1. home Hindi News
  2. business
  3. atm transaction rules now more than 5000 withdrawals from atm will have to be charged know how much money will have to be paid vwt

ATM से 5000 रुपये से अधिक निकाले तो देना होगा अतिरिक्त चार्ज, जानिए क्या है नया नियम

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
आठ साल बाद बदलने जा रहा है नियम.
आठ साल बाद बदलने जा रहा है नियम.
प्रतीकात्मक फोटो.

ATM Transaction Rules/Limits/Charges : अगर आप एटीएम से 5000 रुपये से अधिक रकम की निकासी करते हैं, तो अब आप यह जान लीजिए कि इस राशि की निकासी पर अतिरिक्त चार्ज का भुगतान करना पड़ेगा. एटीएम से निकासी के नियमों में आठ साल साल बाद बदलाव की तैयारी की जा रही है. इस नये नियम में महीने में एटीएम से पांच बार की मुफ्त निकासी शामिल नहीं होगी. इसके लिए आपको अलग से पैसों का भुगतान करना होगा और यह आपकी निकासी पर तभी लागू होगा, जब आप 5000 से अधिक की निकासी करेंगे.

5 हजार से अधिक निकासी पर 24 रुपये चार्ज

मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार, एटीएम से 5000 रुपये से अधिक रकम की निकासी पर ग्राहकों को 24 रुपये के अतिरिक्त शुल्क का भुगतान करना पड़ेगा. एटीएम से नकदी निकासी के मौजूदा नियमों के मुताबिक, महीने में पांच बार मुफ्त में नकदी निकासी की जा सकती है. इसके बाद अगर एक महीने में पांच बार से अधिक बार नकदी निकासी की जाती है, तो छठी निकासी पर 20 रुपये के शुल्क का भुगतान करना पड़ता है.

आरबीआई की समिति की सिफारिश

दरअसल, एटीएम से नकदी निकासी के नियमों में बदलाव भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की एक समिति द्वारा की गयी सिफारिशों के आधार पर किया जा रहा है. हालांकि, समिति की रिपोर्ट को अभी तक सार्वजनिक नहीं किया गया है. इस बात की जानकारी सूचना के अधिकार अधिनियम (आरटीआई) के तहत मांगी गई जानकारी में दी गई है.

पिछले साल अक्टूबर में ही आरबीआई को सौंप दी गयी थी रिपोर्ट

आरबीआई की एटीएम शुल्क की समीक्षा के लिए गठित की गई समिति ने अपनी सिफारिशें सौंप दी है. इसके आधार पर बैंक आठ साल बाद एटीएम शुल्क में बदलाव कर सकते हैं. आरटीआई में दी गई जानकारी के अनुसार, रिजर्व बैंक की समिति ने नकदी निकासी को कम करने के लिए सुझाव दिया था. इंडियन बैंक्स असोसिएशन के चीफ एग्जिक्युटिव वीजी कन्नन की अध्यक्षता में बनी समिति ने कैश निकासी की आदत को कम करने के लिए अपनी रिपोर्ट सौंपी दी है. इस रिपोर्ट को उन्होंने 22 अक्टूबर 2019 को रिजर्व बैंक को सौंपा था. हालांकि, इसे कभी सार्वजनिक नहीं किया गया. आरटीआई कार्यकर्ता श्रीकांत एल ने आरबीआई से इस संबंध में आरटीआई के जरिए जानकारी मांगी थी.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें