1. home Hindi News
  2. religion
  3. chanakya niti husband and wife will pay attention to these things there will never be discord in the house

Chanakya Niti: पति-पत्नी इन बातों पर देंगे ध्यान तो घर में कभी नहीं होगा कलह

By Radheshyam Kushwaha
Updated Date

Chanakya Niti Hindi: पति और पत्नी का सबसे अच्छे रिश्तों में एक रिश्ता माना जाता है. जीवन की खुशियों के लिए पति-पत्नी के रिश्ते को प्यार, विश्वास और समझदारी के धागों से मजबूत बनाना पड़ता है. पति और पत्नी की जोड़ियां स्वर्ग में बनती हैं और पृथ्वी पर उनका मिलन होता है. पति और पत्नी का रिश्ता सबसे पवित्र रिश्ता है. जिसमें सम्मान, विश्वास और अनुशासन का एक ऐसा तानाबाना है कि बुरे वक्त और उम्र के आखिरी पड़ाव तक कायम रहता है. मुश्किल के समय में एक-दूसरे का सहारा बनना पड़ता है. यही इस रिश्ते की सबसे बड़ी खूबसूरती है.

आचार्य चाणक्य ने पति-पत्नी के रिश्ते का बहुत ही गहराई से अध्ययन किया था, जो मनुष्य के जीवन को प्रभावित करता है. चाणक्य ने अपनी चाणक्य नीति में पति और पत्नी के रिश्ते पर भी गंभीरता से प्रकाश डाला है. उन्होंने पति और पत्नी के बीच रिश्तों को मजबूत बनाने के लिए चाणक्यन नीति में कई महत्वपूर्ण जानकारी दिये है. पति-पत्नी भगवान का बनाया हुआ एक अनमोल रिश्ता है. पति- पत्नी के रिश्ते में बहुत सी ऐसी बाते होती हैं, जो उनके रिश्ते की टाइम के साथ और भी मजबूत बना देती हैं. कहा जाता है कि पत्नी के बिना पति अधूरा रहता है और पति के बिना पत्नी अधूरी होती हैं. दोनों एक साथ मिलकर अपने आप को पूरा करते है.

पति और पत्नी के रिश्तें में किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं होना चाहिए. ये भावना रिश्ते को कमजोर करने में अहम भूमिका निभाती है. पति की नजर में पत्नी को कभी अपने से कमजोर नहीं समझा जाना चाहिए, ऐसा करने से संतुलन बिगड़ता है. जो आपकी ताकत बन सकती है. वहीं बाद में आपकी कमजोरी भी बन सकती है. पति और पत्नी के रिश्ते को गहरा करने के लिए एक दूसरे के साथ समय बिताये, वहीं उनकी बाते को सुने, उन्हें जानने की कोशिश करें, उनकी हर एक बात का ध्यान रखें, जिन चीजों से आपके साथी को खुशी मिलती हैं, उन्हें पूरा करने की कोशिश करें. इसके बाद रिश्ते मजबूत बनता जाएगा.

कोई भी फैसला अकेले न लें

घर परिवार के मामलों में कोई भी फैसला अकेला न करें. पति और पत्नी को मिलकर हर छोटे बड़े फैसले लेने चाहिए. ऐसा करने से रिश्ता मजबूत होता है और निर्णय सफल होने की संभावना बढ़ जाती है. इसलिए पति और पत्नी को मिलकर ही कोई फैसला करने की आदत डालनी चाहिए. वहीं, पति-पत्नी का रिश्ते में सम्मान और एक मर्यादा होती है. जिसका हमेशा ही ध्यान रखना चाहिए. एक दूसरे की कमजोरियों को किसी को नीचा दिखाने के लिए प्रयोग नहीं करना चाहिए. ऐसा करने से कलह पैदा होती है और रिश्ता कमजोर होता है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें