1. home Home
  2. national
  3. united nations security council minister narendra modi modi first indian pm to preside over un security council meeting says syed akbaruddin smb

UNSC की बैठक की अध्यक्षता करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे मोदी, 75 वर्षों में पहली बार हुआ ऐसा

UNSC Meeting भारत अगस्त के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करेगा. भारत के संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद का अध्‍यक्ष बनने पर कई देशों ने अपनी शुकामनाएं दी हैं. फ्रांस और रूस समेत अन्य देशों ने सुरक्षा परिषद में भारत के नेतृत्‍व में उठाए जाने वाले मुद्दों पर भी अपनी सहमति दी है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
PM Narendra Modi
PM Narendra Modi
Social

UN Security Council Meeting भारत अगस्त के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की अध्यक्षता करेगा. भारत के संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद का अध्‍यक्ष बनने पर कई देशों ने अपनी शुकामनाएं दी हैं. फ्रांस और रूस समेत अन्य देशों ने सुरक्षा परिषद में भारत के नेतृत्‍व में उठाए जाने वाले मुद्दों पर भी अपनी सहमति दी है.

संयुक्त राष्ट्र में भारत के पूर्व स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन (Syed Akbaruddin) ने ट्वीट कर कहा है कि स्वतंत्रता के बाद भारत के लिए पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक बैठक की अध्यक्षता करेंगे. उन्होंने कहा कि 9 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक की अध्यक्षता पीएम मोदी कर सकते हैं.

सैयद अकबरुद्दीन ने कहा है कि 75 से ज्यादा साल में यह पहली बार है, जब भारतीय राजनीतिक नेतृत्व ने पंद्रह सदस्यीय यूएनएससी एक कार्यक्रम की अध्यक्षता का निर्णय लिया है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक की अध्यक्षता करने का फैसला किया है. पीएम मोदी वीडियो कॉन्फेंस से अध्यक्षता करेंगे, जबकि विदेश मंत्री एस जयशंकर और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला न्यूयॉर्क जाएंगे. अकबरुद्दीन ने कहा कि यह दर्शाता है, शीर्ष नेतृत्व सामने से प्रतिनिधित्व करना चाहती है. साथ ही भारत और उसके राजनीतिक नेतृत्व ने हमारे विदेश नीति के मामलों में काम किया है.

वहीं, विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा कि हम अगस्त के लिए यूएनएससी की अध्यक्षता संभाल रहे हैं और अन्य सदस्यों के साथ काम करने के लिए तत्पर हैं. भारत हमेशा संयम की वॉइस, संवाद का हिमायती और अंतरराष्ट्रीय कानून का समर्थक रहेगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें