कपड़ा व्यवसायी को मारी गोली, मौत

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : जक्कनपुर थाने के चांदपुर बेला दोपुलवा में सोमवार को 11 बजे दिनदहाड़े हथियारबंद अपराधियों ने मकान सह दुकान के अंदर घुस कर मच्छरदानी व चादर के बड़े व्यवसायी व एसके टेक्सटाइल के मालिक हरिहर प्रसाद (72 वर्ष) की गोली मार कर हत्या कर दी. साथ ही काउंटर से 70 हजार नकद लेने के बाद अपराधियों ने दुकान के बाहर दो राउंड फायरिंग की और आराम से एक बाइक पर सवार होकर निकल भागे.

घटना के विरोध में स्थानीय दुकानदारों ने अपनी-अपनी दुकानों को बंद कर आक्रोश जताया और जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग की. इधर, पुलिस ने घटनास्थल से 7.65 एमएम पिस्टल के दो खोखे व एक जिंदा कारतूस बरामद किया है. बताया जाता है कि अपराधियों की तस्वीर दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गयी है.
विशेष टीम का गठन : हरिहर प्रसाद मूल रूप से असम के रहने वाले हैं. लेकिन, कई साल पहले पटना में आकर बस गये थे और मच्छरदानी व चादर बनाने का कारखाना दाेपुलवा स्थित अपने चार मंजिला मकान के ग्राउंड फ्लोर में खोल रखा था. जहां वे प्रतिदिन सुबह सात बजे से बैठते थे और बिहार के कोने-कोने से आने वाले दुकानदारों के साथ सामान की डीलिंग करते थे. हरिहर प्रसाद के दो बेटे सुरेंद्र कुमार व कृष्णा कुमार हैं. साथ ही उनकी चार बेटियां हैं.
सभी की शादी हो चुकी है. दोनों ही भाई अपने पिता के बिजनेस में हाथ बंटाते थे. सुरेंद्र व्यवसाय से जुड़े सामान को खरीदने के लिए पानीपत गये हुए हैं. घटना के समय कृष्णा दुकान की बगल में स्थित गोदाम में था. इस घटना के बाद विशेष टीम का गठन कर दिया गया है. इस घटना में लूट के साथ ही आपसी विवाद का भी मामला सामने आ रहा है.
काउंटर से 70 हजार नकद लेकर बाइक से आराम से
फरार हुए अपराधी
स्थानीय दुकानदारों ने अपनी-अपनी दुकानों को बंद कर जताया आक्रोश
हरिहर प्रसाद मूल रूप से असम के रहने वाले हैं. लेकिन, कई सालों से पटना में रहते थे
पैसे निकालो, पैसे निकालो कहते हुए तान दी पिस्तौल
चश्मदीद रणविजय ने बताया कि हरिहर प्रसाद 10 बजे नाश्ता करने के लिए घर के अंदर गये और करीब 11 बजे वापस लौट कर अपनी जगह पर बैठे थे. इसी बीच तीन में से दो अपराधी पहुंचे और पैसे निकाल, पैसे निकाल कहते हुए पिस्तौल तान दी. इसके बाद हरिहर प्रसाद वहां से उठ कर आगे बढ़ने लगे, तो पीछे खड़े अपराधी ने गोली मार दी. उन्होंने अपराधियों का विरोध तक नहीं किया था. गोली उनके कंधे में लगी थी.
की आवाज सुन कर रणविजय पहुंचा, तो अपराधियों ने उस पर भी पिस्तौल तान दी. उन दोनों का एक साथी बाइक स्टार्ट कर बाहर खड़ा था. दोनों काउंटर से पैसे निकालने के बाद दुकान से बाहर निकले और फायरिंग करते हुए बाइक पर बैठ कर फरार हो गये. उन्हें पीएमसीएच लाया गया. जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया.
सड़क जाम कर किया विरोध
पटना . व्यवसायी हरिहर प्रसाद की हत्या से गुस्साये लोगों ने सोमवार की देर शाम दोपुलवा इलाके में मुख्य सड़क को जाम कर दिया और हंगामा किया. इस दौरान पटना-पुनपुन मार्ग में वागमन ठप हो गया और वाहनों की लंबी लाइन लग गयी. काफी समझाने के बाद लोगों ने जाम को हटाया और आवागमन सुचारु हुआ.
पूर्व नियोजित साजिश की आशंका
हरिहर प्रसाद के छोटे बेटे कृष्णा कुमार ने बताया कि उनके पिता की पूर्व नियोजित साजिश के तहत हत्या की गयी है. उन लोगों की किसी से दुश्मनी नहीं थी और न ही किसी ने रंगदारी मांगी था. लूट की भी घटना नहीं है. वहीं, पुलिस को फिलहाल सटीक कारण की जानकारी नहीं मिली है और न ही परिजन कुछ जानकारी दे पा रहे हैं, जिसके कारण पुलिस फिलहाल इस मामले को रंगदारी, लूट या आपसी विवाद में हुई हत्या के बिंदु पर जांच कर रही है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें