आरक्षण का टोटा, कैसे लौटेंगे परदेसी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

दरभंगा : त्योहार का मौसम शुरू हो गया है. शारदीय नवरात्र सामने है. इसके बाद प्रकाश पर्व दीवाली तथा इसके बाद लोक आस्था का महापर्व छठ है. इसकी तैयारी चल रही है. इसे लेकर शहर से लेकर गांव तक में लोगों के बीच गजब का उत्साह है. हालांकि इस बार बाढ़ ने पूरी तरह से लोगों को झकझोड़ कर रख दिया है, बावजूद श्रद्धालु पूजन को लेकर उत्साहित हैं. एक तरफ जगह-जगह जहां दुर्गा पूजा को लेकर तैयारी को लेकर उत्साह है, वहीं दूसरी ओर इस अवसर परदेसी पूतों के आगमन को लेकर लोगों का मन अभी से प्रफुल्लित नजर आ रहा है.

वृद्ध मां-बाप एक ओर जहां अपनी बहू-बेटी के इस मौके पर आने को लेकर हर्षित नजर आ रहे हैं, वहीं दूसरी ओर नाती-पोतों के आगमन का उन्हें बेसब्री से इंतजार है. हालांकि परदेसी पूतों को इस त्योहार के मौसम में अपनी मातृभूमि वापस आना मुश्किल लग रहा है. कारण आगमन का सहज तथा मुख्यरूप से एक मात्र साधन ट्रेन में आरक्षण उपलब्ध नहीं है.
जिन लोगों को अभी तक आरक्षण नहीं मिल सका है, वे काफी परेशान हैं. वैसे पहले से आरक्षण करा चुके लोग इस चिंता से निश्चिंत हैं. रेलवे ने इसके लिए विशेष ट्रेनें तो दी हैं, लेकिन वे सभी भी फुल हो चुकी हैं. लिहाजा ट्रेन के फर्श पर बैठकर आने के सिवा कोई दूसरा चारा नहीं है.
छठ पर लौटते परदेसी : मिथिला क्षेत्र का शायद ही कोई ऐसा परिवार हो जिसके कम से कम एक सदस्य बाहर नहीं रहते हों. उल्लेखनीय है कि इस क्षेत्र के प्राय: सभी परिवार के सदस्य बाहर रहते हैं. कोई रोजी-रोटी के लिए बाहर गया हुआ है तो कोई पढ़ाई के लिए. कोई नौकरी की वजह से परदेसी बना हुआ है.
इस क्षेत्र में साल में दो अवसर ऐसे हैं जिस मौके पर परदेस रहनेवाले वापस अपने गांव लौटते हैं. इसमें होली के बाद दूसरा मौका यही है. यानी दुर्गा पूजा, दीवाली व छठ. इन्हीं दो अवसर पर गांव अपने परदेसी पूतों से गुलजार होते हैं. दूर-दूर रहनेवालों के फासले इन्हीं मौके पर मिटते हैं. एक-दूसरे से भेंट होती है. इस इलाके में अधिकांश लोग दुर्गा पूजा पर घर आते हैं और इसके बाद छठ पूजन के पश्चात ही वापस लौटते हैं. कमोबेश यह परंपरा सी बन गयी है.
लटका वेटिंग का बोर्ड
इस त्योहार के मौसम में परदेसियों के आगमन को लेकर ट्रेनों में काफी भीड़ बढ़ जाती है. कारण इस क्षेत्र के लोगों के लिए विशेषकर लंबे सफर के लिए ट्रेन ही एक मात्र सर्वसुलभ साधन है. एक साथ आगमन को लेकर ट्रेनों में आरक्षण उपलब्ध नहीं है. काफी पहले से ही सारे बर्थ बुक हैं. लंबी दूरी की सभी ट्रेनों में वेटिंग चल रही है. वेटिंग टिकट की फेहरिस्त भी काफी लंबी है. दुर्गा पूजा के समय तो वेटिंग लिस्ट अपेक्षाकृत छोटी भी है, लेकिन दीवाली व छठ के समय तो वेटिंग टिकट भी उपलब्ध नहीं है. एक माह से अधिक समय पहले से ही नो रूम का बोर्ड कई गाड़ियों में लटका हुआ है. अर्थात वेटिंग टिकट भी संबंधित तिथि को नहीं मिल रहे. ऐसे में लोगों के लिए घर वापस आना मुश्किलों भरा है.
दीवाली के समय वेटिंग भी नहीं
दरभंगा क्या उत्तर बिहार से दिल्ली आवागमन करनेवालों की पहली पसंद होने की वजह से बिहार संपर्क क्रांति सुपरफास्ट ट्रेन में दीवाली के समय वेटिंग टिकट भी नहीं है. वेटिंग रिग्रेट हो चुका है. दीवाली के बाद छठ के बीच में चार सौ से करीब प्रतीक्षा सूची है. इस मामले में इस इलाके के रेल यात्रियों की दूसरी पंसदीदा ट्रेन स्वतंत्रता सेनानी सुपरफास्ट में भी आरक्षण का टोटा है. आवक संपर्क क्रांति में 20 से 22 अक्टूबर तक नो रूम है.
लोक मान्य तिलक टर्मिनल से आनेवाली पवन एक्सप्रेस में भी वेटिंग लंबी है. यही हाल अमृतसर से आनेवाली शहीद व सरयू यमुना एक्सप्रेस की है. हैदराबाद के लिए चल रही स्पेशल ट्रेन का भी यही हाल है. अहमदाबाद, पुणे, बेंगलुरू मैसूर, सिकंदराबाद सहित कोलकाता से आनेवाली ट्रेनों में इस अवधि में आरक्षण नहीं मिल रहा.
नियमित आवक ट्रेनों में आरक्षण की स्थिति
ट्रेन नंबर व नाम कहां से कहां तक आरक्षण की उपलब्धतता
12566 संपर्क क्रांति नई दिल्ली से दरभंगा 4 दिसंबर
12562 स्वतंत्रता सेनानी नई दिल्ली से जयगनर 3 अक्टूबर
16474 शहदी एक्सप्रेस अमृतसर से जयनगर 2 नवंबर
14650 सरयू यमुना अमृतसर से जयगनर 2 दिसंबर
11061 पवन एक्सप्रेस लोक मान्य तिलक टर्मिनल से दरभंगा 28 नवंबर
12570 गरीब रथ आनंद बिहार टर्मिनल से जयनगर 31 अक्टूबर
19165 साबरमती अहमदाबाद से दरभंगा 29 नवंबर
11033 ज्ञानगंगा पुणे से दरभंगा 13 दिसंबर
13185 गंगासागर सियालदह से जयनगर 6 अक्टूबर
12578 बागमती मैसूर से दरभंगा
28 अक्टूबर
स्पेशल आवक ट्रेन में आरक्षण की स्थिति
ट्रेन का नंबर कहां से कहां तक आरक्षण उपलब्धतता
07007 हैदराबाद एक्सप्रेस हैदराबाद से रक्सौल 5 अक्टूबर
07005 सिंकदराबाद सिंकदराबाद से दरभंगा 24 अक्टूबर
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें