1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. tik tok ban in india 59 chinese apps ban in india know about chinese app indian alternatives sharechat xender uc browser and shareit

TikTok सहित 59 चाइनीज ऐप्स भारत में बैन, घबराएं नहीं ये देसी ऐप हैं उनका शानदार विकल्प

By Utpal Kant
Updated Date
टिकटोक और यूसी ब्राउजर सहित  59 चाइनीज  ऐप भारत में बैन
टिकटोक और यूसी ब्राउजर सहित 59 चाइनीज ऐप भारत में बैन
File

Tik Tok, Chinese Apps Ban in India, Tik Tok ban india: चीन से सरहद पर तनातनी के बीच केंद्र सरकार ने सोमवार रात दुनिया के सबसे पॉपुलर ऐप्स मे से एक टिकटोक और यूसी ब्राउजर सहित 59 चाइनीज मोबाइल ऐप को भारत में बैन कर दिया गया है. ऐसे में अगर आप अपने फोन से चाइनीज ऐप्स को हटाना चाह रहे हैं और उनके विकल्प की तलाश में हैं तो हम आपका यह काम आसान कर देते हैं. आज हम आपको उन ऐप्स के बारे में बता रहे हैं जो आपके फोन में मौजूद चाइनीज ऐप्स की जगह ले सकते हैं.

इन ऐप्स को प्ले स्टोर और ऐपल ऐप स्टोर से यूजर्स डाउनलोड कर पाएंगे. हालांकि बैन किए गए ऐप में कुछ ऐसे हैं जिससे अधिकतर भारतीय काफी फैमिलियर थे. इनके बैन होने के बाद लोग अब चाइनीज ऐप्स का विकल्प तलाश रहे हैं. तो घबराइए नहीं. हम आपके लिए लेकर आए हैं Tik tok से Helo, Likee, Bigo Live तक सभी का एक नया विकल्प जो भारत में जारी है.

बैन पर टिकटोक और भारतीय कंपनियों ने क्या कहा

बीबीसी के मुताबिक, भारत सरकार के इस फैसले पर टिकटोक के प्रवक्ता ने कहा है कि भारत सरकार ने 59 ऐप्स पर पाबंदी को लेकर अंतरिम आदेश दिया है. बाइटडांस टीम के 2000 लोग भारत में सरकार के नियमों के हिसाब से काम कर रहे हैं. हमें गर्व है कि भारत में हमारे लाखों यूजर्स हैं. वहीं कई भारतीय कंपनियां इसे भारत सरकार का स्वागत योग्य कदम बता रही हैं. टिकटॉक से प्रतिस्पर्धा में रहने वाले वीडियो चैट ऐप रोपोसो की मालिकाना कंपनी इनमोबी ने कहा कि ये कदम उसके प्लेटफॉर्म के लिए बाज़ार को खोल देगा. वहीं भारतीय सोशल नेटवर्क शेयरचैट ने भी सरकार के इस कदम का स्वागत किया है.

भारत ने क्यों लगाया बैन

भारत सरकार ने अपने इस फैसले को आपातकालीन उपाय और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ज़रूरी कदम बताया है. भारत के सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट कर कहा, यह पाबंदी सुरक्षा, संप्रभुता और भारत की अखंडता के लिए जरूरी है. हम भारत के नागरिकों के डेटा और निजता में किसी तरह की सेंध नहीं चाहते हैं. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि हमें कई स्रोतों से इन ऐप्स को लेकर शिकायत मिली थी. एंड्रॉयड और आईओएस पर ये ऐप्स लोगों के निजी डेटा में भी सेंध लगा रहे थे. इन ऐप्स पर पाबंदी से भारत के मोबाइल और इंटरनेट उपभोक्ता सुरक्षित होंगे. यह भारत की सुरक्षा, अखंडता और संप्रभुता के लिए जरूरी है.भारत सरकार ने अपने बयान में चीन या चीनी कंपनी का नाम नहीं लिया है. इस बात का भी जिक्र नहीं किया गया है कि ये पाबंदी कैसे लागू होगी. अभी तक इस पर चीन की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

ये हैं नये विकल्प

  • TikTok की जगह Bolo Indya, Roposo जैसे ऐप्स ले सकते हैं.

  • PUBG Mobile की जगह Call of Duty, Garena Free Fire जैसे ऐप्स ले सकते हैं.

  • Helo की जगह ShareChat का उपयोग की किया जा सकता है. साथ ही Mitron, Dubsmash, Funimate का यूज कर सकते हैं.

  • ShareIt, Xender की जगह Files by Google का उपयोग कर जैसे ऐप्स से बचा जा सकता है.

  • UC Browser की जगह Google Chrome को इस्तेमाल किया जा सकता है.

  • CamScanner की जगह Adobe Scan, Microsoft Lens इस समय अधिक इस्तेमाल होने वाले ले सकता है.

  • BeautyPlus की जगह B612 Beauty और Filter Camera, Candy Camera का इस्तेमाल कर सकते हैं.

  • Club Factory और Shein जैसे ऐप्स के बजाए Flipkart, Amazon India, Koovs आदि पर ख़रीदारी के लिए जाएं.

  • App Lock को छोड़कर Norton App Lock अपना सकते हैं.

  • VivaVideo की जगह KineMaster, Adobe Premier Rush को डाउनलोड कर सकते हैं.

  • Periscope को LiveMe, Kwai के अलटेरनेट की तरह उपयोग करें.

  • Google News आपके फोन में UC News की जगह ले सकता है.

  • Parallel Space की जगह App Cloner का उपयोग कर सकते हैं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें