1. home Home
  2. career
  3. neet jee main 2021 changes in the process of result if the numbers of 2 subjects are equal then the result will be decided from tai breaker policy srn

NEET और JEE Mains Exam की रिजल्ट प्रक्रिया में बदलाव, 2 विषयों के नंबर बराबर होने पर ऐसे होगा रिजल्ट का फैसला

जेइइ मेंस व नीट के टाइ ब्रेकर में बदलाव, टाइ होने पर उम्र की जगह विषय के अंक को महत्व. एनटीए की ओर से मेडिकल नीट 2021 की परीक्षा 12 सितंबर को आयोजित होगी. रजिस्ट्रेशन कर चुके अभ्यर्थियों का एडमिट कार्ड नौ सितंबर को जारी होगा.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
जेइइ मेंस व नीट के टाइ ब्रेकर में बदलाव, टाइ होने पर उम्र की जगह विषय के अंक को महत्व
जेइइ मेंस व नीट के टाइ ब्रेकर में बदलाव, टाइ होने पर उम्र की जगह विषय के अंक को महत्व
Twitter

NEET, JEE Main 2021 Result रांची : नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने इस वर्ष मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट और जेइइ मेंस परीक्षा की रिजल्ट प्रक्रिया में बदलाव किया है. जेइइ मेंस व नीट 2021 रिजल्ट की टाइ ब्रेकर पॉलिसी बदली गयी है. वहीं, 2021 में होनेवाली प्रतियोगिता परीक्षा की रैंक लिस्ट में अब अधिक उम्र के अभ्यर्थियों को प्राथमिकता देने की व्यवस्था भी खत्म कर दी गयी है.

अब विद्यार्थियों की परीक्षा में खंडवार अंक को प्राथमिकता मिलेगी. बीते वर्ष नीट 2020 में, टॉपर विद्यार्थियों को 720 में से 720 अंक प्राप्त मिले थे, जबकि रैंक वन के लिए विद्यार्थी की अधिक उम्र को वरीयता दी गयी थी.

जेईई मेंस की टाई ब्रेकिंग पॉलिसी :

जेइइ मेंस की परीक्षा में विद्यार्थियों से फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स के प्रश्न पूछे जाते हैं. परीक्षार्थी का मैथ्स में ज्यादा एनटीए स्कोर होने पर उन्हें मेरिट में ऊपर जगह मिलेगी. वैसे विद्यार्थी जिनके मैथ्स के अंक समान होंगे, उनके रैंक का फैसला फिजिक्स के एनटीए स्कोर से होगा. अगर मैथ्स और फिजिक्स के अंक बराबर हुए तो केमिस्ट्री के अधिक अंक से रैंक मिलेगा. वहीं, वैसे विद्यार्थी जिनके तीनों विषय के अंक समान होने पर रैंक का निर्णय सही उत्तरों की तुलना में कम गलत उत्तर देने वाले को प्राथमिकता देकर रैंक दिया जायेगा.

नीट 2021 की टाई ब्रेकिंग पॉलिसी :

मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट में बायोलॉजी, फिजिक्स व केमिस्ट्री खंड से प्रश्न पूछे जाते हैं. बायोलॉजी (बॉटनी व जूलॉजी) में अधिक अंक हासिल करने वाले परीक्षार्थियों को मेरिट में ऊपर रखा जायेगा. विद्यार्थी के रैंक बायोलॉजी से तय नहीं होने पर केमिस्ट्री विषय के अंक से निर्णय लिया जायेगा. वहीं इसके बावजूद रैंक टाइ ब्रेकिंग में समस्या हुई, तो सभी विषयों में सही उत्तर और अटेम्पट किये गये प्रश्न से गलत उत्तर के कम अनुपात होने पर विद्यार्थियों को वरीयता मिलेगी. एनटीए की ओर से मेडिकल नीट 2021 की परीक्षा 12 सितंबर को आयोजित होगी. रजिस्ट्रेशन कर चुके अभ्यर्थियों का एडमिट कार्ड नौ सितंबर को जारी होगा.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें