टोक्यो के लिये नयी उम्मीदें जगाकर विदा हुआ 2019, किंग कोहली का रहा जलवा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नयी दिल्ली : क्रिकेट के मैदान पर सफलता की नयी सीढियां चढ़ रही भारतीय क्रिकेट टीम के लिये विश्व कप सेमीफाइनल में हार कसक बनकर रह गई, लेकिन ओलंपिक से जुड़े खेलों में शानदार प्रदर्शन से खिलाड़ियों ने टोक्यो 2020 के लिये नयी उम्मीदें जगाई.

हॉकी टीमों के लिये यह साल कामयाबी की नयी दास्तां लिख गया जिसमें पुरुष और महिला दोनों टीमों ने तोक्यो का टिकट कटाया. रियो ओलंपिक 2016 में नाकाम रहे निशानेबाजों ने इस साल राइफल पिस्टल विश्व कप और फाइनल्स में 21 स्वर्ण, छह रजत और तीन कांस्य पदक अपनी झोली में डाले.

इसके साथ ही 15 ओलंपिक कोटा स्थान भी भारत को मिले जो अब तक का रिकार्ड है. निशानेबाजी रेंज पर मनु भाकर, सौरभ चौधरी, दिव्यांश सिंह पंवार और इलावेनिल वालारिवान की युवा ब्रिगेड ने जलवा बिखेरा.

पहलवानों और मुक्केबाजों ने भी विश्व चैम्पियनशिप में उम्दा प्रदर्शन किया. कुश्ती में एक रजत और चार कांस्य समेत चार ओलंपिक कोटा भी भारत के नाम रहे. मुक्केबाजी रिंग में अमित पंघाल ने तीन स्वर्ण और विश्व चैम्पियनशिप में एक रजत पदक जीता.

एम सी मैरी कॉम ने विश्व चैम्पियनशिप में आठवां पदक जीता जिससे वह टूर्नामेंट के इतिहास की सबसे कामयाब मुक्केबाज बन गई. पंकज आडवाणी ने बिलियडर्स में रिकार्ड 23वां विश्व खिताब अपने नाम किया.

विराट कोहली और भारतीय क्रिकेट ने खत्म हो रहे साल में अच्छी प्रगति की जबकि सौरव गांगुली ने बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में नयी पारी की शुरुआत की. भारत ने साथ ही 2019 में अंतत: दिन-रात्रि टेस्ट खेला.

विश्व कप के सेमीफाइनल में भारत की हार दिल तोड़ने वाली रही जबकि महेंद्र सिंह धौनी के भविष्य को लेकर संशय बरकरार है जो पिछले छह महीने से क्रिकेट से दूर हैं. विश्व कप के सेमीफाइनल में भारत को न्यूजीलैंड ने हराया जिसमें धौनी का ‘रन आउट' बरसों तक उसी तरह याद रहेगा जिस तरह विश्व कप 2011 में हेलिकॉप्टर शाट पर विजयी छक्का.

फाइनल में हालांकि न्यूजीलैंड को निराशा हाथ लगी जब निर्धारित ओवर और फिर सुपर ओवर के बाद भी मैच टाई रहा और मेजबान इंग्लैंड को मैच में अधिक बाउंड्री लगाने के कारण विजेता घोषित किया गया.

बैडमिंटन कोर्ट पर पी वी सिंधू देश की पहली विश्व चैम्पियन बनी. वह हालांकि इसके अलावा कुछ नहीं जीत सकी. साइना नेहवाल चोट के कारण अधिकांश समय बाहर ही रही. विश्व चैम्पियनशिप में बी साइ प्रणीत ने प्रकाश पादुकोण के 36 वर्ष बाद पुरुष एकल में कांस्य पदक जीता.

टेनिस में सुमित नागल ने अमेरिकी ओपन के पहले दौर में रोजर फेडरर से एक सेट जीता. इसके अलावा भारतीय खिलाड़ियों के नाम कोई उपलब्धि नहीं रही. भारतीय टेनिस में कोर्ट के बाहर का ड्रामा बदस्तूर जारी रहा. पाकिस्तान के खिलाफ डेविस कप मुकाबले को लेकर यह चरम पर पहुंच गया.

महेश भूपति की अगुवाई में शीर्ष खिलाड़ियों ने सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान में खेलने से इनकार कर दिया था. प्रशासकों ने भी इस पर सहमति जताई नतीजतन आईटीएफ ने उनकी मांग मानते हुए डेविस कप मुकाबला कजाखस्तान में कराने का ऐलान किया. आईटीएफ के भारत का अनुरोध मानने के तुरंत बाद भारतीय टेनिस संघ ने भूपति को कप्तानी से हटा दिया.

इसके साथ ही पाकिस्तान जाने से इनकार करने वाले सभी खिलाड़ियों को हटा दिया गया. लिएंडर पेस ने पाकिस्तान के खिलाफ डेविस कप खेला और रिकार्ड 44वीं युगल जीत दर्ज की. उन्होंने अगले साल टेनिस को अलविदा कहने का भी ऐलान कर दिया.

एथलेटिक्स में भारत की पदक उम्मीद चक्काफेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा और फर्राटा धाविका हिमा दास चोटिल रहे. खेल पर डोपिंग और उम्र में धोखाधड़ी के विवादों का साया भी रहा. भारत ने मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले और पुरूषों के 3000 मीटर स्टीपलचेस में ओलंपिक कोटा हासिल किया.

फुटबॉल में सुनील छेत्री के शानदार प्रदर्शन को छोड़कर कुछ उल्लेखनीय नहीं रहा. अंतरराष्ट्रीय गोलों के मामले में छेत्री लियोनेल मेस्सी से आगे रहे. भारतीय टीम विश्व कप एशियाई क्वालीफायर से बाहर हो गई और फीफा रैंकिंग में 11 पायदान खिसकी. भारतीय पैरा एथलीटों ले 2020 पैरालम्पिक में 22 कोटा स्थान हासिल किये.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें