25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

BPSC TRE 2.0: दूसरे चरण की शिक्षक भर्ती परीक्षा की बदली तारीख, अब इस दिन होगा एग्जाम, जानें क्यों हुआ बदलाव

बीपीएससी अध्यक्ष अतुल प्रसाद ने शुक्रवार को पोस्ट कर कहा कि 14, 15 और 16 दिसंबर को होने वाली परीक्षा अब सात, 14 और 15 दिसंबर को होगी. पुराने शेडयूल में 14 दिसंबर को होने वाली प्रधानाध्यापक परीक्षा अब नये शेडयूल में सात दिसंबर को ही होगी.

BPSC TRE 2.0: बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने दूसरे चरण की शिक्षक नियुक्ति परीक्षा की तिथि गुरुवार को जारी की थी. परीक्षा सात से 16 दिसंबर तक विभिन्न जिलों में स्थित परीक्षा केंद्रों पर एक पाली में आयोजित की जानी थी. लेकिन 14, 15 और 16 दिसंबर को निर्धारित परीक्षा तिथि में बीपीएससी ने बदलाव कर दिया है. अब यह परीक्षा सात, 14 और 15 दिसंबर कर दिया है. इस बात की जानकारी बीपीएससी अध्यक्ष अतुल प्रसाद ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स के माध्यम से दी.

एक पाली में होगी परीक्षा

अतुल प्रसाद ने शुक्रवार को पोस्ट कर कहा कि 14, 15 और 16 दिसंबर को होने वाली परीक्षा अब क्रमश: सात, 14 और 15 दिसंबर को होगी. पुराने शेडयूल में 14 दिसंबर को होने वाली प्रधानाध्यापक परीक्षा अब नये शेडयूल में सात दिसंबर को ही होगी. इसी प्रकार पुराने शेडयूल में 15 दिसंबर को होने वाली वर्ग एक से पांचवीं तक की परीक्षा नये शेडयूल में 14 दिसंबर को ही होगी जबकि 16 दिसंबर को होने वाली 11वीं से 12वीं के सभी विषयों की परीक्षा अब 15 दिसंबर को ही होगी. सात से 10 दिसंबर तक होने वाली परीक्षा को यथावत रखा गया है. नये शेडयूल में भी परीक्षा एक पाली में दोपहर 12 बजे से 2:30 बजे तक ही होगा.

संशोधित नया शेडयूल

  • सात दिसंबर: संगीत, कला (पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग वर्ग नौ से 10वीं व अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग वर्ग छठी से 10वीं के लिए) और प्रधानाध्यापक पद के लिए पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग व अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग

  • आठ दिसंबर: हिंदी, अंग्रेजी, विज्ञान, गणित, समाजिक विज्ञान, संस्कृत, उर्दू, अरबी, फारसी, बांग्ला, ललित कला, नृत्य, शारीरिक शिक्षा, मैथिली, संगीत एवं कंप्यूटर (शिक्षा विभाग वर्ग नौवीं से 10वीं, पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग वर्ग नौवीं से 10वीं-संगीत, कला विषय को छोड़कर व अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग वर्ग छठी से 10वीं संगीत, कला विषय को छोड़कर)

  • नौ दिसंबर: गणित एवं विज्ञान, सामाजिक विज्ञान (शिक्षा विभाग छठी से आठवीं विषय भाषा हिंदी एवं अंग्रेजी) व पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग वर्ग छठी से आठवीं तक

  • 10 दिसंबर: अंग्रेजी, हिंदी, संस्कृत, उर्दू (शिक्षा विभाग छठी से आठवीं)

  • 14 दिसंबर: प्रधानाध्यापक पद के लिए पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग व अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग और वर्ग एक से पांचवीं सभी विषय (सामान्य, उर्दू, बांग्ला) शिक्षा विभाग व अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग

  • 15 दिसंबर: वर्ग 11वीं से 12वीं सभी विषय (शिक्षा विभाग, पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग और अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग )

Also Read: BPSC TRE 2.0: दूसरे चरण की शिक्षक भर्ती परीक्षा के लिए BPSC ने जारी किया शेड्यूल, जानें कब होगा कौन सा पेपर

अभ्यर्थी परीक्षा तिथि में बदलाव की कर रहे थे मांग

गौरतलब है कि बीपीएससी की ओर से परीक्षा तिथि जारी होने के साथ ही अभ्यर्थियों में आक्रोश बढ़ गया था. स्टूडेंट्स सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर परीक्षा तिथि में बदलाव करने की मांग कर रहे थे. इसके साथ ही कई अभ्यर्थियों ने शुक्रवार को बीपीएससी ऑफिस पहुंच कर परीक्षा तिथि में बदलाव की मांग भी की. इसके बाद शुक्रवार देर शाम बीपीएससी ने परीक्षा तिथि में बदलाव कर दिया.

क्यों नाराज थे शिक्षक अभ्यर्थी

शिक्षक अभ्यर्थियों ने कहा कि एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालयों (इएमआरएस) में शिक्षण और गैर-शिक्षण शिक्षकों के 10,391 पदों के लिए 16 दिसंबर से परीक्षा शुरू हो रही है. इएमआरएस की परीक्षा 16 से 24 दिसंबर तक चलेगी. 16 को प्राचार्य व पीजीटी की परीक्षा दोनों पाली में है. वहीं, 17 दिसंबर को हॉस्टल वार्डन और जूनियर असिस्टेंट के लिए परीक्षा होगी. 15 को बीपीएससी शिक्षक नियुक्ति परीक्षा देकर दूसरे दिन 16 दिसंबर को इएमआरएस परीक्षा में शामिल होने से वंचित होना पड़ेगा. बीपीएससी को इस पर ध्यान देना होगा.

अभ्यर्थियों ने कहा कि इसके साथ 83 विषयों के लिए यूजीसी नेट भी छह से 14 दिसंबर तक आयोजित किया जाना है. कई परीक्षा की तिथि पहले से तय होने के बाद भी बीपीएससी ने एग्जाम तिथि तय करने में अन्य एग्जाम का ध्यान नहीं रखा. इसके कारण भी शिक्षक अभ्यर्थी काफी नाराज हैं. इसके साथ ही 16 के बाद 17 दिसंबर को भी कई परीक्षाएं होगी. इस कारण 16 दिसंबर को दूसरे शहर में परीक्षा देकर पुन: 17 दिसंबर को दूसरे शहर पहुंचने में परेशानी होगी.

Also Read: सासाराम पहुंचे केके पाठक ने शिक्षकों को सुनाया नया फरमान, कहा- एक शिक्षक हर दिन लेंगे छह क्लास

17 दिसंबर को पांच-पांच परीक्षाएं

छात्र नेता सौरव कुमार सिंह ने कहा कि पांच-पांच परीक्षाओं की तिथि एक ही दिन टकरा गयी है, जिससे लाखों परीक्षार्थियों के मन में असमंजस स्थिति है. एक साथ कई परीक्षा की तिथि टकराने से कौन सी परीक्षा को दे और किसे छोड़े इसको लेकर परेशानी शुरू हो गयी है. सौरव कुमार ने कहा कि बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग द्वारा दरोगा की प्रारंभिक परीक्षा 17 दिसंबर को, सिविल कोर्ट की परीक्षा भी 17 दिसंबर को, झारखंड कर्मचारी चयन की प्रारंभिक परीक्षा भी 17 दिसंबर को, एमपी पीसीएस की पीटी परीक्षा भी 17 दिसंबर को आयोजित है. जबकि एक दो और परीक्षा की तिथि भी 17 दिसंबर को पहले से घोषित है.

Also Read: बिहार में केके पाठक की राह पर अधिकारी, वर्तनी-अशुद्धि के फेर में निलंबित किए जा रहे शिक्षक

असमंजस में परीक्षार्थी

लाखों परीक्षार्थी इस असमंजस की स्थिति में है कि किसी परीक्षा को दिया और किस छोड़ें. जबकि तीन प्रमुख ऐसी परीक्षा है जिसमें बिहार दरोगा, सिविल कोर्ट, झारखंड कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा है, जिसमें बिहार के अधिकांश बच्चे शामिल होंगे. इसलिए बिहार सिविल कोर्ट के परीक्षा की तिथि और झारखंड कर्मचारी चयन आयोग की तिथि भी आगे बढ़ायी जाये, ताकि परीक्षार्थी सभी परीक्षाओं में शामिल हो सके और नौकरी करने का अवसर उनके हाथ से न छूटे.

Also Read: बिहार के 200 से अधिक प्राचार्यों को अगले आदेश तक नहीं मिलेगा वेतन, जानिए शिक्षा विभाग ने क्यों लिया एक्शन

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें