1. home Hindi News
  2. world
  3. britain made its stand clear on the farmers movement said that agricultural reform is indias domestic issue vwt

भारत के किसान आंदोलन पर निचली सदन में चर्चा कराने से ब्रिटेन ने झाड़ा पल्ला, सांसद जैकब रेस-मॉग ने कृषि सुधार पर कही बड़ी बात

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
ब्रिटेन में गोवा मूल के जैकब रेस मॉग कंजर्वेटिव पार्टी के नेता है.
ब्रिटेन में गोवा मूल के जैकब रेस मॉग कंजर्वेटिव पार्टी के नेता है.
फोटो सोशल मीडिया.
  • हाउस ऑफ कॉमन्स में लेबर पार्टी के सांसदों की मांग पर जैकब रेस-मॉग ने दिया जवाब

  • भारत में किसान आंदोलन पर करीबी से नजर रख रहा है ब्रिटेन

  • निचली सदन में भारत के किसान आंदोलन पर चर्चा के लिए चलाया गया हस्ताक्षर अभियान

Kisan Andolan : ब्रिटेन की संसद के निचली सदन यानी हाउस ऑफ कॉमंस के नेता ने भारत में नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के प्रदर्शन पर अपनी सरकार के रुख को स्पष्ट कर दिया है. उन्होंने कहा है कि कृषि सुधार उसका (भारत का) घरेलू मुद्दा है. इस मुद्दे पर चर्चा कराने की गुरुवार को विपक्षी लेबर सांसदों की मांग पर जैकब रेस-मॉग ने माना कि यह मुद्दा सदन के लिए और ब्रिटेन में समूचे निर्वाचन क्षेत्रों के लिए चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि ब्रिटेन पूरे विश्व में मानवाधिकारों की हिमायत करना जारी रखेगा और वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अपनी मौजूदा अध्यक्षता के तहत भी यह करेगा.

कंजरवेटिव पार्टी के वरिष्ठ सांसद रेस-मॉग ने कहा कि भारत एक बहुत ही गौरवशाली देश है और ऐसा देश है, जिसके साथ हमारे सबसे मजबूत संबंध हैं. मुझे उम्मीद है कि अगली सदी में भारत के साथ हमारे संबंध दुनिया के किसी भी अन्य देश के साथ संबंधों की तुलना में सर्वाधिक महत्वपूर्ण होंगे.

उन्होंने कहा कि चूंकि भारत हमारा मित्र देश है. ऐसे में, सिर्फ यही सही होगा कि हम तभी अपनी आपत्ति प्रकट करें, जब यह लगे कि जो कुछ भी चीजें हो रही हैं, वह हमारे मित्र देश की प्रतिष्ठा के हित में नहीं हैं. उन्होंने कहा कि ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने यह विषय पिछले साल दिसंबर में अपनी भारत यात्रा के दौरान अपने भारतीय समकक्ष एस जयशंकर के समक्ष उठाया था.

रेस-मॉग ने यह जिक्र किया कि ब्रिटिश सरकार किसानों के प्रदर्शन पर करीबी नजर रखना जारी रखेगी. कृषि सुधार भारत का घरेलू नीति से जुड़ा मुद्दा है. हम विश्व में मानवाधिकारों की हिमायत करना जारी रखेंगे. इस महीने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता की जिम्मेदारी के तहत भी ऐसा करेंगे.

ब्रिटिश संसद के आगामी सत्र के एजेंडा से जुड़े विषयों पर सदन की कामकाज समिति की नियमित बैठक के दौरान अपनी प्रतिक्रिया में उन्होंने यह कहा. सदन में लेबर पार्टी की शैडो नेता वेलेरी वाज ने किसानों के प्रदर्शन के मुद्दे को इस महीने की शुरुआत में उठाते हुए इस पर चर्चा कराये जाने पर याचिका समिति द्वारा विचार करने की मांग की थी.

दरअसल, आधिकारिक संसदीय वेबसाइट पर इस महीने की शुरुआत में इस विषय पर 1 लाख से अधिक हस्ताक्षर मिले हैं. हालांकि, निचली सदन के परिसर के वेस्टमिंस्टर हॉल में आम तौर पर होने वाली ऐसी चर्चा महामारी को लेकर लागू पाबंदियों के कारण अभी नहीं हो रही हैं. उन्होंने इसके विकल्प के तौर पर वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से यह करने का सुझाव दिया था.

गोवा मूल के सांसद ने कहा कि सत्याग्रह महात्मा गांधी का शांतिपूर्ण प्रदर्शन था, जो भारतीय डीएनए में है, लेकिन हमने अपनी आजीविका बचाने में जुटे लोगों के खिलाफ भयावह हिंसा के दृश्य देखे हैं. विदेश मंत्री (राब) को लिखे मेरे पत्र का अभी तक मुझे कोई जवाब नहीं मिला है.

लेबर सांसद तनमनजीत सिंह धेसी ने भी इसे धरती का सबसे बड़ा प्रदर्शन करार देते हुए इस पर निचले सदन के मुख्य कक्ष में चर्चा कराये जाने पर जोर दिया है. हाउस ऑफ कॉमंस के प्रथम पगड़ी धारी सिख सदस्य धेसी ने कहा कि 100 से भी अधिक माननीय सदस्यों ने प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को पत्र लिख कर इसमें हस्तक्षेप करने की मांग की है.

हाउस ऑफ कॉमंस ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि एक लाख से अधिक हस्ताक्षर वाली सभी याचिकाओं को याचिका समिति द्वारा चर्चा के लिए योग्य माना जाएगा. ई-याचिका पर हस्ताक्षरों की संख्या अब बढ़ कर 1,14,000 से अधिक हो गई है.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें