1. home Hindi News
  2. national
  3. ministry of external affairs said pakistan has no right to comment on pm modi visit to jammu kashmir vwt

'पीएम मोदी के जम्मू-कश्मीर दौरे पर पाक को टिप्पणी करने का अधिकार नहीं', विदेश मंत्रालय ने लगाई फटकार

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हमारा रुख बहुत सीधा है कि ऐसा एक माहौल हो, जिसमें आतंकवाद न हो. उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण माहौल में ही बातचीत हो सकती है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची
फोटो : ट्विटर

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते रविवार को जम्मू-कश्मीर का दौरा कर करीब 20 हजार करोड़ रुपये से अधिक के विकास परियोजनाओं की शुरुआत जब से की है, पड़ोसी देश पाकिस्तान को उसी वक्त से मिर्ची लगी हुई है. उसकी ओर से की जा रही टिप्पणी के बाद भारत ने गुरुवार को उसे जमकर फटकार लगाई है. विदेश मंत्रालय ने स्पष्ट तौर कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जम्मू-कश्मीर के दौरे पर पाकिस्तान को टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने गुरुवार को पाकिस्तान को सख्त संदेश देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के जम्मू-कश्मीर दौरे पर टिप्पणी करने का पाकिस्तान को कोई अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा कि हमारा रुख बहुत सीधा है कि ऐसा एक माहौल हो जिसमें आतंकवाद न हो, ऐसे माहौल में ही बातचीत हो सकती है. हमारा मुख्य मुद्दा हमेशा यही रहा है, ये हमारी जायज मांग है. कोई बदलाव नहीं है.

पाकिस्तान ने सिंधु जल संधि के उल्लंघन का लगाया आरोप

बताते चलें कि पाकिस्तान ने बीते रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए करीब 20 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया था. इस दौरान उन्होंने चिनाब नदी पर रतले और क्वार पनबिजली परियोजनाओं के निर्माण की आधारशिला रखी थी. इन परियोजनाओं के निर्माण कार्य की शुरुआत होने के बाद पाकिस्तान की ओर से टिप्पणी की गई थी कि यह सिंधु जल संधि का 'प्रत्यक्ष उल्लंघन' है.

शांतिपूर्ण माहौल में ही बातचीत संभव

पाकिस्तान के आरोप पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हमारा रुख बहुत सीधा है कि ऐसा एक माहौल हो, जिसमें आतंकवाद न हो. उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण माहौल में ही बातचीत हो सकती है. हमारा मुख्य मुद्दा हमेशा यही रहा है और ये हमारी जायज मांग है.

चीनी नागरिकों को फिलहाल वीजा नहीं

इसके साथ ही, विदेश मंत्रालय प्रवक्ता बागचीन ने चीन के नागरिकों को वीजा नहीं जारी करने के मामले पर हम चीन के शंघाई आदि शहरों में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण की स्थिति से अवगत हैं. उन्होंने कहा कि चीन के नागरिकों के लिए पर्यटक वीजा दोबारा शुरू करने का यह वक्त उचित नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि खुद चीन भारत के नागरिकों के लिए 2020 से वीजा जारी नहीं कर रहा है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें