1. home Hindi News
  2. b positive
  3. marks and exams are not the end of life mtj

मार्क्स और परीक्षा जीवन का अंत नहीं

‘जब जागे तभी सवेरा’. अपनी क्षमता को पहचानिए. जब अपनी क्षमता का एहसास हो जाता है, तो इंसान बेहतर करने का रास्ता भी खोज लेता है. जो बीत गया, सिर्फ उस पर रोते रहने, बेहतर होने की उम्मीद में समय गंवाने से बेहतर है, अपनी कमियों को चिह्नित करके आगे बेहतर करने के प्रयास में जुट जायें.

By विजय बहादुर
Updated Date
सिर्फ अंकों के आधार पर किसी छात्र के मेरिट का आकलन करना सही है?
सिर्फ अंकों के आधार पर किसी छात्र के मेरिट का आकलन करना सही है?
Demo Pic

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें