1. home Home
  2. world
  3. china build 4 village in bhutan capture 25000 acres land denger for india prt

चीन ने भूटान में बसाये 4 गांव, 25 हजार एकड़ जमीन पर किया अवैध कब्जा, भारत के लिए खतरे की घंटी

ड्रैगन ने भूटान में करीब 25 हजार एकड़ क्षेत्र पर अवैध कब्जा कर लिया है. चीन ने अपनी लोलुपता के कारण इन इलाकों में चार गांव भी बसा लिये हैं. ये चारों गांव विवादित जमीन डोकलम के पास स्थित है. एक वैश्विक शोधकर्ता ने सैटेलाइट तस्वीरों के जरिए इस बात का खुलासा किया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
चीन ने भूटान में बसाये 4 गांव
चीन ने भूटान में बसाये 4 गांव
Twitter

पूरे एशिया में अपना दबदबा कायम करने के लिए चीन अपनी ताकत में लगातार इजाफा कर रहा है. इसके साथ साथ चीन हड़प नीति का सहारा लेकर भी दूसरे देशों के इलाकों में अवैध कब्जा कर रहा है. इस कड़ी में खबर है कि चीन भारत के पड़ोसी मुल्क भूटान की सीमा पर चार गांव बसा लिया है.

एनडीटीव कीखबर के मुताबिक,ड्रैगन ने भूटान में करीब 25 हजार एकड़ क्षेत्र पर अवैध कब्जा कर लिया है. चीन ने अपनी लोलुपता के कारण इन इलाकों में चार गांव भी बसा लिये हैं. ये चारों गांव विवादित जमीन डोकलम के पास स्थित है. एक वैश्विक शोधकर्ता ने सैटेलाइट तस्वीरों के जरिए इस बात का खुलासा किया है.

दरअसल, वैश्विक शोधकर्ता @detresfa ने इस बात का खुलासा किया है. इस तस्वीरों में साफ दिखाई दे रहा है कि, कैसे चीन अपनी सीमा लांघकर भूटान के बड़े इलाके पर कब्जा जमा लिया है. गौरतलब है कि इस जमीन पर चीन और भूटान के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है. दोनों देश इस जमीन पर अपना दावा कर रहे हैं.

चीन ने किया था भूटान के साथ सीमा समझौता: गौरतलब है कि कुछ समय पहले ही चीन ने भूटान के साथ समा समझौता किया था. दोनों देशों ने सीमा समझौता पर हस्ताक्षर किए हैं. दरअसल चीन ने हाल में ही अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए नया सीमा कानून बनाया है. नये कानून को चीन की नेशनल कांग्रेस ने भी मंजूरी दे दी है. अब साल 2022 के जनवरी में इस कानून को लागू भी कर दिया जाएगा.

बता दें, चीन का भारत के साथ पुराना सीमा विवाद है. एलएसी पर दोनों देशों ने सेना का समावड़ा लगाया हुआ है. आये दिन चीनी घुसपैठ की खबर आ ही जाती है. ऐसे में अगर भूटान की सीमा पर चीन कोई निर्माण करता है तो इसका असर भारत में भी पड़ेगा. भारत के लिए यह चिंता की बात है. क्योंकि इस जमीन का इस्तेमाल चीन भारत के खिलाफ भी कर सकता है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें