23.1 C
Ranchi
Wednesday, February 28, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Astrology: कुंडली में कमजोर बुध करते हैं बिजनेस और करियर तबाह, जानें इन 5 संकेतों से आने वाली मुसीबतें

Astrology: ज्योतिष शास्त्र में बुध को पृथ्वी तत्व माना गया है, इसकी जाति वैश्य और गुण रज माना गया है. ज्योतिष के अनुसार गुरु और राहु मिलकर बुध ग्रह बनते है. कमजोर बुध लोगों को मुसीबत में डाल देते है.

Astrology: ज्योतिष में सूर्य को ग्रहों का राजा पिता चन्द्रमा को ग्रहों की रानी और मंगल को ग्रहों का सेनापति और भाई का कारक माना गया है. वहीं बुध ग्रह को युवराज यानि ग्रहों का राजकुमार माना गया है. बुध ग्रह मिथुन राशि और कन्या राशि का स्वामी है. बुध कन्या में उच्च और मीन राशि में नीच होते है. मिथुन राशि बुध की अपनी राशि है. तुला राशि में यह सबसे अधिक प्रसन्न रहते हैं. साल में लगभग यह 24 दिन वक्री रहते हैं यानि उल्टी चाल चलते है. युवराज या युवराज्ञी इसलिए माना जाता है कि जब बुध की दशा और अन्तरदशा आती है तब यह तत्काल फल देते है. यह ग्रह बचपन में भी जल्दी प्रभावी हो जाते है, इसलिए इसे युवराज्ञी की संज्ञा दिया जाता है. बुध की महादशा 17 साल की होती है, इसका रंग हरा और रत्न पन्ना है.

व्यक्ति के जीवन में बुध का महत्व

ज्योतिष के हिसाब से देवता विष्णु भगवान और लाल किताब के हिसाब से दुर्गा माता मानी जाती है, इसकी दिशा उत्तर और दृष्टि तिरछी है. यह जिस घर में बैठते है उससे सप्तम दृष्टि से देखते है. विद्या, बुद्धि और मामा का विचार इससे किया जाता है. बुध प्रधान व्यक्ति अर्थशास्त्र, लेखाशास्त्र, शिल्पकला और रसायन शास्त्र और चिकित्सा शास्त्र अधिक पढ़ते है. कुंडली में बुध उत्तम होने पर व्यक्ति 32 से 36 वर्ष में विशेष शुभ प्रदर्शित करता है. यदि इस अवधि में दशा एवं अन्य ग्रह स्थिति भी अनुकूल हो तो सर्वाधिक उन्नति होती है. बुध प्रधान व्यक्ति निम्न व्यवसाय करते हैं. बैंकिंग व्यवसाय, रुपयों का लेने-देन तथा व्याज पर उधार देना, ज्योतिष या कर्मकाण्ड का काम पुरोहित का काम, लिपक, टाइपिस्ट, अध्यापन, प्रध्यापक, वकालत, अनुवादक, लेखक, संपादक, पत्रकार, प्रिटिंग प्रेस प्रकाशक, शिल्पकार, भवन निर्माता, पुस्तक विक्रेता, चालक, सेल्समैन संबंधी कार्य या व्यवसाय से धन प्राप्त करना और साहित्यक ज्ञान प्राप्त करना इनका विचार बुध से किया जाता है.

बुध खराब होने का लक्षण

ज्योतिष शास्त्र में बुध को पृथ्वी तत्व माना गया है, इसकी जाति वैश्य और गुण रज माना गया है. ज्योतिष के अनुसार गुरु और राहु मिलकर बुध ग्रह बनते है. राहु का रंग काला नीला और गुरु का पीला मिलाकर हरा बना है. कारक अच्छा है तो अच्छा फल देगा अगर कारक खराब हो तो अच्छा फल नहीं देगा, जिस जातक के दांत कम उम्र में खराब हो गये हैं बहन बुआ, मौसी कमजोर स्थिति में है या फिर बीमार रहती है या उनकी आर्थिक स्थिति खराब है या जातक से विचार नहीं मिलते है, इससे पता चलता है कि कुंडली में बुध खराब है या कमजोर स्थिति में है. चन्द्र राहु एक साथ होने पर बुध खराब हो जाता है.

Also Read: Astrology: क्या आपको पता है केला और नारियल पूजा-पाठ में क्यों रखता है खास स्थान, जानों ज्योतिषीय महत्व
बुद्धि का कारक ग्रह हैं बुध

बुध को बुद्धि का कारक माना गया. आगर जातक कि बुद्धि अच्छी है तो वह राजा बन जाता है, अगर बुद्धि खराब हो गई है उसका राज्य छीना जा सकता है. बुध के साथ केतु या मंगल मिलने से या इनकी दृष्टि पड़ने से बुध खराब कमजोर हो जाता है. सूर्य, शुक्र और राहु बुध ग्रह के मित्र है. वहीं चन्द्रमा बुध से शत्रुता करता है, लेकिन बुध चन्द्रमा से शत्रुता नहीं करता है. राहु और बुध जो आपस में मित्र और एक दूसरे के सहयोगी है. यदि किसी टेवे में दोनों ही मन्दे घरों में चले जाये. बुध 3, 8, 9, 12 राहु 1, 5, 7, 8, 11 तो जातक बहुत परेशान हो जायेगा. उसके दिमाग पर इतना बोझ होगा कि जिन्दा होते हुए भी जीवन का सुख नहीं पायेगा.

कमजोर विद्यार्थी का बुध कमजोर

ज्योतिष के अनुसार कमजोर विद्यार्थी का बुध कमजोर या खराब माना जाता है, जब बुध खराब हो तो बुध से संबंधित चीजों को अपने पास रखने से उसका बुरा प्रभाव और पड़ना शुरू हो जायेगा. ग्रहों के कारक से संबंधित चीजों से परहेज सहायता करेगा, जिसका बुध खराब है, उसे हरा कपड़ा नहीं पहनना चाहिए. बुध के बुरे प्रभाव से बचने के लिए 9 साल से कम उम्र कि कन्याओं के पैर धोकर खाना खिलाये. उसे हरा सूट दान करे. दुर्गा सप्तसती का रोज पाठ करे. जब बुध खराब हो उस समय पन्ना धारण नहीं करना चाहिए.

Also Read: Astrology Tips: घर में किस धातु के बर्तन का करना चाहिए प्रयोग, जानें ज्योतिषीय फायदे और नुकसान
बुध के बुरे प्रभाव से बचने के कुछ सामान्य उपाय

  • दुर्गा चालीसा का रोज पाठ करने से बुध के बुरे प्रभाव से बचाव होगा.

  • बुध को ठीक रखने के लिए मटर, हरी दालें. हरी साबूत मूंग, अमरूद, हरी सब्जियां अधिक से अधिक खाना चाहिए.

  • बुध ग्रह को मजबूत करने के लिए जातक को अपने पास इलायची रखना चाहिए और उसे दिन में 2 से 3 बार इलायची खाना चाहिए.

  • इसके साथ ही घर में तुलसी का पौधा लगाये और रोज नहाकर जल चढ़ाये. 5 से 7 पता तुलसी का रोज खाया करे.

  • अगर कुण्डली के बुध ग्रह ठीक है फिर पन्ना रत्न चांदी-सोने की अंगूठी में जड़वाकर बुधवार के दिन कच्चे दूध में धोकर दुर्गा चलीसा का पाठ करके अंगुठी का धूप देकर धारण करना चाहिए.

ज्योतिष संबंधित चुनिंदा सवालों के जवाब प्रकाशित किए जाएंगे

ज्योतिष शास्त्र में कई ऐसे उपाय बताए गए हैं, जिन्हें करने से जीवन की हर परेशानी दूर की जा सकती है. ये उपाय करियर, नौकरी, व्यापार, पारिवारिक कलह सहित कई अन्य कार्यों में भी सफलता दिलाते हैं. नीचे दिए गए विभिन्न समस्याओं के निवारण के लिए आप एक बार ज्योतिषीय सलाह जरूर ले सकते है. यदि आपकी कोई ज्योतिषीय, आध्यात्मिक या गूढ़ जिज्ञासा हो, तो अपनी जन्म तिथि, जन्म समय व जन्म स्थान के साथ कम शब्दों में अपना प्रश्न [email protected] या WhatsApp No- 8109683217 पर भेजें. सब्जेक्ट लाइन में ‘प्रभात खबर डिजीटल’ जरूर लिखें. चुनिंदा सवालों के जवाब प्रभात खबर डिजीटल के धर्म सेक्शन में प्रकाशित किये जाएंगे.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें