गुजरात पुलिस ने नहीं दर्ज किया हत्या का केस, अमरजीत के घर पर मचा कोहराम

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
कोंच (गया) : गया जिले के कोंच थाने के कौड़िया गांव के रहनेवाले राजदेव सिंह के 32 वर्षीय बेटे अमरजीत कुमार सिंह की गुजरात के सूरत में हत्या के बाद उनके घर में कोहराम मचा है. गांव में भी मातम सा माहौल हो गया है.
उनके घर पर लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी. स्थानीय जनप्रतिनिधियों का भी जमावड़ा लग गया. परिजनों ने बताया कि सूरत शहर में स्थित स्थानीय थाने में अमरजीत की हत्या की शिकायत लेकर उसका भाई पहुंचा, तो उसे थाने से डांट कर भगा दिया. पुलिस इस घटना को दुर्घटना का रंग देने में जुटी है, जबकि अमरजीत के शरीर पर किसी प्रकार के खरोंच का निशान नहीं है.
सिर्फ उसके सिर पर पिछले हिस्से में किसी लोहे के रॉड व चाकू से हमला करने के निशान देखे गये हैं. परिजनों ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम वहां के स्थानीय अस्पताल में कराया गया. अमरजीत के परिजनों ने बताया कि शव के अंतिम संस्कार के लिए उसे सड़क मार्ग से एंबुलेंस द्वारा सूरत से कोंच के कौड़िया गांव लाया जा रहा है. रविवार की शाम तक शव के घर पहुंचने की उम्मीद है.
मरजीत के पिता ने बताया कि वह करीब 15 वर्षों से सूरत में रह रहा था. वह कुछ ही दिन पहले वहां अपना मकान भी खरीदा था और अपने दो बच्चों व पत्नी के साथ वहां रह रहा था. फिलहाल वह पांडेसरा-जीआइडीसी आबिन कलर टेक्स्ट में नौकरी करता था. इसके साथ ही पिछले कुछ दिनों से उसने कंपनियों में मजदूर आपूर्ति का भी काम शुरू किया था.
गुजरात पुलिस ने नहीं दर्ज किया हत्या का केस
अमरजीत की हत्या शुक्रवार की रात गुजरात के सूरत शहर के पांडेसरा क्षेत्र में लोहे के रॉड से हमला कर वहां के स्थानीय लोगों ने कर दी. वह रात करीब साढ़े नौ बजे अपने कामकाज से लौटने के बाद घर पर खाना खा ही रहा था कि किसी ने फोन कर उसे बुलाया. पांडेसरा स्थित उसके निवास स्थल से करीब चार किलोमीटर की दूरी पर उसकी हत्या कर दी गयी.
पता चला है कि तीन लोगों ने उसे स्थानीय अस्पताल पहुंचा कर वहां से फरार हो गये. इसके बाद उसका फोटो स्थानीय व्हाटसअप ग्रुप में वायरल होने के बाद अमरजीत के छोटे भाई राकेश कुमार सिंह ने देखा और वह अस्पताल पहुंचा. लेकिन, तब अमरजीत अस्पताल में मृत मिला.
हत्या की शिकायत लेकर उसका भाई थाने पहुंचा, तो उसे डांट कर भगा दिया गया. पुलिस इस घटना को दुर्घटना का रंग देने में जुटी है. अमरजीत के पिता राजदेव सिंह ने बताया कि उसकी किसी से निजी दुश्मनी नहीं थी.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें