1. home Home
  2. world
  3. taliban occupied whole afghanistan america agency disclosed know afghan government strategy prt

पूरे अफगानिस्तान पर तालिबान का होगा कब्जा! दो तिहाई हिस्से पर जमा चुका है अधिकार

तालिबान ने अफगानिस्तान के दो तिहाई हिस्से पर कब्जा कर लिया है. तालिबानी आतंकी अब राजधानी काबुल की ओर बढ़ रहे हैं. इस बीच अमेरिका खुफिया एजेंसी ने कहा है कि अगले दो तीन महीनों के अंदर तालिबान पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर सकता है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
taliban
taliban
file photo
  • तीन महीनों में तालिबान कर सकता है पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा!

  • अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने किया यह खुलासा, दी चेतावनी

  • अफगानिस्तान के दो तिहाई हिस्से पर तालिबान का कब्जा

अमेरिकी सेना के हटते ही अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होता जा रहा है. और तालिबानी इसी गति से बढ़ते रहे तो अफगानिस्तान की राजधानी पर आने वाले 90 दिनों में तालिबान का कब्जा हो सकता है. अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने इसकी जानकारी दी है.अमेरिकी सेना के हटते ही तालीबबान की ताकत इतनी बढ़ गई है कि उसने अफगानिस्तान के दो तिहाई हिस्से पर कब्जा कर लिया है.

गौरतलब है , कि अफगानिस्तान में तालिबान ने तीन और सूबों की राजधानियों और सेना के स्थानीय मुख्यालय पर कब्जा कर लिया है. इसके साथ ही देश के पूर्वोत्तर हिस्से पर चरमपंथी संगठन का पूर्ण कब्जा हो गया है. तालिबान देश के 65 फीसदी हिस्‍से पर कब्‍जा कर चुका है. इसके साथ ही तालिबान के कब्जे में अफगानिस्तान का दो तिहाई हिस्सा चला गया है.

पूर्वोत्तर में बदकशान और बगलान सूबे की राजधानी से लेकर पश्चिम में फराह प्रांत तक तालिबान के कब्जे में चला गया है, जिससे देश की संघीय सरकार पर अपनी स्थिति मजबूत करने का दबाव बढ़ गया है, क्योंकि कुंदुज प्रांत का अहम ठिकाना भी उसकी हाथ से निकल गया है.

कुंदुज एयरपोर्ट स्थित अफगान सैन्य मुख्यालय भी कब्जे में

पांच दिन में नौ सूबों की राजधानियों पर तालिबान काबिज

राष्ट्रपति ने सेना प्रमुख जनरल वली अहमदजई को हटाया

वित्त मंत्री खालिद पायनदा ने पद से इस्तीफा देने के बाद अफगानिस्तान छोड़ा

तालिबान ने कंधार जेल को तोड़ कर कई राजनीतिक कैदिया को करवाया रिहा

इस बीच, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी तालिबान के कब्जे वाले इलाके से घिरे बाल्ख सूबा पहुंचे हैं, ताकि तालिबान को पीछे धकेलने के लिए स्थानीय सरदारों से मदद मांगी जा सके. तालिबान की बढ़त से फिलहाल काबुल पर सीधे तौर पर खतरा नहीं है, लेकिन सरकार दूर-दराज के इलाकों पर अपना नियंत्रण खोती जा रही है.

Posted by: Pritish sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें