29.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Advertisement

एक होंगे कोटक महिंद्रा और आईएनजी वैश्य बैंक, 15,000 करोड रुपये में सौदा तय

मुंबई : कोटक महिंद्रा बैंक ने निजी क्षेत्र के आईएनजी वैश्य बैंक का 15,000 करोड रुपये में अधिग्रहण करने की आज घोषणा की. यह देश में बैंकिंग क्षेत्र का सबसे बडा अधिग्रहण है. इस विलय से देश में बैंकिंग क्षेत्र में अगले साल नये बैंकों के आने से पहले निजी क्षेत्र का चौथा सबसे बडा […]

मुंबई : कोटक महिंद्रा बैंक ने निजी क्षेत्र के आईएनजी वैश्य बैंक का 15,000 करोड रुपये में अधिग्रहण करने की आज घोषणा की. यह देश में बैंकिंग क्षेत्र का सबसे बडा अधिग्रहण है. इस विलय से देश में बैंकिंग क्षेत्र में अगले साल नये बैंकों के आने से पहले निजी क्षेत्र का चौथा सबसे बडा बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक एक बडे बैंक के रुप में सामने आयेगा.

कोटक महिंद्रा बैंक के कार्यकारी उपाध्यक्ष तथा प्रबंध निदेशक उदय सुरेश कोटक ने आज देर शाम संवाददाता सम्मेलन में कहा, कोटक महिंद्रा बैंक, आईएनजी वैश्य बैंक तथा कुल मिलाकर देश के वित्तीय क्षेत्र के लिये एक बडा अवसर है. हम साथ होने को लेकर वास्तव में उत्साहित हैं. यह पूरा सौदा शेयरों के जरिये होगा.

इस सौदे के लिये आईएनजी वैश्य के शेयर का मूल्य 790 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है जो 19 नवंबर को 30 दिन के शेयर के औसत मूल्य से 16 प्रतिशत अधिक है. वहीं कोटक बैंक का शेयर मूल्य उसी तरह 1,119 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है. इसके अनुसार आईएनजी वैश्य बैंक के शेयरधारकों को प्रत्येक 1,000 शेयर के बदले कोटक महिंद्रा के 725 इक्विटी शेयर जारी किये जाएंगे.

इसके आधार पर आईएनजी वैश्य बैंक का मूल्य 15,033 करोड रुपये बनता है. विलय के बाद नीदरलैंड के बैंक आईएनजी समूह एनवी की कोटक महिंद्रा बैंक में 6.5 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी. वहीं कोटक प्रर्वतकों की हिस्सेदारी 40.12 प्रतिशत से घटकर 34 प्रतिशत हो जाएगी.

कोटक ने कहा कि रिजर्व बैंक के नियमों के अनुसार दिसंबर 2016 तक कोटक को अपनी हिससेदारी कम कर 30 प्रतिशत पर लानी है. अब हमारे पास हिस्सेदारी कम कर 30 प्रतिशत पर लाने के लिये दिसंबर 2016 तक का समय है. 6.4 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ आईएनजी, कोटक बैंक में दूसरा सबसे बडा हिस्सेदार होगी.

नीदरलैंड की प्रवर्तक की हिस्सेदारी फिलहाल आईएनजी वैश्य बैंक में 43 प्रतिशत है. इस विलय से कोटक बैंक 16.5 प्रतिशत अतिरिक्त शेयर जारी करेगा. विलय के बाद आईएनजी वैश्य बैंक की सभी शाखाएं कोटक महिंद्रा बैंक की शाखाएं होंगी और आईएनजी के करीब 10,000 कर्मचारी कोटक बैंक के कर्मचारी होंगे.

नये बैंक में 1,214 शाखाएं होंगी और 1,794 एटीएम होंगे. विलय के बाद बैंक की कुल परिसंपत्ति 2,000 अरब रुपये होगी और बाजार पूंजी आज के बंद भाव के आधार 1,000 अरब रुपये होगा. बंबई शेयर बाजार में आईएनजी वैश्य बैंक का शेयर 7.15 प्रतिशत की तेजी के साथ 814.20 रुपये के भाव पर बंद हुआ.

सौदे की घोषणा कारोबार की अवधि समाप्त होने के बाद की गयी. कोटक महिंद्रा बैंक का शेयर भी बीएसई में 7.28 प्रतिशत उछलकर 1,157.05 रुपये प्रति शेयर पर बंद हुआ. यह पहला मौका है जब 2008 की नरमी के बाद कोई लाभ कमाने वाली इकाई का विलय किया गया है.

हालांकि, इस अवधि में दो और विलय हुए लेकिन उनमें परिस्थितियां अलग थी. वर्ष 2010 में बैंक ऑफ राजस्थान का आईसीआईसीआई बैंक में विलय हुआ. बैंक ऑफ राजस्थान को घाटा हो रहा था और उसका नेटवर्थ नकारात्मक हो गया था. इसके अलावा, एसबीआई की एक अनुषंगी स्टेट बैंक आफ इंदौर का उसी साल मूल बैंक में विलय हुआ.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें