34.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

रहीम दास बोले: अनुचित उचित रही लुध…

अनुचित उचित रही लुध, करहि बड़ेन के जोर ! ज्यों ससि के संयोग ते, पचवत आगि चकोर !! अर्थात महान् लोगों का सहयोग और समर्थन पाकर कभी-कभी छोटे लोग भी बड़े-बड़े काम कर जाते हैं. जैसे चंद्रमा के प्रेम में स्वंय को भूलकर चकोर अंगारे खाकर पचा लेता है.

अनुचित उचित रही लुध, करहि बड़ेन के जोर !

ज्यों ससि के संयोग ते, पचवत आगि चकोर !!

अर्थात

महान् लोगों का सहयोग और समर्थन पाकर कभी-कभी छोटे लोग भी बड़े-बड़े काम कर जाते हैं. जैसे चंद्रमा के प्रेम में स्वंय को भूलकर चकोर अंगारे खाकर पचा लेता है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें