16.4 C
Ranchi
Monday, February 26, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeमनोरंजनबॉलीवुडविधु विनोद चोपड़ा ने इस वजह से नहीं बनाई मुन्नाभाई 3, दुनिया को बेहतर बनाने के लिए 12वीं फेल...

विधु विनोद चोपड़ा ने इस वजह से नहीं बनाई मुन्नाभाई 3, दुनिया को बेहतर बनाने के लिए 12वीं फेल का किया निर्माण

विधु विनोद चोपड़ा ने कहा कि एक कलाकार या फिल्म निर्माता के रूप में उनका काम दुनिया को पहले से थोड़ा बेहतर बनाना है. उन्होंने कहा, इसलिए अगर मैं ऐसी फिल्म बना सकता हूं, जो लोगों के जीवन में थोड़ा सा बदलाव ला सके, तो इससे मुझे प्रेरणा मिलती है, पैसे ने मुझे कभी प्रेरित नहीं किया.

फिल्म निर्माता विधु विनोद चोपड़ा का मानना है कि फिल्मों को किसी व्यावसायिक मॉडल की तरह नहीं, बल्कि बदलाव के स्रोत के रूप में काम करना चाहिए. विधु विनोद ‘12वीं फेल’ के साथ तीन साल बाद बड़ी स्क्रीन पर वापसी कर रहे हैं. यह फिल्म महत्वाकांक्षाओं, समर्पण और असफलताओं से पार पाने की कहानी दर्शाती है. ‘खामोशी’, ‘परिंदा’, ‘1942 : ए लव स्टोरी’ और ‘मिशन कश्मीर’ जैसी फिल्मों के लिए जाने जाने वाले विधु विनोद ने कहा कि उन्होंने कभी पैसों को दिमाग में रखकर रचनात्मक फैसले नहीं किए.

जीवन में बदलाव लाने वाली फिल्में बनाना चाहता हूं

विधु विनोद चोपड़ा ने ‘पीटीआई-भाषा’ से एक साक्षात्कार में कहा कि एक कलाकार या फिल्म निर्माता के रूप में उनका काम दुनिया को पहले से थोड़ा बेहतर बनाना है. उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए अगर मैं ऐसी फिल्म बना सकता हूं, जो लोगों के जीवन में थोड़ा सा बदलाव ला सके, तो इससे मुझे प्रेरणा मिलती है, पैसे ने मुझे कभी प्रेरित नहीं किया. मैं ‘मुन्नाभाई’ 3, 4, 5, 6… बना सकता था और करोड़पति बन सकता था, जो कि मैं नहीं हूं. मैंने विक्रांत मैसी के साथ ‘12वीं फेल’ बनाने का फैसला किया.’’

अपनी फिल्मों को लेकर क्या बोले विधु विनोद

विधु विनोद चोपड़ा ने कहा, ‘‘मैंने ‘परिंदा’ में हिंसा के बारे में बात की. ‘1942 : ए लव स्टोरी’ देशभक्ति पर आधारित थी और ‘मिशन कश्मीर’ धार्मिक विभाजन पर… मेरी सभी फिल्मों के लिए यह आवश्यक है कि वे कोई संदेश दें.’’ ‘12वीं फेल’ आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) अधिकारी मनोज कुमार शर्मा और आईआरएस (भारतीय राजस्व सेवा) अधिकारी श्रद्धा जोशी की कहानी है. यह अनुराग पाठक के सबसे ज्यादा बिकने वाले उपन्यास पर आधारित है. फिल्म में मेधा शंकर के साथ मैसी मुख्य भूमिका में हैं.

विधु विनोद बोले फिल्म लिखने में लगती है मेहनत

विधु विनोद चोपड़ा ने कहा, ‘‘जब मैं 66 साल का था, तब मैंने यह फिल्म लिखनी शुरू की थी और अब मैं 71 साल का हूं. आप इस तरह की फिल्म कुछ महीनों में नहीं लिख सकते. इसमें वर्षों लग जाते हैं, क्योंकि हर किरदार की एक कहानी होती है. यह किसी की जीवनी नहीं है. यह हम में से हर एक की कहानी है….’’ उन्होंने कहा कि यह फिल्म ‘‘जीवन में फिर से शुरुआत’’ करने के विचार पर आधारित है.

Also Read: गदर 2-जवान नहीं बल्कि ये फिल्म सबसे पहले 100 करोड़ के क्लब में हुई थी शामिल, नाम जान लगेगा झटका

इस शख्स के करीब है विधु विनोद

विधु विनोद चोपड़ा ने कहा, ‘‘मेरी पत्नी और बच्चों के अलावा मेरा भाई दुनिया में मेरा सबसे करीबी था. वैश्विक महामारी के दौरान, जब मैं इन फिल्म पर काम कर रहा था, उस समय वह मालदीव में था. उसने मुंबई आने में देरी कर दी और वह जीवित नहीं बच सका. इसने मुझे बहुत प्रभावित किया.’’ उन्होंने कहा,‘‘करीब एक सप्ताह में मुझे एहसास हुआ कि मेरा इस तरह प्रभावित होना मेरे आसपास के लोगों के लिए उचित नहीं है. मैं पहले से ही कहानी पर काम कर रहा था और फिर से शुरुआत करने की पूरी अवधारणा तभी मेरे दिमाग में आई.’’विधु विनोद चोपड़ा ने कहा कि इस व्यक्तिगत क्षति से उबरने के दौरान उन्हें एहसास हुआ कि जीवन एक वीडियो गेम की तरह है, ‘‘आप हारते हैं, एक बटन दबाते हैं और फिर आगे बढ़ते हैं.’’

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें