1. home Hindi News
  2. national
  3. news coronavirus strain corona uk strain more infectious and spreads dr randeep guleria aiims naya corona khatarnaak amh

Coronavirus UK Strain : जानें कितना खतरनाक है ब्रिटेन से आया नया कोरोना स्ट्रेन, डॉ गुलेरिया ने दी ये चेतावनी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Coronavirus UK Strain
Coronavirus UK Strain
फाइल

ब्रिटेन से शुरू हुआ कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन (Coronavirus UK Strain) अब भारत में पहुंच चुका है जिसने लोगों की चिंता बढ़ा दी है. इन नये स्ट्रेन के भारत में अब तक दो दर्जन के करीब मामले सामने आए हैं. आपको बता दें कि नये स्ट्रेन को 70 फीसदी ज्यादा संक्रमणकारी बताया जा रहा है जिसने सरकार की भी परेशानी बढ़ा दी है.

कोरोना वायरस के इस नये स्ट्रेन से लोग इतना डर गये हैं कि बचाव और एहतियात के बारे में गूगल सर्च कर रहे हैं या जानकारों से राय ले रहे हैं. कोरोना वायरस के नये स्ट्रेन को लेकर एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया (dr randeep guleria ,aiims) ने भी अपनी राय रखी है.

ज्यादा संक्रमणकारी : इसको लेकर गुलेरिया ने कहा कि pre-epidemiological data से यह बात सामने आई है कि कोरोना वायरस ने कई जगहों पर अपने रूप बदलने का काम किया हैं. ब्रिटेन के नये कोरोना स्ट्रेन को लेकर सबसे बड़ी चिंता की बात ये है कि यह ज्यादा संक्रमणकारी है और तेजी से फैलने वाला है.

ज्यादा सावधानी बरतने की आवश्यकता : आगे एम्स निदेशक ने कहा कि ऐसा हो सकता है कि ब्रिटेन का नया स्ट्रेन भारत में नवंबर या फिर दिसंबर की शुरुआत में ही पहुंच गया हो, लेकिन देश में पिछले कुछ हफ्ते के दौरान कोरोना के मामलों में ज्यादा इजाफा नहीं देखा गया है. यदि ब्रिटेन का कोरोना स्ट्रेन भारत में पहुंच भी चुका है तो ये हमारे कोरोना के मामले और hospitalization पर असर डालने का काम कर सकता है. ऐसे में हमें अब ज्यादा सावधानी बरतने की आवश्यकता है. ऐसा इसलिए ताकि यह फैले नहीं...

कई लोगों ने गलत या अधूरा विवरण दिया: इधर ब्रिटेन से लौटने वाले कई लोगों ने गलत या अधूरा पता और मोबाइल नंबर दिया है. इस संबंध में अधिकारियों ने कहा कि गलत या अधूरा पता और मोबाइल नंबर की वजह से यात्रियों का पता नहीं लग पा रहा है. 25 नवंबर से आईजीआई हवाई अड्डा पहुंचे करीब 14,000 में से 3900 से ज्यादा यात्रियों ने दिल्ली का पता बताया है. दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कई मामलों में जिला स्तरीय टीमें ब्रिटेन से लौटे शख्स द्वारा दिए गए पते या मोबाइल नंबर से उसका पता नहीं लगा सकीं, क्योंकि ये विवरण अधूरा है. उनका जल्द से जल्द पता लगाने की कोशिशें की जा रही हैं.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें