1. home Hindi News
  2. entertainment
  3. actress swara bhaskar reached delhi from mumbai via road to see her injured mother in lockdown

स्वरा भास्कर की मां इरा को लगी चोट, लॉकडाउन में कार से सड़क के रास्ते मुंबई से दिल्ली पहुंची एक्ट्रेस

By Divya Keshri
Updated Date
Swara Bhaskar reached delhi
Swara Bhaskar reached delhi
Instagram

बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) लॉकडाउन के दौरान मुंबई से दिल्ली पहुंची हैं. स्वरा ने ये सफर अपनी मां के लिए किया है. पिछले हफ्ते एक्ट्रेस की मां गिर गई थी, जिसके कारण उन्हें काफी चोट आई थी. अपनी मां की हालत जानने के बाद स्वरा परेशान हो गई थी औऱ इसी वजह से वो अपनी कार से सड़क के रास्ते दिल्ली पहुंची. हालांकि इसके लिए उन्होंने अथॉरिटीज की परमिशन ली.

दरअसल, पिछले ही हफ्ते ही स्वरा की मां गिर गई थी, इस वजह से उनके कंधे में फ्रैक्चर हो गया था. जब इस बात की जानकारी एक्ट्रेस को मिली तो वो काफी घबरा गई. इस बारे में स्वरा ने बात करते हुए कहा, 'जब मुझे पता चला कि मेरी मां गिर गई हैं और उनके दाहिने हाथ में फ्रैक्चर हो गया है, तो मैं बेहद परेशान हो गई. उस वक्त मुझे जल्द से जल्द दिल्ली भागने का ख्याल आया, ताकि मैं उनकी देखभाल कर सकूं, लेकिन लॉकडाउन के चलते यह मुमकिन नहीं था.'

अभिनेत्री ने आगे कहा, 'तो जल्द से जल्द जैसे ही प्रक्रिया की शुरूआत हुई, मैंने मुंबई से दिल्ली सड़क के रास्ते जाने के लिए आवेदन किया. यह एक काफी लंबा सफर रहा, एक रात के ठहराव के साथ पूरे दो दिन लगे. यह एक लंबा, लेकिन सुरक्षित सफर रहा और सफर की अनुमति मिलने के चलते मैं आभारी हूं. अब मैं यहां अपनी मां के साथ हूं. मैं उनके बालों में कंघी करने और कपड़े बदलने में उनकी मदद कर रही हूं. मैंने स्व-एकांतवास और होम क्वारंटाइन की प्रक्रिया का पालन किया." उन्होंने आगे कहा, मैंने माता-पिता को कुछ नहीं बताया था क्योंकि मैं जानती थी कि वे परेशान होंगे. यही वजह है कि दिल्ली में मुझे देखकर वे सरप्राइज थे.'

बता दें कि स्वरा की मां इरा भास्कर जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं और कैंपस में ही रहती हैं. वहीं, हाल ही में स्वरा भास्कर ने फैजल सिद्दीकी के एसिड अटैक वाले वीडियो पर अपनी भड़ास निकाली थी. उन्होंने कहा था, आप इस तरह के कंटेंट क्यों और कैसे डालने की इजाज़त दे रहे हैं, जिसमें जाहिर तौर पर महिलाओं के खिलाफ आक्रमकता और हिंसा का जश्न मनाते हुए दिखाया जा रहा है और रूढ़िवादिता को बढ़ावा दिया जा रहा है.'

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें