1. home Hindi News
  2. national
  3. education minister ramesh pokhriyal nishank said state government should follow cbse decision know what icse said aml

शिक्षा मंत्री निशंक ने कहा, सीबीएसई के फैसले को देखते हुए निर्णय लें राज्य सरकारें, जानें आईसीएसई ने क्या कहा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक
शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक
Twitter

CBSE Board Exam 2021 नयी दिल्ली : देश भर में बढ़ रहे कोरोनावायरस संक्रमण के कारण केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) 10वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द कर दी गयी है, वहीं, 12वीं बोर्ड की परीक्षा अगले आदेश तक स्थगित कर दी गयी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi), शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और सीबीएसई अधिकारियों के साथ बैठक में यह निर्णय लिया गया. सीबीएसई के इस फैसले का सभी राजनीतिक दलों के नेताओं ने स्वागत किया है. पिछले साल भी कोरोना संक्रमण के कारण 10वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द की गयी थी.

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने सभी राज्य सरकारों से आग्रह किया है कि वह सीबीएसई के फैसल की समीक्षा करते हुए अपने राज्य की बोर्ड परीक्षा पर भी निर्णय लें. कुछ राज्यों ने तो पहले ही अपने यहां बोर्ड की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया था. इसमें महाराष्ट्र का नाम सबसे आगे है. सीबीएसई के फैसले के बाद महाराष्ट्र में औरंगाबाद के डॉ बाबासाहेब आंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय और नांदेड़ के स्वामी रामानंद तीर्थ मराठवाड़ा विश्वविद्यालय ने अपनी परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं.

महाराष्ट्र की स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र सरकार राज्य शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं के लिए कोई कदम उठाने के पहले 10वीं कक्षा की परीक्षा रद्द करने के सीबीएसई के फैसले का अध्ययन करेगी और इस पर चर्चा करेगी. महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना वायरस के मामलों में तेज बढ़ोतरी को देखते हुए राज्य बोर्ड की 10 वीं और 12 वीं कक्षा की परीक्षाएं सोमवार को टालने का फैसला किया था.

बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल शिक्षा बोर्ड की माध्यमिक व उच्चतर माध्यमिक परीक्षाएं कोविड-19 संबंधी नियमों के पालन के साथ जून में होनी निर्धारित हैं. लेकिन हमारे लिए बच्चों और परीक्षा की प्रक्रिया में शामिल लोगों के स्वास्थ्य से ज्यादा अत्यावश्यक व महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं हो सकता. सरकार कोविड-19 की स्थिति को ध्यान में रखते हुए उचित समय पर छात्रों के हित में निश्चित रूप से फैसला करेगी.

राजस्थान सरकार ने राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर द्वारा आयोजित की जाने वाली 10वीं व 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं. कक्षा आठवीं, नौंवीं व 11वीं के विद्यार्थियों को भी उनकी अगली कक्षाओं में बिना परीक्षा के ही प्रोन्नत किया जायेगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा से चर्चा के बाद इस संबंध में निर्णय लिया गया है.

आंध्र प्रदेश और कर्नाटक की सरकारों ने कहा है कि राज्य बोर्ड की परीक्षाएं अपने तय समय पर ही आयोजित की जायेंगे. आंध्र प्रदेश के 10वीं बोर्ड की परीक्षा जून में आयोजित होगी, जबकि 12वीं की परीक्षा मई में आयोजित की जायेगी. वहीं जामिया मिलिया इस्लामिया ने अपनी 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है. मध्य प्रदेश सरकार ने अपने यहां बोर्ड की परीक्षाओं को अगले एक महीने के लिए स्थगित कर दिया है.

मेघालय के उपमुख्यमंत्री प्रेस्टोन त्येनसोंग ने कहा कि राज्य बोर्ड की 12वीं की परीक्षा कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए पूरी सावधानी बरतते हुए तय कार्यक्रम के मुताबिक होगी. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार 10 वीं कक्षा की परीक्षा आयोजित करने के लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव डी पी वाहलांग द्वारा की गयी समीक्षा की अद्यतन रिपोर्ट का इंतजार कर रही है.

सीबीएसई के बाद अब आईसीएसई की बारी

भारतीय विद्यालय परीक्षा प्रमाणपत्र परिषद (सीआईएससीई) ने कहा कि वह कोविड-19 से उत्पन्न हालात की समीक्षा कर रही है और 10वीं तथा 12वीं की बोर्ड की परीक्षाओं के बारे में जल्द ही फैसला लिया जायेगा. सीआईसीएसई के मुख्य कार्यकारी एवं सचिव गैरी एराथून ने कहा कि हम हालात की समीक्षा कर रहे हैं और इस संबंध में जल्द ही कोई निर्णय लिया जायेगा. दसवीं कक्षा की परीक्षाएं पांच मई को शुरू होनी हैं जबकि 12वीं कक्षा की परीक्षाएं आठ अप्रैल को शुरू हो चुकी हैं.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें