26.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

पश्चिम बंगाल : ईएमआइ को जिम्मेदार बता जजेश घाट से लापता व्यवसायी का वेस्टपोर्ट में गंगाघाट पर मिला शव

पुलिस के मुताबिक व्यवसायी ने अपने सुसाइड नोट में कुछ जगहों से व्यवसाय के संबंध में लोन लेने की जानकारी दी थी. उसने यह भी लिखा था कि मेरी मौत के पीछे कोई भी व्यक्ति जिम्मेदार नहीं है, मेरी मौत के लिए सिर्फ बैंक का ईएमआई जिम्मेदार है.

कोलकाता,विकास कुमार गुप्ता : पश्चिम बंगाल गंगाघाट किनारे अपनी कार छोड़कर रहस्यमय तरीके से लापता हो गये व्यवसायी को वेस्टपोर्ट इलाके में गंगाघाट (Gangaghat) किनारे पाया गया. व्यवसायी का नाम संदीपन प्रमाणिक (52) बताया गया है. वह पेशे से रोड कांट्रैक्टर बताये गये हैं. तुरंत उसे कलकत्ता मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाने पर चिकित्सकों ने काफी पहले उसकी मौत होने की जानकारी दी. लगातार पानी में शव रहने के कारण शरीर का अधिकतर हिस्सा सड़ने लगा था. मृतक के बेटे शानोन प्रमाणिक ने उक्त शव के उसके पिता संदीपन के होने की जानकारी दी. प्राथमिक जांच में मिली जानकारी के मुताबिक कर्ज के बोझ तले दबे होने के कारण संदीपन के आत्महत्या करने का अनुमान लगाया जा रहा है.

  • मंगलवार देर रात को गंगा नदी में बरामद व्यवसायी के शव की उसके बेटे ने की शिनाख्त

  • गत 21 दिसंबर को जजेश घाट में गंगा किनारे गाड़ी में सुसाइड नोट और चप्पल छोड़ लापता हुआ था व्यवसायी

  • बेटे ने साउथ पोर्ट थाने में जाकर गंगा में छलांग लगाकर पिता द्वारा आत्महत्या करने की जताई थी आशंका

Also Read: गंगासागर में डूब सकता है कपिल मुनि आश्रम, बचाव के लिए सरकार बना रही मास्टर प्लान
क्या था मामला

पुलिस के मुताबिक गत 21 दिसंबर की शाम को साउथ पोर्ट थानाक्षेत्र में स्थित जजेश घाट में गंगा किनारे एक प्राइवेट कार में एक सुसाइड नोट व चप्पल पड़ा हुआ मिला था. इस बारे में लोगों से खबर पाकर साउथ पोर्ट थाने की पुलिस वहां पहुंची तो पता चला कि पार्क स्ट्रीट थानाक्षेत्र में स्थित लाउडन स्ट्रीट इलाके के निवासी संदीपन प्रमाणिक की वह कार है. उक्त सुसाइड नोट में उन्हीं की राइटिंग है. साउथ पोर्ट थाने की पुलिस ने सुसाइड नोट एवं व्यवसायी के चप्पल के अलावा उस कार को कब्जे में ले लिया. इसकी जानकारी संदीपन के बेटे शानोन प्रमाणिक को देने पर उसने पिता के लापता होने की लिखित शिकायत थाने में दर्ज करायी. पुलिस के सामने शानोन ने उनके पिता द्वारा गंगा में छलांग लगाकर आत्महत्या करने का संदेह व्यक्त किया था. इस घटना के बाद से लगातार गंगा में गोताखोर को उतारकर लापता व्यवसायी की तलाश की जा रही थी.

Also Read: Gangasagar Mela : गंगासागर मेला का शुभारंभ 8 जनवरी से, सुरक्षा के लिहाज से इसरो तकनीक का होगा इस्तेमाल
सुसाइड नोट में लोन की ईएमआइ के कारण आत्महत्या करने का किया था जिक्र

पुलिस के मुताबिक व्यवसायी ने अपने सुसाइड नोट में कुछ जगहों से व्यवसाय के संबंध में लोन लेने की जानकारी दी थी. उसने यह भी लिखा था कि “मेरी मौत के पीछे कोई भी व्यक्ति जिम्मेदार नहीं है, मेरी मौत के लिए सिर्फ बैंक का ईएमआई जिम्मेदार है” प्राथमिक जांच में पता चला था कि संदीपन का पार्क स्ट्रीट के लाउडन स्ट्रीट में घर होने के अलावा उसका दफ्तर न्यू टाउन में आलीशान इमारत में है. यह भी पता चला था कि हाल ही में उसे मोटी राशि के प्रोजेक्ट का कांट्रैक्ट मिला था. उनका व्यवसायी उतना भी मंदा नहीं था, फिर व्यवसायी को मोटी रकम लोन लेने की क्या जरूरत पड़ गयी. वह कितने रुपये का बैंक लोन ले रखे थे, जिसके कारण वह इतना परेशान हो गये कि बैंक लोन के ईएमआइ को जिम्मेदार बताकर उन्हें आत्महत्या का रास्ता चुनना पड़ा. पुलिस इसकी जांच कर रही है.

Also Read: पश्चिम बंगाल : ममता बनर्जी की अध्यक्षता में गंगासागर मेले की तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक आज
कहां मिला शव

पुलिस का कहना है कि मंगलवार देर रात को वेस्टपोर्ट इलाके में स्थित एक गंगाघाट में एक व्यक्ति का शव पड़ा देख लोगों ने पुलिस को इसकी सूचना दी. उस व्यक्ति का चेहरा लापता व्यवसायी संदीपन से मिलता-जुलता था. तुरंत इसकी सूचना संदीपन के परिवार को दी गयी. जिसके बाद संदीपन के बेटे ने उक्त व्यक्ति की पहचान 21 दिसंबर को लापता हुए अपने पिता संदीपन के रूप में की. उनकी मौत आत्महत्या है या फिर वह किसी साजिश के शिकार हो गये हैं, पुलिस इसका पता लगा रही है.

Also Read: Gangasagar Mela : गंगासागर तीर्थयात्रियों को अब अपनी व्यथा सुनाने के लिए नहीं लगाना पड़ेगा थानों का चक्कर

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें