1. home Hindi News
  2. business
  3. lic new updates bima jyoti scheme guaranteed returned fixed income latest updates bima jyoti yojana kwnw full details prt

इस योजना में है फिक्स्ड इनकम के साथ रिटर्न की पूरी गारंटी, जानें LIC की इस खास पॉलिसी के बारे में

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
IC की खास पॉलिसी
IC की खास पॉलिसी
twitter
  • एलआईसी की नई बीमा ज्योति योजना

  • निवेश पर सालाना रिटर्न की गारंटी

  • पॉलिसी में बैक डेटिंग की भी सुविधा

LIC Bima Jyoti Plan, Fixed Income, Guaranteed Returned, Latest Updates : देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Corporation of India, LIC) ने बीमा ज्योति योजना (Bima Jyoti) के नाम से एक नई पॉलिसी पेश की है. इस स्कीम की सबसे खास बात यह है कि इसमें ग्राहकों को फिक्स्ड इनकम (Fixed Income) के साथ गारंटीड रिटर्न (Confirm Returns) की सुविधा भी मिल रही है. बता दें, यह यह एक यह एक नॉन-लिंक्ड(Non-linked), नॉन-पार्टिसिपेटिंग ( non-participating), इंडिविजुअल सेविंग्स प्लान ( individual savings plan) है.

एलआसी बीमा ज्योति (LIC Bima Jyoti) की खास बातें

  • इस प्लान में खरीदार ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से पॉलिसी ले सकते हैं.

  • पॉलिसीधारक की न्यूनतम उम्र 3 महीने दिन और अधिकतम उम्र 60 वर्ष है.

  • न्यूनतम सम एश्योर्ड 1 लाख रुपये, अधिकतम सम एश्योर्ड की कोई सीमा नहीं.

  • इस प्लान में ग्राहकों को मैच्योरिटी सेटलमेंट ऑप्शन की सुविधा मिलेगी.

  • 5, 10 और 15 सालों की किस्तों में परिपक्वता और मृत्यु लाभ का ऑप्शन मिलेगा.

  • पॉलिसी अवधि के दौरान गारंटीड एडीशन 50 रुपये प्रति हजार प्रति वर्ष बोनस.

बोनस की गारंटी: बीमा ज्योति योजना में हर साल 50 रुपये प्रति हजार के हिसाब से गारंटीड रिटर्न मिलता है. साथ ही पॉलिसीधारक के असमय निधन पर उसके परिजनों को वित्तीय समर्थन भी दिया जाएगा.

बेसिक सम एश्योर्ड: बीमा ज्योति प्लान में बेसिक सम एश्योर्ड एक लाख रुपये का है. इसमें ऊपरी सीमा कोई निर्धारित नहीं है. 15 साल की पॉलिसी अवधि के लिए पीपीटी 10 साल होगी और 16 साल की पॉलिसी के लिए पीपीटी 11 साल होगी.

ऐसे होगा प्रीमियम का भुगतान: बीमा ज्योति प्लान में प्रीमियम का भुगतान सालाना, छमाही, तिमाही या मासिक आधार पर किया जा सकता है. खास बात यह है कि, मासिक प्रीमियम का भुगतान सिर्फ नेशनल ऑटोमेटेड क्लीयिरिंग हाउस (National Automated Clearing House, NACH ) के जरिए किया जाएगा. इसके अलावा सैलरी डिडक्शन के जरिए भी प्रीमियम का भुगतान किया जा सकता है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें