1. home Home
  2. national
  3. navjot singh sidhu kartarpur corridor visit kartarpur corridor open news pkj

करतारपुर नहीं जा पायेंगे नवजोत सिंह सिद्धू, लगी रोक

नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर होकर लौटे हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह की तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी. कांग्रेस पार्टी के भीतर और बाहर भी इसे लेकर खूब चर्चा हुई थी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
navjot singh sidhu kartarpur corridor visit
navjot singh sidhu kartarpur corridor visit
file

करतारपुर कॉरिडोर खुलने के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के नवजोत सिंह सिद्धू भी आज यहां जाने वाले थे. विदेश मंत्रालय ने नवजोत सिंह सिद्धू को अगले दो दिन करतारपुर जाने पर रोक लगा दी है. MEA ने नवजोत सिंह सिद्धू को 20 नवंबर को जाने की इजाजत दी है.

इससे पहले भी नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर होकर लौटे हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह की तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी. कांग्रेस पार्टी के भीतर और बाहर भी इसे लेकर खूब चर्चा हुई थी. पंजाब कांग्रेस में जब विवाद बढ़ा तो अमरिंदर सिंह ने भी सिद्धू के पाकिस्तान से रिश्ते को लेकर सवाल खड़ा किया था. संभव है कि इस बार की पाकिस्तान यात्रा पर भी सिद्धू की ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हों.

नवजोत सिंह सिद्धू के सहयोगियों की मानें तो आज करतारपुर जाने के लिए सिद्धू ने सारी तैयारियां पूरी कर ली थी अचानक उनकी यात्रा रोक दी गयी है. सिद्धू को पंजाब के कैबिनेट मंत्रियों संग जाना था.

एक तरफ सिद्धू पंजाब के मुख्यमंत्री और मंत्रियों के साथ करतारपुर जाने की तैयारी में थे तो दूसरी तरफ पाकिस्तान से चलने वाली करतारपुर की वेबसाइट पर नवजोतल सिंह सिद्धू की जमकर तारीफ की गयी है. इसमें लिखा है, (करतारपुर कॉरिडोर खोलने का) विचार भारत के लीजेंड सिख क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने साझा किया था जो पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समोराह में शिकरत करने आए थे. 28 नवंबर, 2018 को प्रधानमंत्री इमरान खान और नवजोत सिंह सिद्धू ने करतारपुर कॉरिडोर के समारोह में हिस्‍सा लिया.

गुरपरब से पहले श्रद्धालुओं के लिए करतारपुर गलियारा फिर से खोले जाने की मांग सिद्धू ने केंद्र सरकार से की थी . सिद्धू ने मंगलवार को ट्विटर पर भारत सरकार से करतारपुर गलियारा खोलने और इसी दिन तीन विवादित केंद्रीय कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की थी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें