1. home Home
  2. world
  3. afghanistan secret data is in hand of pakistan isi can use taliban news prt

पाक के हाथ लगे खुफिया दस्तावेज, खतरे में अफगानिस्तान की सुरक्षा, तीन प्लेन में भरकर ले गया कागजात

पाकिस्तान इस डेटा का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए कर सकता है. गलत हाथ में डेटा लग जाने से अफगानिस्तान की आंतरिक सुरक्षा को भी खतरा हो सकता है. मीडिया रिपोर्ट में ये भी कहा जा रहा है कि दस्तावेजों से भरे बैग लेकर 3 पाकिस्तानी विमान रवाना हुए हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
पाक के हाथ लगे अफगान के खुफिया दस्तावेज
पाक के हाथ लगे अफगान के खुफिया दस्तावेज
Twitter, Symbolic Image

अफगानिस्तान को लेकर एक चौंकाने वाली खबर आ रही है. मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि पाकिस्तान के हाथ अफगानिस्तान का जरूरी डेटा लग गया है. ऐसे में यह भी कहा जा रहा है कि, पाकिस्तान इस डेटा का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए कर सकता है. गलत हाथ में डेटा लग जाने से अफगानिस्तान की आंतरिक सुरक्षा को भी खतरा हो सकता है. मीडिया रिपोर्ट में ये भी कहा जा रहा है कि दस्तावेजों से भरे बैग लेकर 3 पाकिस्तानी विमान रवाना हुए हैं.

सीएनएन-न्यूज 18 को पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के साथ काम कर रहे सूत्र से मिली जानकारी के अनुसार, ये बहुत गोपनीय दस्तावेज थे. जो अब पाकिस्तान की आईएसआई (ISI) के पास चला गया है. बताया जा रहा है कि इन दस्तावेजों में एनडीएस गोपनीय दस्तावेज, हार्ड डिस्क्स समेत कई और महत्वपूर्ण जानकारियां थी. ऐसे में सबको डर सता रहा है कि पाकिस्तान की आईएसआई अब इस डेटा को अपने तरीके से इस्तेमाल करेगी. जिससे अफगानिस्तान की आंतरिक सुरक्षा को भी खतरा हो सकता है.

मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि अफगानिस्तान से जो दस्तावेज पाकिस्तान ले जाया गया है वो अफगानिस्तान में मौजूद पाकिस्तानी राजदूत की सहायता से हुआ है. सूत्रों का ये भी कहना है कि कुछ ही दिनों पहले आईएसआई प्रमुख हामीद फैज को काबुल में देखा गया था. इससे इस बाच को जोर मिल रही है कि, खुफिया दस्तावेजों को आईएसआई अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर सकता है.

गैरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र की विकास एजेंसी का कहना है कि अफगानिस्तान सार्वभौमिक भुखमरी के कगार पर खड़ा है. एजेंसी ने ये भी कहा है कि, यदि स्थानीय समुदायों और उनकी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिये तत्काल कदम नहीं उठाये गये, तो अगले साल के मध्य में यह अनुमान हकीकत में तब्दील हो सकता है.

यूएनडीपी एशिया-प्रशांत की निदेशक कन्नी विंगराज ने गुरुवार को 28 पृष्ठों का आकलन जारी करते हुए कहा कि अगले साल के मध्य तक अफगानिस्तान के सार्वभौगिक गरीबी के दुष्च्रक में फंसने की बहुत अधिक आशंका है. ऐमें में दस्तावेजों का पाकिस्तान के हाथ लगना वाकई में अफगानिस्तान की आंतरिक सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें