21.1 C
Ranchi
Friday, February 23, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeबड़ी खबरजानिए महिला और पुरुष की पर्सनालिटी कैसे होती है अलग, दोनों एक दूसरे से क्या करते हैं उम्मीद

जानिए महिला और पुरुष की पर्सनालिटी कैसे होती है अलग, दोनों एक दूसरे से क्या करते हैं उम्मीद

Personality Of Men And Women: इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि कैसे पुरुष और महिला के बीच की दूरी कम किया जा सकता है. साथ ही दोनों एक-दूसरे के मतभेदों का सम्मान कर अपने संबंधो को कैसे मजबूत बना सकते हैं.

Personality Of Men And Women: जब हम किसी व्यक्ति के साथ संबंधों में रहते हैं तो उम्मीद करते हैं कि वह भी बिल्कुल हमारे जैसा ही व्यवहार करेगा. लेकिन, ऐसा बिल्कुल नहीं होता है. तब ऐसा लगता है कि जैसे वह किसी दूसरे उपग्रह से आया है. इस स्थिति में अफसोस व मलाल करने अलावा कुछ नहीं बचता. इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि कैसे पुरुष और महिला के बीच की दूरी कम किया जा सकता है. साथ ही दोनों एक-दूसरे के मतभेदों का सम्मान कर अपने संबंधो को कैसे मजबूत बना सकते हैं.

आप कल्पना कीजिए कि हम सभी अलग-अलग ग्रहों से आए हैं. जैसे कि पुरुष मंगल ग्रह से हैं और महिलाएं शुक्र से हैं. अब कल्पना करें कि मंगल ग्रह के लोगों ने अपनी दूरबीन के माध्यम से शुक्रवासियों की खोज की और उनसे मिलने के लिए अंतरिक्ष की यात्रा कर शुक्र ग्रह पर पहुंचे. यहां शुक्रवासियों ने मंगल ग्रह के लोगों का खुले दिल से स्वागत किया. प्यार की जीत हुई और दोनों एक साथ सौहार्दपूर्ण ढंग से रहने लगे. जब एक दिन वे एक साथ पृथ्वी पर आए तो भूलने की बीमारी से पीड़ित हो गए. मंगल ग्रह के निवासी और शुक्रवासी पूरी तरह भूल गए कि वे अलग-अलग ग्रहों से आए हैं और प्यार की जगह तकरार ने जगह ले ली.

महिला और पुरुष दोनों एक दूसरे से रखते हैं यह उम्मीद

क्या आपने किसी महिलाओं को यह कहते हुए सुना है कि पुरुष कभी उसकी नहीं सुनते? जब एक महिला हारी हुई महसूस करती है तो वह अपनी भावनाओं और विचारों को समझने वाले साथी से मदद की उम्मीद करती है. हालांकि, पुरुष मानता है कि उसका काम महिला की समस्या का समाधान करना है. इसके बदले में वह महिला से प्रशंसा और प्यार की उम्मीद करता है. लेकिन, इससे बिल्कुल अलग होता है. महिला को वह मदद नहीं मिलती जिसकी वास्तव में उसको तलाश रहती है. इससे पुरुष के प्रति उसके मन में दुर्भावना आने लगता है. अगर पुरुष को इससे बचना है तो उसका पहला कर्तव्य बनता है कि वह अपने महिला साथी की बात सुनकर उसकी समस्या का समाधान करे.

Also Read: Relationship Tips: ये 7 संकेत बताते हैं कि आप नए रिलेशनशिप के लिए नहीं है रेडी

वहीं बाहर की समस्याओं से परेशान पुरुष अपने आपको महिला साथी से दूर अकेले में रहना पसंद करते हैं. इसका मूल कारण यह है कि वे नहीं चाहते कि उनका साथी भी परेशान हो. इसलिए वे अकेले रहना पसंद करते हैं. इसका यह परिणाम होता है कि वह अस्थायी रूप से अपने रिश्तों से अलग हो सकते हैं. इस प्रकार की समस्याएं दोनों के रिश्तों के बीच खाइयों को जन्म दे सकती है. एक महिला को अपने पुरुष साथी का परेशान होना नहीं देखा जाता है. आख़िरकार दोनों एक दूसरे को अपना विचार जाहिर करके दिखाते हैं कि उनमें बहुत प्यार हैं. फिर पुरुष और महिला अपने बीच के रिश्तों की दूरी को कम करने के लिए एक-दूसरे के आदतों को अपना कर एक साथ रहने लगते हैं. वास्तव में जब कोई व्यक्ति किसी को पसंद करता है तो वह उसकी जरूरत से अधिक मदद करने के लिए तैयार रहता है. साथ ही उसका ध्यान रखना भी शुरू कर देता है.

Also Read: कैसा है आपका लव बॉन्ड, ये रिलेशनशिप टेस्ट बताएगा कितना मजबूत है आपका रिश्ता
इस किताब में हम जान सकते हैं महिला और पुरुष के बारे में

आज के मॉडर्न जमाने में लोग अपने रिलेशनशिप को सुरक्षित रखने के लिए विश्वसनीय सलाहकार की तलाश करते हैं. ताकि ऐसा सुझाव दे कि उनका अपने साथी के साथ रिलेशन बेहतर ढंग से चल सके. बता दें कि 1992 में प्रकाशित मेन आर फ़्रॉम मार्स, वुमेन आर फ़्रॉम वीनस किताब पुरुषों और महिलाओं को एक-दूसरे को समझने और उनके मतभेदों को सुलझाने में मदद करती है. इस किताब के लेखक जॉन ग्रे ने इस किताब में महिला और पुरुष को अलग-अलग ग्रहों से आने वाले ऐलियन के रूप में प्रस्तुत किया है. जिसमें पुरुषों को “मार्टियंस” और महिलाओं को “वीनसियंस” के रूप में दर्शाया गया है. यह किताब एक-दूसरे को बेहतर ढंग से समझने और मजबूत रिश्ते स्थापित करने में मदद कर सकती है.

Also Read: कहीं आप भी तो नहीं हैं रिलेशनशिप डिप्रेशन के शिकार, ऐसे चेक कर आज ही करें सुधार

इस किताब में बताया गया है कि पुरुष मंगल ग्रह से है और महिलाएं शुक्र से हैं. साथ ही उनके रिश्तों पर लिंग और भेद का पड़ने वाले प्रभाव पर प्रकाश डाला गया है. हम इस किताब के माध्यम से यह भी जान सकते हैं कि पुरुष और महिलाएं एक दूसरे के बारे में क्या बोलेते, सोचते और महसूस करते हैं. यह किताब महिला और पुरुष के बीच चल रही गलतफहमियों पर काबू पाने और मजबूत संबंधों को बढ़ावा देने में मदद करती है. इस किताब में दिए गए सलाह से लोग प्रभावित हुए हैं, उनका अपने महिला साथी के साथ रिश्तों के प्रति रुझान बढ़ा है.

Also Read: लॉंग डिस्टेंस रिलेशनशिप वाले ऐसे करें वैलेंटाइन डे को सेलिब्रेट, रिश्तें में घुलेगी मिठास

इस किताब के माध्यम से महिला और पुरुष एक दूसरे के बारे में अपनी समझ बढ़ा सकते हैं. लेखक जॉन ग्रे का कहना है कि हम जो हैं उससे समझौता किए बिना भी छोटे-छोटे बदलाव किए जा सकते हैं. बता दें इस किताब के लेखक जॉन ग्रे ने पीएचडी की उपाधी प्राप्त की है. वे एक लोकप्रिय वक्ता हैं. उन्होंने रिश्तों के बारे में 20 से अधिक किताबें लिखी हैं. साथ ही ओपरा, द डॉ. ओज़ शो, गुड मॉर्निंग अमेरिका, द टुडे शो जैसे कई अन्य टीवी प्रोग्राम में भी दिखाई दिए हैं.

Also Read: Vastu Tips For Money: पानी की तरह बह जा रहा पैसा तो घर में जल्द करें ये वास्तु टिप्स

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें