Advertisement

IPL2019

  • May 13 2019 1:00PM
Advertisement

Ipl 2019: मुंबई के कप्तान रोहित ने अंतिम गेंद से पहले मलिंगा को क्या कहा था

Ipl 2019: मुंबई के कप्तान रोहित ने अंतिम गेंद से पहले मलिंगा को क्या कहा था

हैदराबाद:  आईपीएल 2019 का फाइनल मुकाबला रोमांचक हुआ. अंतिम गेंद पर चेन्नई की हार हुई और मुंबई चौथी बार चैंपियन बना. अंतिम गेंद पर चेन्नई को जीत के लिये दो रन चाहिये थे. उस वक्त मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा क्या सोच रहे थे इसका जवाब उन्होंने खुद दिया है. रोहित शर्मा को शारदुल ठाकुर के शाट्स के बारे में बखूबी पता है और यही वजह है कि उन्होंने लसिथ मलिंगा से कहा कि उसे धीमी गेंद डाले और आईपीएल के रोमांचक फाइनल में यह उनका मास्टरस्ट्रोक साबित हुआ.

रोहित ने शारदुल को ललचाने के लिये ऑन साइड खुली छोड़ी थी. मलिंगा ने धीमी गेंद डालकर शारदुल को आखिरी गेंद पर पगबाधा आउट कर दिया और मुंबई एक रन से खिताब जीत गया. शारदुल के साथ प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेल चुके रोहित को बखूबी पता था कि उसे कैसे आउट करना है. मैच के बाद रोहित ने कहा कि  हमारा फोकस उसे आउट करने पर था. मैं शारदुल को बखूबी जानता हूं और मुझे पता था कि वह कहां मारना चाहेगा.  मैने और मलिंगा ने तय किया कि हम धीमी गेंद डालेंगे. 

मुझे पता था कि वह बड़ा शॉट खेलने की कोशिश करेगा और ऐसे में कैच आउट हो सकता है. वैसे इसका नतीजा कुछ भी हो सकता था.  पिछले ओवर में महंगे साबित हुए मलिंगा ने कप्तान के भरोसे पर खरे उतरते हुए आखिरी ओवर बेहतरीन डाला. रोहित ने आखिरी ओवर मलिंगा से करवाने के फैसले के बारे में कहा कि  इसका परिणाम उलटा भी हो सकता था. लेकिन उस समय मैं अनुभव को तरजीह देना चाहता था जो इन हालात का पहले भी सामना कर चुका हो.

मलिंगा कई बार ऐसे हालात देख चुका है तो हमने उस पर भरोसा किया. इससे पहले 2017 फाइनल में मुंबई ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को एक रन से हराया था. उसमें आस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज मिशेल जानसन ने विरोधी टीम को आखिरी ओवर में 11 रन नहीं बनाने दिये थे.  रोहित ने कहा कि  मुझे याद है जब हम 2017 में जीते थे. जानसन ने आखिरी ओवर किया था और 10 रन ही रन दिये. कई बार आपको दिल की आवाज सुननी होती है और मुझे लगता है कि अनुभव पर भरोसा करके गलती नहीं की.

रोहित पांच आईपीएल खिताब जीत चुके हैं जिनमें चार मुंबई और एक डेक्कन चार्जर्स के साथ जीता था. उन्होंने कहा कि डेक्कन चार्जर्स का तो मैं भूल ही गया था. यह तय करना मुश्किल है कि कौन सा खिताब सबसे खास है क्योंकि सबके लिये बहुत मेहनत लगती है. मेरे लिये सभी यादगार हैं. 

Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement