#MumbaiRain : तीन घंटे में 65 मिमी बारिश से मुंबई बेहाल, आज बंद रहेंगे शिक्षण संस्थान, मोदी ने दिया मदद का भरोसा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

मुंबई : मुंबई में मंगलवारको जोरदार हवाओं के साथ हुई मूसलधार बारिश ने रेल, सड़क और हवाई सेवा को बाधित कर दिया. घरों में पानी भर गया, कई जगहों पर पेड़ गिर गये और शहर और उसके उपनगरीय इलाकों में लोग बेहाल हैं. ज्वार (हाई टाइड) के साथ बारिश ने लोगों की दिक्कतें और बढ़ा दी हैं जिससे पानी की समुद्र में प्राकृतिक तरीके से निकासी नहीं हो पा रही.

मौसम विभाग के सूत्रों ने कहा कि मुंबई में केवल तीन घंटे में 65 मिलीमीटर बारिश हुई. लोअर पारेल, दादर, कुर्ला, अंधेरी, खार पश्चिम, घाटकोपर, सायन और हिंदमाता इलाकों में हजारों वाहन सड़कों पर फंसे हुए हैं. इलाकों में कई घंटे से घुटनों से लेकर कमर तक पानी भरा है. लोकल ट्रेन की रफ्तार भी थम सी गयी है और तीनों उपनगरीय रेलवे लाइनों सेंट्रल, नॉर्थ तथा हार्बर पर ट्रेनें देरी से चल रही हैं या रुक गयी हैं. कई जगहों पर पटरियों पर पानी भर गया है. कई घंटे बाद भी पानी का स्तर कम होने के आसार नहीं दिख रहे. परेशान यात्रियों को बीच रास्ते में रुकी हुई ट्रेनों से कूदते और पटरियों के सहारे पैदल चलकर जाते हुए देखा गया. इस बीच, महाराष्ट्र के शिक्षामंत्री विनोद तावड़े ने कहा है कि बुधवार को मुंबई के सभी स्कूल व शिक्षा संस्थान बंद रहेंगे. वहीं, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि एनडीआरएफ की टीम राहत बचाव के लिए मुंबई पहुंच गयी है. उन्होंने कहा है कि महाराष्ट्र के सीएम को हर तरह की मदद का हमलोगों ने आश्वासन दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई के बाढ़ के मद्देनजर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को केंद्र की ओर से हर तरह का सहयोग देने का भरोसा दिलाया है.

मुंबई पुलिस ने भारी बारिश के कारण रास्तों में फंस गये लोगों से पुलिस का आपातकालीन नंबर या 100 नंबर मिलाने को या पुलिस के ट्विटर हैंडल पर संदेश भेजकर सहायता मांगने को कहा है. सड़कों पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात हैं और संकटग्रस्त लोगों की मदद कर रहे हैं. ऐसी एक घटना में पुलिस अधिकारियों ने मुख्य नियंत्रण कक्ष से सायन थाना प्रभारी को निर्देश दिया कि मध्य मुंबई के सायन अस्पताल के पास फंसी हुई तीन स्कूल बसों को निकालने में मदद की जाये. पारेल जैसे निचले इलाकों में सैकड़ों मुसाफिर पानी में फंसे रहे. पूर्वी और पश्चिमी एक्सप्रेस हाइवे, सायन-पनवेल राजमार्ग और एलबीएस मार्ग समेत महत्वपूर्ण सड़कों पर वाहन धीरे-धीरे रेंग रहे हैं.

नगर निगम के उपायुक्त सुधीर नायक ने बताया, 'महानगर में रात से भारी बारिश हुई है. मंगलवार की सुबह 8:30 से 12 बजे के बीच शहर में 85 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गयी है.' निगम के आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के अनुसार पेड़ों के गिरने के कम से कम 20 मामले सामने आये हैं. एक दीवार भी गिर गयी , लेकिन कोई हताहत नहीं हुआ. मुंबई पुलिस ने लोगों को बाहर नहीं निकलने की सलाह देते हुए ट्वीट किया, 'ज्वार के साथ भारी बारिश के कारण आनेवाले कुछ घंटों में भारी जलभराव हो सकता है. बाहर निकलने से पहले अपने रास्ते का पता लगा लें.'

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राज्य आपदा प्रबंधन नियंत्रण कक्ष का दौरा किया और हालात का जायजा लिया. उन्होंने कहा, 'मैंने मंत्रालय, राज्य सचिवालय के कर्मचारियों से अपने घर जाने को कहा है. अन्य दफ्तरों के कर्मचारियों को भी घर जाने की अनुमति दी गयी है. हमने सभी दफ्तरों को सलाह दी है कि अपने कर्मचारियों को जल्दी घर जाने दें.' मुख्यमंत्री ने कहा कि हालात पर करीब से नजर रखी जा रही है और समय-समय पर जरूरी परामर्श जारी किये जायेंगे.

अधिकारियों ने कहा कि मुंबई हवाईअड्डे पर शाम चार बजे के बाद विमान नहीं उतर रहे. हालांकि, वहां से विमान उड़ान भर रहे हैं. छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सुबह से विमान परिचालन में देरी हुई. सुबह से जोरदार हवाओं और बारिश की वजह से सात विमानों को उतरते समय आसमान में देर तक मंडराना पड़ा, वहीं चार उड़ानों को पास के हवाईअड्डों पर उतारा गया जिनमें अहमदाबाद प्रमुख है. मुंबई हवाईअड्डे के एक प्रवक्ता ने कहा कि करीब 35 मिनट की औसत देरी हुई.

मुंबई हवाईअड्डे के एक सूत्र ने बताया, 'भारी बारिश और तेज हवाओं के कारण दृश्यता का स्तर काफी गिर गया जिसके कारण उड़ानों के मार्गों को बदलना पड़ा, कई विमानों को चक्कर भी काटने पड़े, जबकि मुख्य रनवे खुला था.' राजधानी के अलावा निकटवर्ती नवी मुंबई और ठाणे क्षेत्र में भी सोमवार रात से मूसलधार बारिश हो रही है, जिससे उपनगरीय ट्रेन सेवाओं में देरी हुई और निचले इलाकों में जलमग्न सड़कों पर वाहन रेंगते दिखे.

पुणे मौसम कार्यालय के जलवायु निगरानी एवं विश्लेषण प्रमुख एके श्रीवास्तव ने कहा, 'मुंबई, दक्षिण गुजरात, कोंकण, गोवा अैर पश्चिम विदर्भ जैसे इलाकों में अगले 24 से 48 घंटों में भारी बारिश होने की संभावना है. हालात गंभीर हैं. हमने हवाईअड्डों सहित संबंधित विभागों को चेतावनी जारी कर दी है.' भारी बारिश का कारण ओड़िशा में लो प्रेशर एरिया का बनना बताया जा रहा है, जो देश के केंद्रीय हिस्से से पश्चिम की ओर बढ़ रहा है. इससे पश्चिमी हिस्से में एक अपर एयर साइक्लोनिक सरकुलेशन की स्थिति बनी है. इस कारण कोंकण तट व मुंबई में भारी से भारी बारिश की आशंका बनी हुई है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें