1. home Hindi News
  2. entertainment
  3. mirzapur web series directer says that he will cast shahrukh khan as role of munna tripathi sunny deol as guddu pandit and pankaj kapoor as the role of kalin bhaiya if mirzapur was made in the era of 90s watch mirzapur online sry

Mirzapur: तो गुड्डू पंडित के किरदार में दिखते सनी देओल और शाहरुख खान निभाते मुन्ना भैया का किरदार, निर्देशक ने शेयर की मजेदार बात

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

मिर्जापुर वेब सीरिज दर्शकों की पसंदीदा वेब सीरिज बनकर सामने आई है. जितना प्यार लोगों ने मिर्जापुर को दिया था, उतना ही प्यार लोगों ने इसके दूसरे सीजन को भी दिया है. लोगों के बीच इसके डायलॉग्स काफी चर्चित हुए हैं. इस वेब सीरिज के निर्देशक करण अंशुमन और गुरमीत सिंह से एक मजेदार सवाल पूछा गया कि अगर मिर्जापुर सीरिज 90 के दशक में बनती तो इसमें वो किस अभिनेता को लेते. इसपर निर्देशक ने दिलचस्प जवाब देते हुए कहा कि 90 के दशक में अगर मिर्जापुर रिलीज होती तो वो गुड्डू पंडित के किरदार के लिए सनी देओल और मुन्ना त्रिपाठी के किरदार के लिए शाहरुख खान को लेते, साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि कालीन भैया के किरदार के लिए पंकज कपूर को वो चयन करते. निर्देशक द्वारा कही गयी ये बात सनी और शाहरुख के फैंस को काफी पसंद आई है. आपको बता दें शाहरुख और सनी एक साथ 90 के दशक की सुपरहिट फिल्म डर में साथ दिख चुके हैं.

सीजन 1 के शादी की रात ही मरने वाले थे चचा, दिव्येंदु ने किया खुलासा

मिर्जापुर के सीजन 1 के अंतिम एपिसोड योग्य में जिस शादी में आकर मुन्ना त्रिपाठी ने खून खराबा कर दिया था, उसी शादी में चचा भी उनके हाथों मरने वाले थे, पर दिव्येंदु यानी मुन्ना त्रिपाठी ने एक इंटरव्यू में बताया कि नवाब साहब का किरदार निभा रहे हेमंत कपाडिया मरने वाले थे, पर उनका कहना था कि वो अपनी शेरवानी पर खून के धब्बे नहीं चाहते थे इसलिए उन्हें मरना नहीं है. इसके अलावा दिव्येंदु ने बताया कि उन्होंने इस सीन को इप्रोवाइज किया और रेस्ट कर लिजिए वर्ना रेस्ट इन पीस हो जाइएगा वाली लाइन जोड़ी है.

क्‍या है मिर्ज़ापुर की कहानी?

पिछले सीजन की तरह इस सीजन भी सवाल यही है कि मिर्ज़ापुर की गद्दी पर कौन बैठेगा. गुड्डू भैया (अली फ़ज़ल) को इस बार मिर्ज़ापुर भी चाहिए और स्वीटी बबलू की मौत का बदला भी तो वहीं मुन्ना त्रिपाठी (दिव्येन्दु शर्मा) को अपने पुराने दुश्मन गुड्डू का खात्मा कर अपने पिता कालीन भैया को साबित करने की जद्दोजहद बरकरार है. कालीन भैया इस बार हथियारों और अफीम ही बल्कि राजनीति के ज़रिए भी अपने वर्चस्व को बढ़ाते नज़र आए हैं. घायल गुड्डू किस तरह से अपने बदले को पूरा कर मिर्ज़ापुर की गद्दी को लेगा. यही कहानी है.

Posted By: Shaurya Punj

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें