1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. india to become ev manufacturing hub 4800 crore invested sbh

EV मैन्युफैक्चरिंग का हब बनेगा भारत, जापानी ऑटोमेकर लगाएगी सबसे बड़ा प्लांट

भारत को जल्द ही इलेक्ट्रिक व्हीकल और स्पेयर पार्ट मैन्यफैक्चरिंग हब बनाने की तैयारी में जुट गयी ही Toyota, अब चार्जिंग स्टेशन के डर से नहीं रुकेगी इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की बिक्री

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
toyota ev manufacturing plant
toyota ev manufacturing plant
social media

Toyota EV: भारत में जल्द ही टोयोटा के द्वारा इलेक्ट्रिक व्हीकल और स्पेयर पार्ट मैन्यफैक्चरिंग प्लांट लगाने की तैयारी की जा रही है. इस प्लांट के लगने के बाद भारत सहित बाहरी देशों में भी हो रही कंपोनेंट्स की मांग को पूरा किया जा सकेगा. Toyota अपने इस मैन्यफैक्चरिंग प्लांट में इलेक्ट्रिक व्हीकल में इस्तेमाल होने वाले पार्ट्स जैसे कि ईवी में इस्तेमाल होने वाली बैटरी, प्लगइन हाइब्रिड, इलेक्ट्रिक पॉवरट्रेन पार्ट्स को मैनुफैक्चर करेगी. इन पार्ट्स को जापान सहित कई अन्य आसियान देशों में भेजे जाने पर भी विचार किया जा रहा है.

सरकार भी कर रही समर्थन

भारत सरकार भी इलेक्ट्रिक वाहनों का समर्थन जोर-शोर से कर रही है. सरकार भी देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को बढ़ावा देने के लिए इन प्रोजेक्ट्स पर अरबों डॉलर का इन्सेन्टिव भी दे रही है. इस प्रोजेक्ट में टोयोटा के लिए भारत में जो भी निवेश किया जायेगा उसका बड़ा हिस्सा Toyota Kirloskar Motor और Toyota Kirloskar Auto Parts के तरफ से किया जायेगा. आपको बता दें Toyota Motor Corp, Aisin Seiki Co. और Kirloskar Systems का जॉइंट वेंचर है. इस प्रोजेक्ट से मोदी के मेक इन इंडिया इनिशिएटिव को भी बढ़ावा मिलेगा.

हाइब्रिड मॉडल्स पर रहेगा फोकस

Toyota भारत में जल्द से जल्द अपने हाइब्रिड मोटर्स को लॉन्च करने पर फोकस कर रही है. टोयोटा का मानना है कि हमें फॉसिल फ्यूल पर अपनी निर्भरता को कम करना चाहिए, और हमारा फोकस भारत में कार्बन डाइऑक्साइड के एमिशन को भी कम करने पर ध्यान देना चाहिए. Toyota का कहना है की हाइब्रिड इंजन वाली गाड़ियां भारतीय बाजार के लिए सबसे ज्यादा सही साबित होगी.

कंपनी करेगी 4,800 करोड़ का निवेश

Toyota ने अपने इस प्रोजेक्ट में 4,800 करोड़ इन्वेस्ट करने की बात कही है. यह प्रोजेक्ट कंपनी के 2050 तक कार्बन न्यूट्रल बनाने की योजना का ही एक हिस्सा है. कंपनी का यह कदम ऐसे समय में आया है, जब भारत सरकार भी देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल को बढ़ावा देने के लिए कई प्रयास कर रही है. टोयोटा के लिए भारत में निवेश का बड़ा हिस्सा टोयोटा किर्लोस्कर मोटर और टोयोटा किर्लोस्कर ऑटो पार्ट्स (टीकेएपी) द्वारा किया जाएगा, जो टोयोटा मोटर कॉर्प, ऐसिन सेकी कंपनी और किर्लोस्कर सिस्टम्स का ज्वॉइंट वेंचर है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें