1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. tiktok reliance deal mukesh ambani can invest in tiktok reliance industries may buy bytedane indian bussiness reliance industries evaluating about deal says report rjv

Tiktok Reliance Deal: भारत में फिर से होगी टिकटॉक की एंट्री, मुकेश अंबानी खरीद सकते हैं कारोबार

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
bytedance may sale tiktok India business to Reliance Industries
bytedance may sale tiktok India business to Reliance Industries
fb

Tiktok Reliance Deal, Reliance Industries may Buy Bytedane Indian Bussiness: भारत के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी TikTok में निवेश करने के लिए विचार कर रहे हैं. एक मीडिया रिपोर्ट में इसका दावा किया गया है. रिपोर्ट की मानें, तो यह बातचीत फिलहाल शुरुआती दौर में है और रिलायंस समूह अभी इस शॉर्ट वीडियो आधारित ऐप में निवेश की संभावनाएं टटोल रहा है.

बता दें कि भारत ने जून में 59 चाइनीज ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया था, जिसमें शॉर्ट वीडियो ऐप टिकटॉक (Tiktok) भी था. उसके बाद जुलाई के अंत में भी 15 अन्य चाइनीज ऐप्स पर प्रतिबंध लगा. भारत में प्रतिबंध के बाद Tiktok को अमेरिका में भी बैन करने की मांग उठी. अमेरिका ने टिकटॉक के सामने चीन से नाता तोड़ने की शर्त रखी है. इसी बीच खबर है कि टिकटॉक के भारतीय कारोबार को रिलायंस इंडस्ट्रीज खरीद सकता है.

मालूम हो कि भारत में पाबंदी के बाद ByteDance की स्वामित्व वाली कंपनी TikTok को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है. हालांकि अभी निवेश को लेकर रिलायंस इंडस्ट्रीज और ByteDance की तरफ से कोई भी आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आयी है.

गौरतलब है कि पिछले दिनों गलवान घाटी में 20 भारतीय जवानों की शहादत के बाद भारत में 59 चीनी ऐप्लीकेशन को बैन कर दिया गया था. भारत ने अपने फैसले के पीछे संप्रभुता, सुरक्षा और निजता का हवाला देते हुए बैन की बात कही थी. बता दें कि TikTok पर चीन की सरकार के साथ यूजर के डेटा शेयर करने का आरोप कई देश लगाते रहे हैं.

टिकटॉक के अलावा यूसी ब्राउजर, कैम स्कैनर, शेयर इट, हैलो, लाइक सहित कई ऐप्स को भी बैन कर दिया गया है. बायडू मैप, केवाई, डीयू बैटरी स्कैनर भी बैन हो गया है. बता दें कि सरकार ने इन चीनी एप्स पर आईटी एक्ट 2000 के तहत बैन लगाया है.

भारत में टिकटॉक बैन होने के बाद इसे अमेरिका ने भी अपने यहां बैन कर दिया है. इस बीच पिछले दिनों खबर आयी कि अमेरिका में ट्विटर और चीनी वीडियो शेयरिंग ऐप टिक-टॉक का विलय हो सकता है. डो-जोंस की एक रिपोर्ट में कहा गया है आपसी विलय के लिए दोनों में बातचीत चल रही है और संभव है यह सौदा हो जाए.

डो-जोंस ने कहा है कि सौदे पर बातचीत हो रही है लेकिन यह पूरी हुई या नहीं इसका पता नहीं चल पाया है. ट्विटर का कहना है कि चूंकि यह छोटी कंपनी है इसलिए इसे माइक्रोसॉफ्ट या दूसरे संभावित खरीदारों की तरह एंटी ट्रस्ट जांच का सामना नहीं करना पड़ेगा.

माइक्रोसॉफ्ट पिछले कई सप्ताह से टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइट डांस को खरीदने के लिए सौदेबाजी कर रही है. कहा जा रहा है कि बाइट डांस को खरीदने की होड़ में वह सबसे आगे चल रही है. माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने इस संबंध में अमेरिकी राष्ट्रपति से एक सप्ताह पहले बातचीत की थी. इधर, टिकटॉक का अमेरिकी कारोबार खरीदने की दौड़ में माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के भी शामिल होने की खबर है.

बहरहाल, माना जा रहा है कि टिकटॉक के भारतीय बाजार को रिलायंस के हाथों बेचने में बाइटडांस को सफलता मिल सकती है. रिलायंस के लिए भी यह फायदे का सौदा हो सकता है. इसकी वजह यह है कि भारत में टिकटॉक ऐप काफी पॉपुलर था. इस पर बैन लग जाने से भारतीय यूजर को इसका कोई दूसरा बढ़िया विकल्प नहीं मिल सका है. इसलिए अगर टिकटॉक फिर से शुरू होता है, तो उसे बढ़िया रिस्पॉन्स मिलेगा.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें