Gargi College Girls Allege Molestation: नशे में धुत पहुंचे युव‍क, छात्राओं को गलत तरीके से छुआ, पुलिस खंगाल रही है सीसीटीवी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

Gargi College Girls Allege Molestation: गार्गी कॉलेज की छात्राओं ने सांस्कृतिक उत्सव के दौरान पुरुषों के एक समूह के कॉलेज में दाखिल होने और कथित छेड़छाड़ की घटना को लेकर सोमवार को प्रदर्शन किया. वहीं, दिल्ली पुलिस ने बताया कि उसने मामले जांच शुरू कर दी है और सीसीटीवी फुटेज भी देखी जा रही है. प्रदर्शन के दौरान महिला आयोग की अध्‍यक्ष स्वाती मालिवाल भी पहुंची और छात्राओं से बात की.

100 से अधिक छात्राओं ने किया प्रदर्शन

वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पुलिस को हालांकि इस संबंध में अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है. गार्गी कॉलेज के गेट के बाहर सोमवार को 100 से अधिक छात्राओं ने इस संबंध में प्रदर्शन किया. छात्राओं और शिक्षकों ने इस घटना के संबंध में सोशल मीडिया पर भी जानकारी साझा की थी. सोशल मीडिया पोस्ट के अनुसार छह फरवरी को कॉलेज उत्सव ‘रेवरी' के दौरान शाम करीब साढ़े छह बजे नशे में धुत पुरुषों के समूह ने कॉलेज के प्रवेश द्वार पर धावा बोल दिया और अंदर घुस गये. छात्राओं ने आरोप लगाया कि ‘रैपिड एक्शन फोर्स' और दिल्ली पुलिस के जवान वहीं गेट के पास तैनात थे, जहां से ये पुरुष कथित तौर पर अंदर आये.

छात्राओं को गलत तरीके से छुआ गया
नाम उजागर न करने की शर्त पर एक छात्रा ने कहा कि वहां सुरक्षा में भारी चूक थी. छात्राओं को गलत तरीके से छुआ गया, छेड़छाड़ की और उन पुरुषों द्वारा हाथापाई भी की गयी, जिनकी उम्र 35 साल के आसपास लग रही थी. कॉलेज ने सुरक्षा का दावा किया है लेकिन मुझे नहीं लगता कि देश में किसी भी कॉलेज परिसर में ऐसी कोई घटना हो सकती है.

पहुंची स्वाति मालीवाल
दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने भी मौके पर पहुंचकर स्थिति का मुआयना किया. पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) अतुल कुमार ठाकुर ने कहा कि मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी. ठाकुर ने कहा कि हमें इस संबंध में अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है. लेकिन हमने घटना का स्वत: संज्ञान लिया है. उन्होंने बताया कि सबूत इकट्ठे करने के लिए पुलिस सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है और तथ्यों का पता लगाने के लिए छात्रों से भी पूछताछ की जा रही है. ठाकुर ने बताया कि अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) गीतांजलि खंडेलवाल मामले की जांच कर रही हैं.

सोशल मीडिया पर आपबीती
यहां हुए छेड़छाड़ को लेकर छात्राएं सोशल मीडिया पर आपबीती सुना रहीं हैं जो काफी शर्मनाक है. कैंपस में भी छात्राएं आपने गुस्से का इजहार कर रहीं हैं. सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम न होने से छात्राएं नाराज हैं और कॉलेज प्रशासन के खिलाफ उनमें गुस्सा है. आपको बता दें कि कॉलेज कैंपस में छेड़छाड़ की यह घटना 6 फरवरी की है. इस संबंध में छात्राओं को कहना है कि फेस्ट चल रहा था. शाम चार बजे के बाद भीड़ बढ़ने लगी. रात होते-होते करीब आठ सौ से हजार लोग वहां आगे. ये भीड़ कैंपस के बाहर से आयी थी जो छात्राओं के साथ गलत व्यवहार कर ही थी. भीड़ में फंसी छात्राओं के साथ गलत व्यवहार किया गया. कुछ छात्राएं भीड़ बढता देख फेस्ट बीच में ही छोड़कर चलीं गयीं, लेकिन जो छात्राएं भीड़ में फंसी रहीं उनके साथ रात के 11 बजे तक छेड़खानी होती रही.

कॉलेज प्रशासन पर उठाए सवाल
एक छात्रा ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि मैं ऐसी कई लड़कियों को जानती हूं, जिनके साथ उस दिन छेड़छाड़ की घटना हुई. छात्रा ने कॉलेज प्रशासन पर सवाल उठाए और कहा कि यदि आप छात्राओं के लिए सुरक्षा के इंतजाम नहीं कर सकते, तो फिर फेस्ट के आयोजन की जरूरत ही क्या थी ?

फेस्ट का आखिरी दिन था
एक अन्य छात्रा ने कहा कि फेस्ट का आखिरी दिन था. दोपहर बाद 3 बजे से रात 9 बजे तक लड़कियों से छेड़छाड़ और अश्लील हरकतें होती रही. कार्यक्रम स्थल पर जैमर लगा था जिसके कारण छात्राएं फोन कर शिकायत भी नहीं कर सकीं. बाहर से भीड़ गलत तरीके से कॉलेज में घुसी. कुछ ने तो दीवार फांदी और कैंपस में घुस गये. छात्रा ने आगे कहा कि फेस्ट के दौरान पुलिस और कॉलेज की सिक्यॉरिटी तैनात थी, लेकिन वो भी चुपचाप खड़ी थी. सुरक्षाकर्मी बिना पास और ID कार्ड देखे लोगों को अंदर आने दे रहे थे. प्रिंसिपल और कॉलेज प्रशासन से हमें मदद नहीं मिली.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें