1. home Home
  2. world
  3. nepal news despite landing gear failure aircraft makes successful landing in kathmandu amh

Nepal News: दो घंटे हवा में अटकी रही सांस, विमान यात्रियों ने सोचा अब जिंदा बचना मुश्‍किल फिर...

लैंडिंग गियर में खराबी का मतलब होता है या तो फोर्स लैंडिंग या फिर प्लेन क्रैश हो जाना. विराटनगर में बुद्ध एयर का विमान नहीं उतरने के बाद एयर होस्टेस ने विमान में सवार यात्रियों को सूचना दी कि कुछ तकनीकी खराबी विमान में आ गई है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
लैंडिंग गियर में खराबी,फोर्स लैंडिंग
लैंडिंग गियर में खराबी,फोर्स लैंडिंग
PTI/DEMO PIC

Nepal news : नेपाल से सोमवार को ऐसी खबर आई जिसकी चर्चा हर ओर हो रही है. जी हां, नेपाल में बुद्धा एयर का विमान लैंडिंग गेयर के फंस जाने की वजह से दो घंटे हवा में ही लटका रहा. बताया जा रहा है कि विमान में 73 यात्री सवार थे जिनके मन में कई तरह की बातें चल रहीं थी़. वे ये समझ बैठे थे कि उनका बचना अब संभव नहीं लेकिन ऐसा हुआ नहीं. दरअसल, विराटनगर विमानस्थल के एयर ट्राफिक कंट्रोल (एटीसी) ने जानकारी दी कि काठमांडू से विराटनगर आया बुद्ध एयर का BH 702 ATR-72 विमान के लैंडिंग गियर (जहाज का पिछला पहिया) में अचानक गडबड़ी आई.

इस वजह से विमान बिना लैंड किये वापस काठमांडू के तरफ जाने लगा. एटीसी के द्वारा यह खबर जैसे ही दी गई, विराटनगर से काठमांडू विमानस्थल तक सब टेंशन में आ गये. यहां चर्चा कर दें कि लैंडिंग गियर में खराबी का मतलब होता है या तो फोर्स लैंडिंग या फिर प्लेन क्रैश हो जाना. विराटनगर में बुद्ध एयर का विमान नहीं उतरने के बाद एयर होस्टेस ने विमान में सवार यात्रियों को सूचना दी कि कुछ तकनीकी खराबी विमान में आ गई है. इस वजह से विमान विराटनगर विमानस्थल पर अवतरण नहीं कर पाया. इसलिए विमान को पुन: काठमांडू की ओर प्रस्थान किया गया है.

केवल आधे घंटे के सफर होने के कारण अधिकांश यात्रियों ने यही सोचा कि काठमांडू से थोड़ी देर के बाद उनको दूसरे विमान में बैठाकर भेजने का काम किया जाएगा. यहां विमान में सवार यात्री सबसे अधिक चिंता में थे. विराटनगर में विमान के नहीं उतरने के बाद वे इंतजार में थे कि कब विमान काठमांडू में लैंड करेगा. काठमांडू के आसमान में करीब दो घंटों तक बुद्ध एयर का वह विमान उड़ान भरता रहा. इस तरह से विमान के उड़ान भरते रहने की वजह से यात्रियों के मन में तरह-तरह की आशंकाएं होने लगीं.

काठमांडू के त्रिभुवन विमानस्थल पर उस विमान के पायलट ने कई बार लैंडिंग कराने का प्रयास किया, लेकिन हर बार वो असफल रहे. अंत में एयर होस्टेस ने बताया किया कि प्लेन क्रैश नहीं हो इसके लिए फ्यूल को बर्न किया जा रहा है और काठमांडू में फोर्स लैंडिंग कराने की कोशिश की जा रही है. इतना सुनते ही यात्रियों के हाथ-पांव फूलने लगे. जब फ्यूल बिलकुल ही खत्म होने के कगार पर पहुंच गया तो अनाउंस किया गया कि अब आखिरी बार विमान के लैंडिंग का प्रयास किया जा रहा है. लेकिन, तभी मानों चमत्कार सा होता है और लैंडिंग के आखिरी प्रयास में विमान का पिछला पहिया यानी लैंडिंग गियर पूरी तरह खुल जाता है.

काठमांडू विमानस्थल के एटीसी ने पायलट को बताया कि लैंडिंग गियर खुल चुका है और आप लैंड कराने में अब सक्षम हैं. पायलट के सूझबूझ और आत्मविश्वास ने 73 यात्रियों की जान बचाने का काम किया. बताया जा रहा है कि सुबह 8:30 बजे काठमांडू से उड़ा यह विमान दो घंटे के बाद 10:35 मिनट तक लगातार हवा में रहने के बाद उतारा गया.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें