Advertisement

patna

  • Apr 21 2017 6:44AM

PM मोदी के खिलाफ महागठबंधन की कवायद तेज, सोनिया से मिले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

PM मोदी के खिलाफ महागठबंधन की कवायद तेज, सोनिया से मिले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार
नयी दिल्ली : जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की. यह मुलाकात काफी लंबे समय के बाद हुई है, इसलिए इसको लेकर तरह-तरह के कयास भी लगाये जा रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि एक साल बाद दोनों नेताओं की इस मुलाकात में आगामी राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की ओर से साझा उम्मीदवार खड़ा करने पर बातचीत हुई. साथ ही 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर भी दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई. वहीं बिहार के ताजा राजनीतिक हालात पर भी चर्चा होने की बात बतायी जा रही है. कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि सोनिया गांधी के साथ नीतीश कुमार की यह औपचारिक मुलाकात भी हो सकती है. लेकिन, जब दो नेता एक साथ मिलेंगे, तो देश की राजनीति पर चर्चा भी हो सकती है. 
 
वहीं, जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि जदयू राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष की ओर से संयुक्त उम्मीदवार उतारने के पक्ष में है. सोनिया गांधी गंठबंधन के सबसे बड़े दल की नेता हैं, इसलिए इस मामले को उन्हें लीड करना चाहिए. नीतीश कुमार सीपीआइ, एनसीपी सहित कई दलों के नेताओं से मिल चुके हैं और सभी ने इस पहल का स्वागत किया है. इसलिए सोनिया गांधी को इस दिशा में सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए. 
 
राजनीतिक जानकारों की मानें तो वैसे भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मोदी के खिलाफ धर्मनिरपेक्ष दलों का महागठबंधन बनाने का आह्वान करते रहे हैं. बिहार चुनाव से पहले भी किया था. वहीं दूसरी ओर बीजेपी से करारी हार के बाद कांग्रेस भी आत्ममंथन के दौर में है. पार्टी सूत्रों की मानें तो नीतीश ने सोनिया को सलाह दी है कि नरेंद्र मोदी पर प्रतिक्रिया देने के बजाय हमलोगों को अपना एजेंडा खुद तय करना चाहिए. नीतीश कुमार हाल में ऐसी ही सलाह राहुल गांधी को भी दे चुके हैं. सोनिया गांधी इन दिनों स्वास्थ्य कारणों से पार्टी में एक्टिव नहीं हैं. यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान वह प्रचार नहीं कर सकी थीं और बीमारी की वजह से बीच रास्ते से उन्हें लौटना पड़ा था. वहीं इस मुलाकात को राष्ट्रपति चुनाव से जोड़कर भी देखा जा रहा है. जदयू नेता केसी त्यागी ने तो इतना तक कह दिया है कि सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण कांग्रेस और सोनिया को राष्ट्रपति चुनाव मामले पर अगुवाई करनी चाहिए.
 
आज कोच्चि में सभा को करेंगे संबोधित
 
नीतीश कुमार शुक्रवार को केरल में शराबबंदी की मुहिम को लेकर एक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. कोच्चि की एक संस्था ने इसके लिए नीतीश कुमार को आमंत्रित किया है. शुक्रवार को कोच्चि में होनेवाले जदयू के एक समारोह में भी वह शिरकत करेंगे.
 

Advertisement

Comments