1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. darbhanga
  5. example presented after cremating 134 people dead from corona the ashes were immersed in the ganges asj

पेश की मिसाल: कोरोना से मृत 134 लोगों का अंतिम संस्कार कर गंगा में विसर्जित कीं अस्थियां

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
कबीर सेवा संस्थान के सदस्य
कबीर सेवा संस्थान के सदस्य
प्रभात खबर

दरभंगा. इंसानियत ज़िंदा है. कोरोना से मृत लोगों के रिश्तेदार जब शवों को छोड़ कर भाग खड़े हुए थे, तब कबीर सेवा संस्थान ने उनका अंतिम संस्कार किया था. अब संस्थान के स्वयंसेवकों ने ऐसे 88 लोगों की अस्थियां गंगा में विसर्जित कीं हैं. गंगा घाट पर मृतकों का श्राद्ध किया है.

जानकारी के अनुसार कबीर सेवा संस्थान ने कोरोना संक्रमण से मरे 88 लोगों की अस्थि का सोमवार को सिमरिया घाट पर गंगा में विसर्जन किया. अस्थि विसर्जन के बाद संस्थान के मंटू यादव, सुरेन्द्र महतो, मुकेश राय व पप्पू प्रधान ने घाट पर ही मुंडन कराया. मृतकों का सामूहिक श्राद्ध किया.

बता दें कि कोरोना संक्रमण से मृत्यु को प्राप्त 134 लोगों का दाह संस्कार भीगो मुक्तिधाम में कबीर सेवा संस्थान ने किया था. कई परिजन अपने संबंधी की अस्थि ले गये जबकि अधिकांश की अस्थि संस्थान में सुरक्षित रही. पिछले दिनों संस्थान ने शेष अस्थि का गंगा में विसर्जन का निर्णय लिया था.

कोरोना से मरे 134 मृतात्मा की शांति के लिए मुक्तिधाम बांध पर कल मंगलवार को दरिद्र नारायण भोज किया जाएगा. संस्थान के संरक्षक नवीन सिंहा ने बताया कि मुक्तिधाम में 134 शवों की अंत्येष्टि की गई. विभिन्न कारणों से 37 शवों का अस्थि कलश परिजन नहीं ले जा सके थे. वहीं ऐसा 51 अस्थि कलश भी था, जिसमें संशय की स्थिति थी कि उनके परिजन अस्थि ले गया या नहीं.

नियत समय पर और सूची में नाम, पता दर्ज कर अस्थि कलश ले जाने वाले कुल 44 इंट्री ही पाया गया. दो का स्पष्ट नाम, पता नहीं मिलने के कारण अस्थि को अभी सुरक्षित रखा गया है. इस प्रकार कुल 88 शवों की अस्थि को गंगा में प्रवाहित किया गया.

नवीन सिन्हा ने बताया कि कोरोना से मृत सभी 134 लोगों की आत्मा की शांति के लिए मंगलवार की शाम मुक्तिधाम बांध पर दरिद्र नारायण भोजन का कार्यक्रम है. यह आयोजन कबीर सेवा संस्थान, मुक्तिधाम जीर्णोद्धार समिति संयुक्त रूप से कर रहा है.

इसमें मृतक के परिजनों को भी आमंत्रित किया जा रहा है, जो अपने हाथों दरिद्र नारायण को भोजन कराकर मृतात्मा की मुक्ति की प्रार्थना करेंगे. साथ ही स्वयं भी प्रसाद ग्रहण करेंगे.

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें