतम तापमान कम ह्यूमिडिटी और हिट वेव के कारण को चलते-चलते या घर में बैठे-बैठे अचानक गिर जा रहे हैं. कोई बेहोश हो जा रहा है तो कोई लूज मोशन या हाई बीपी और लो बीपी का शिकार हो रहा है. अस्पताल मोड़ के पास ऐसे ही गुरुवार की शाम एक ठेला चालक बेहोश हो गया जिसे लोगों ने उठा कर सदर अस्पताल पहुंचाया. हाल यह है कि पंखा और कूलर इस भीषण गर्मी से लड़ने में नाकाम साबित हो रहे हैं. पंखे और कूलर चलाने के बाद भी लोगों के शरीर का पसीना नहीं सूख रहा है. उस पर से बिजली की ट्रिपिंग के कारण बिजली बार-बार हो रही है. लोगों को दिन में न चैन मिल रहा है और न ही रात में आराम. लोगों का पूरा दिन घर में कैद होकर गुजर रहा है इसके बावजूद लोग भीषण गर्मी और हीट वेव का शिकार होकर बेहोश हो जा रहे हैं. अस्पताल में ऐसे मरीजों की लाइन लगी है. कम डॉक्टर और स्टाफ बेड के कारण मरीज का इलाज मुश्किल हो रहा है. चारों ओर लोग त्राहिमाम कर रहे हैं.

प्रचंड गर्मी और हिट वेव के कारण जिले के लोग गर्मी से त्राहिमाम कर रहे हैं. दोपहर में ऐसा लग रहा था जैसे मानो आसमान से आग बरस रहा हो. सूर्यदेव का रौद्र रूप देखकर लोग अचंभित हो रहे थे. भीषण गर्मी से बचने के लिए सब अपने अपने घरों में दुबक गए. दोपहर में शहर की सड़कों पर सन्नाटा छा गया. हाल यह था कि गर्मी और लू से बचने के लिए दुकानदारों ने भी दोपहर में अपनी आधी शटर गिरा दी थी. कईयों ने तो दोपहर में अपनी दुकान बंद करने में ही भलाई समझी क्योंकि सन्नाटी सड़कों पर ग्राहकों का टोटा पड़ा था और भीषण गर्मी जान लेने पर आमादा थी. इस साल जिले में मई में ही प्रचंड गर्मी अपना रौद्र रूप दिखा रही है. जून माह में क्या होगा. मई में इतनी भीषण गर्मी लोगों ने नहीं देखी थी. मुन्नी देवी 75 वर्षीय बताती हैं कि उन्होंने अपने जीवन काल में इतनी गर्मी नहीं देखी थी.

क्या कहते हैं डीएम

यह मामला मेरे संज्ञान में आया है. भीषण गर्मी से निबटने और सदर अस्पताल सहित सभी अस्पताल में बेहतर इलाज और सुविधा के लिए सिविल सर्जन को आवश्यक निर्देश दिए जा रहे हैं-अलंकृता पांडेय, डीएम, जहानाबाद

लू से वृद्ध की मौत :

रतनी प्रतिनिधि के अनुसार प्रखंड क्षेत्र के झरखा गांव में लू लगने से एक वृद्ध की मौत हो गई. मृत वृद्ध देवेंद्र शर्मा 60 वर्ष बताया जाता है. घटना के संबंध में बताया जाता है कि उक्त वृद्ध सुबह 10 बजे घर से रतनी बाजार पीएनबी बैंक में केवाईसी कराने के लिए निकले थे. बैंक से वापस घर आने के क्रम में गांव के कुछ दूरी पर कच्ची पगडंडी पर लेटे हुए थे. उसी रास्ते से ग्रामीण जा रहे थे, उनकी नजर इन पर पड़ी तो घर के परिवार को खबर दिया गया. घर के परिवार आए और उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रतनी लाया गया जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया. मौत की खबर सुनते ही परिवार में कोहराम मच गया.

भीषण गर्मी से ट्रक चालक की मौत, दो दर्जन से अधिक लोग अस्पताल में भर्ती : मखदुमपुर प्रतिनिधि के अनुसार गुरुवार को मौसम का तापमान बढ़ने एवं भीषण गर्मी से एक ट्रक की मौत हो गई. मृतक मुजफ्फरपुर का रहने वाला बताया जाता है जो पटना-गया राष्ट्रीय मार्ग के हो रहे निर्माण में राम कृपाल कंट्रक्शन में वाहन चलाता था. वहीं रेफरल अस्पताल मखदुमपुर में अब तक 27 मरीज भर्ती हो चुके हैं. जानकारी के अनुसार पिछले दो दिनों से आसमान से आग बरस रही है. तापमान 45 डिग्री तक पहुंच गया है जिसके कारण भीषण गर्मी प्रखंड में पड़ रहा है. वहीं भीषण गर्मी से गुरुवार की शाम राम कृपाल कंट्रक्शन कंपनी के एक चालक मुजफ्फरपुर निवासी की मौत रेफरल अस्पताल मखदुमपुर में हो गई है. वहीं अस्पताल सूत्रों की मानें तो भुवनेश्वर रावत, श्रीकांत शर्मा, शारदा देवी, रामवृक्ष यादव समेत दो दर्जन लोगों को विशेष इलाज के लिए गया मेडिकल अस्पताल रेफर किया जा चुका है. वहीं अस्पताल में दो दर्जन से अधिक मरीज अभी भी भर्ती हैं.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें