1. home Hindi News
  2. national
  3. atal biharivajpayee birthday memorable speech of his 13 day government in 1996 rjh

Atal Bihari Vajpayee : जब संसद में अटल जी ने कहा था- हम संख्याबल के सामने सिर झुकाते हैं, देखें उनका यह यादगार भाषण

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Atal BihariVajpayee birthday
Atal BihariVajpayee birthday
Twitter

अटल बिहारी वाजपेयी भारत के ऐसे प्रधानमंत्री थे जिनकी दूरदर्शिता और राजनीतिक समझ के कायल विरोधी भी थे. बात चाहे नदियों को जोड़ने की हो या सड़क मार्ग द्वारा देश को जोड़ने की अटल जी की नीति हमेशा देश को जोड़ने वाली ही रही.

अटल जी एक ऐसी शख्सीयत थे, जो आजीवन देश को समर्पित रहा. उनके कई गुणों में एक थी उनकी वाक्‌ शैली. भारतीय राजनीति में उनके जैसा वक्ता विरले ही नजर आता है. आजादी के बाद संसद में दिये गये उनके भाषण को सुनकर पंडित जवाहर लाल नेहरू ने उनकी बहुत तारीफ की थी.

अटल जी की भाषण शैली और खासकर उनका रूक-रूक कर बोलना का अंदाज अनूठा था. वे अपने भाषण के दौरान जिस तरह शालीनता से अपने विरोधियों पर तंज कसते थे, उसे सुनकर कोई भी वाह किये बिना नहीं रह सकता था.

1996 में जब अटल की 13 दिन की सरकार बनी थी, उस वक्त जब वे बहुमत नहीं जुटा पाये थे और इस्तीफा देने के लिए राष्ट्रपति भवन गये थे उनके उस भाषण के बारे में यह कहा जाता है कि उनके भाषण ने कांग्रेस पार्टी के नेताओं की बेचैनी बढ़ा दी थी और यह कहा जा रहा था कि वाजपेयी जी अगला चुनाव उस भाषण की बदौलत ही जीत जायेंगे. अपने उस भाषण में अटल ने जी ने कहा था कि लोकतंत्र में संख्या बल का महत्व बहुत ज्यादा है और मेरे पास संख्याबल नहीं है इसलिए हम संख्याबल के आगे मस्तक झुकाते हैं और मैं इस्तीफा देने राष्ट्रपति के पास जा रहा हूं.

अटल जी मोरारजी देसाई की सरकार में विदेश मंत्री थे और उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में पहली बार हिंदी में भाषण दिया था, जो उनके यादगार भाषणों में से एक था. एक ओर वे कवि हृदय थे तो दूसरी ओर वे पोखरण -2 का माद्दा भी रखते थे.

Posted By : Rajneesh Anand

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें