25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

BOI का कर्ज बढ़ा, चौथी तिमाही में 3,587 करोड़ रुपये का घाटा

मुंबई :सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ इंडिया (बीओआई) का 31 मार्च को समाप्त चौथी तिमाही का शुद्ध नुकसान कई गुना बढकर 3,587 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. डूबा कर्ज बढने से बैंक का घाटा भी बढ़ा है. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 56.14 करोड रुपये का नुकसान हुआ था. तिमाही […]

मुंबई :सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ इंडिया (बीओआई) का 31 मार्च को समाप्त चौथी तिमाही का शुद्ध नुकसान कई गुना बढकर 3,587 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. डूबा कर्ज बढने से बैंक का घाटा भी बढ़ा है. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 56.14 करोड रुपये का नुकसान हुआ था. तिमाही के दौरान बीओआई की कुल आय 12,286.98 करोड रुपये से घटकर 11,384.91 करोड रुपये पर आ गयी.
मार्च, 2016 के अंत तक बैंक की सकल गैर निष्पादित आस्तियां या डूबा कर्ज दोगुना से अधिक होकर 49,879.13 करोड रुपये पर पहुंच गया। यह सकल ऋण का 13.07 प्रतिशत है. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक का एनपीए 22,193.24 करोड रुपये या सकल ऋण का 5.39 प्रतिशत था.
समीक्षाधीन तिमाही में बैंक का शुद्ध एनपीए 27,776.40 करोड रुपये या शुद्ध ऋण का 7.79 प्रतिशत रहा. जो एक साल पहले समान तिमाही में 13,517.57 करोड रुपये या 3.36 प्रतिशत था. रिजर्व बैंक की संपत्ति की गुणवत्ता की समीक्षा (एक्यूआर) दिशानिर्देशों के अनुसार बीओआई ने डूबे कर्ज तथा अन्य आकस्मिक खर्चों के लिए अपना प्रावधान तिमाही के दौरान बढाकर 5,470.36 करोड़ रुपये कर दिया है, जो एक साल पहले समान तिमाही में 2,255.49 करोड रुपये था.
दस प्रतिशत से अधिक एनपीए की वजह से रिजर्व बैंक को तत्काल सुधारात्मक कार्रवाई के लिए कदम उठाना पड सकता है. पूरे वित्त वर्ष 2015-16 में बैंक का शुद्ध घाटा 6,089 करोड़ रुपये रहा है जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में बैंक ने 1,708.92 करोड रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था. वित्त वर्ष के लिए बैंक ने कोई लाभांश घोषित नहीं किया है. वित्त वर्ष के दौरान बैंक की कुल आय घटकर 45,449.01 करोड़ रुपये पर आ गई जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 47,662.61 करोड़ रुपये रही थी.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें