Pulwama Attack पर पाक काे अलग-थलग करने में जुटा भारत, P5 दूतों से मिले विदेश सचिव

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

गुरुवार को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए भारत ने कदम आगे बढ़ा दिए हैं. खबर है कि विदेश सचिव विजय गोखले ने शुक्रवार को इस मामले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) के P5 देशों के राजनयिकों से मुलाकात की है. इस मुलाकात में उन्होंने इन देशों को आतंकवाद के समर्थन में पाकिस्तान की भागीदारी के बारे में जानकारी दी.

इसके साथ ही गोखले ने यूरोप और एशिया के कई अहम देशों से इस मामले पर बातचीत की है. UNSC के P5 देशों में अमेरिका, ब्रिटेन, रूस, फ्रांस और चीन शामिल हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत ने शुक्रवार को P5 देशों समेत 25 देशों के प्रतिनिधियों से इस मामले में बात की.

यह बैठक सरकार द्वारा पाकिस्तान के पूरे विश्व से पूर्ण अलगाव के लिए उठाये गए कदम का अहम हिस्सा है. इससे पहले केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि सरकार पाकिस्तान के अंतरराष्ट्रीय समुदाय से पूर्ण अलगाव सुनिश्चित करने के लिए सभी संभव राजनयिक कदम उठाएगी. उन्होंने कहा कि इस भीषण आतंकवादी घटना में पाकिस्तान का प्रत्यक्ष हाथ होने के साक्ष्य है.

पाकिस्तान के खिलाफ पहले कदम के रूप में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सुरक्षा पर कैबिनेट समिति की बैठक के बाद घोषणा की थी कि भारत पाकिस्तान को दिये गए मोस्ट फेवर्ड नेशन ट्रेड स्टेटस का दर्जा वापस ले रहा है.

इसके साथ ही पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया को भी परामर्श के लिए दिल्ली बुलाया गया है. खबर है कि वह शनिवार को दिल्ली में होंगे, शनिवार को विदेश मंत्रालय के साथ बैठक करेंगे.

मालूम हो कि दक्षिण कश्मीर में सीआरपीएफ जवानों के वाहन पर कार बम विस्फोट के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में भारत ने गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय समुदाय को पाकिस्तान द्वारा नियंत्रित क्षेत्रों से संचालित होने वाले आतंकवादी समूहों पर प्रतिबंध लगाने के प्रयासों के बारे में याद दिलाया था. यह भी बताया गया था कि जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी के रूप में नामित करने का प्रयास अब भी लंबित है.

वैसे, P5 देशों में शामिल चीन भारत की इस मांग पर अड़ंगा लगा रहा है. UNSC की वैश्विक आतंकियों की लिस्ट में मसूद अजहर का नाम जोड़े जाने के मामले पर शुक्रवार को जब चीन से उसके रुख के बारे में पूछा गया, तो उसने अपने पुराने रुख पर ही कायम रहने की बात की. चीन ने जैश-ए-मोहम्मद के CRPF पर किये गए पुलवामा हमले की निंदा की है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें