1. home Hindi News
  2. national
  3. discord in punjab congress capt amarinder singhs meeting with high command begins mallikarjun kharge also arrives ksl

पंजाब कांग्रेस में अंतर्कलह : आलाकमान के साथ कैप्टन अमरिंदर सिंह की बैठक शुरू, मल्लिकार्जुन खड़गे भी पहुंचे

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करने के लिए पहुंचे कैप्टन अमरिंदर सिंह
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करने के लिए पहुंचे कैप्टन अमरिंदर सिंह
ANI

नयी दिल्ली : पंजाब में कांग्रेस की अंदरुनी कलह दूर करने को लेकर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज मंगलवार को नयी दिल्ली में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ मुलाकात कर रहे हैं. बैठक में शामिल होने के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे भी पहुंच चुके हैं. मालूम हो कि पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होनेवाला है.

इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह मंगलवार को चंडीगढ़ से हेलीकॉप्टर से नयी दिल्ली पहुंचे. नयी दिल्ली पहुंचने पर सोनिया गांधी से मुलाकात करने से पहले उन्होंने कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और पार्टी नेता राहुल गांधी से मुलाकात की.

इसके बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह आज ही कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने के लिए उनके आवास 10 जनपथ पहुंचे. पंजाब कांग्रेस में चल रहे अंतर्कलह को लेकर दोनों नेताओं के बीच मुलाकात शुरू हो गयी है.

मालूम हो कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ पार्टी नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने मोर्चा खोल रखा है. साल 2015 में सिख ग्रंथों की बेअदबी और प्रदर्शनकारियों पर पुलिसिया गोलीबारी की जांच में देरी को लेकर लगातार हमले बोल रहे हैं. अगले साल होनेवाले विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी में फेरबदल की संभावना जतायी जा रही है.

कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ नवजोत सिंह सिद्धू के सख्त रवैये के बाद पार्टी आलाकमान सक्रिय हुआ है. पंजाब में अंतर्कलह को लेकर मल्लिकार्जुन खड़गे के नेतृत्व में तीन सदस्यीय समिति के समक्ष मुख्यमंत्री भी पेश हो चुके हैं. साथ ही बागी नेता भी समिति के सामने अपनी बात रख चुके हैं.

इधर, कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा है कि नवजोत सिंह सिद्धू एक जाना-माना चेहरा हैं. वह कई बार आलाकमान से मिल चुके हैं. वे आलाकमान से अपनी बात कह चुके हैं. अब हमें प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा करनी चाहिए. लेकिन, अपनी ही पार्टी को नुकसान पहुंचाना ठीक नहीं है. पार्टी में अनुशासनहीनता के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए. पार्टी को नुकसान पहुंचानेवाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए चाहे मैं हो या कोई भी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें