1. home Hindi News
  2. national
  3. india china troops clash again in lac ladakh indian army jawans pla pangong tao on the intervening night of 2930 august india china faceoff latest news update in hindi upl

India China clash: भारत-चीन सैनिकों में फिर हुई झड़प, एलएसी पर पैंगोंग झील के पास चीनी घुसपैठ की कोशिश नाकाम

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
चीनी सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले स्थल पर फिर घुसने की कोशिश की
चीनी सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले स्थल पर फिर घुसने की कोशिश की
FIle

India China, india china faceoff, india china border dispute: भारत और चीन के बीच बीते कुछ माह से जारी गतिरोध के बीच एक बड़ी और चौंकाने वाली खबर सामने आई है. खबर आ रही है कि 29 और 30 की रात चीनी सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले स्थल पर फिर घुसने की कोशिश की. हालांकि भारतीय जवानों ने उनकी इस कोशिश को मुंहतोड़ जवाब दिया और उन्हें खदेड़ दिया.झड़प से किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस दौरान दोनों देश के सैनिकों के बीच झड़प भी हुई. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक भारतीय सेना के पीआरओ कर्नल अमन आनंद ने कहा कि भारतीय सैनिकों ने पैंगॉन्ग त्सो झील के दक्षिणी किनारे पर चीनी सैनिकों की गतिविधि को पहले से ही खाली कर दिया. साथ ही उन्होंने कहा कि सेना के जवानों ने भारतीय पोस्ट को मजबूत करने और जमीन पर तथ्यों को एकतरफा बदलने के लिए चीनी इरादों को विफल करने की कार्रवाई की.

टीवी रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ने इस इलाके में तैनाती और बढ़ा दी है. इस झड़प के बावजूद, चुशूल में ब्रिगेड कमांडर लेवल की फ्लैग मीटिंग चल रही है. बता दें कि 15 जून की रात को गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद चीन बॉर्डर पर हुई यह दूसरी सबसे बड़ी घटना है.

कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा

पूर्वी लद्दाख में घटी ताजा घटना के बाद कांग्रेस ने एक बार फिर से मोदी सरकार पर हमला बोला. कांग्रेस नेता सुरजेवाला ने ट्वीट किया- आए दिन भारत की संप्रुभता पर हमला हो रहा है, आए दिन हमारी सरज़मीं पर क़ब्ज़े का दुस्साहस, आए दिन देश की धरती पर चीनी घुसपैठ, मोदी जी, पर “लाल आँख” कहाँ हैं, चीन से आँखों में आँखें डाल कब बात होगी, पी.एम मौन क्यों हैं?

बढ़ सकता है तनाव

यह झड़प ऐसे समय हुई है जब दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव को कम करने के लिए कई स्तरों पर बातचीत का दौर जारी है. हालांकि, झड़प से किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है. चीन की चालबाजी को लेकर भारतीय सेना पूरी तरह अलर्ट है. चीन एक तरफ बातचीत का नाटक करता है, दूसरी तरफ उसकी सेना घुसपैठ को कोशिश कर रही है. भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों (पीएलए) की धोखेबाजी का एक बार फिर से करारा जवाब दिया है.

बातचीत विफल होती है तो फिर सैन्य विकल्प मौजूद

बता दें कि अभी दो दिन पहले लद्दाख की स्थिति को गंभीर बताते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बड़ा बयान देते हुए कहा था कि लद्दाख की स्थिति 1962 के संघर्ष के बाद ‘सबसे गंभीर’ है. उन्होंने कहा था कि दोनों पक्षों की ओर से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर अभी तैनात सुरक्षा बलों की संख्या भी ‘अभूतपूर्व’ है. वहीं सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि चीनी सेना द्वारा किए गए बदलाव से निपटने के लिए यदि बातचीत विफल होती है तो फिर सैन्य विकल्प मौजूद हैं.

Posted By: Utpal kant

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें